नेता- अभिनेता, असरकारी

 मिलन सिन्हा

हास्य  व्यंग्य  कविताएं  : नेता- अभिनेता, असरकारी

 netaji नेता-अभिनेता

नेता और अभिनेता

चुनाव  मैदान में  खड़े थे ।

मतदातागण

सोच में पड़े थे ।

उधर, छिड़ा  था  विवाद,

मतदाता देगा

किसका साथ ।

एक के पास था

आश्वासनों और वादों का झोला,

तो  दूसरे  के पास था

भुलावे में रखने का नायाब मसाला ।

ऐसी स्थिति में,

विकट  संकट में था मतदाता

और पुकार रहा था

विधाता-विधाता !

 

असरकारी

नेताजी अब

रोज यह कहते हैं।

कहते हुए अब

नहीं डरते हैं।

यही  कि

जो काम,

अ-सरकारी होंगे

वही,

असरकारी  होंगे !

Leave a Reply

%d bloggers like this: