लेखक परिचय

मिलन सिन्हा

मिलन सिन्हा

स्वतंत्र लेखन अब तक धर्मयुग, दिनमान, कादम्बिनी, नवनीत, कहानीकार, समग्रता, जीवन साहित्य, अवकाश, हिंदी एक्सप्रेस, राष्ट्रधर्म, सरिता, मुक्त, स्वतंत्र भारत सुमन, अक्षर पर्व, योजना, नवभारत टाइम्स, हिन्दुस्तान, प्रभात खबर, जागरण, आज, प्रदीप, राष्ट्रदूत, नंदन सहित विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में अनेक रचनाएँ प्रकाशित ।

Posted On by &filed under कविता.


queue मिलन  सिन्हा

आधुनिक युग

कलयुग तो है ही

‘क्यू’  युग भी है

जहाँ  जाइए वहां  क्यू

नल पर नहाइए,

वहां  क्यू

राशन लेना है,

क्यू  में आइए

बच्चे का एडमिशन है,

क्यू  में आइए

भाषण देना है,

क्यू  में आइए

रोजगार  दफ्तर में

बेकारों के लिए क्यू

श्मशान में

मुर्दों के लिए क्यू

एक दिन  बात – बेबात  पर

पत्नी  से  हो गया  उसका झगड़ा

वो भी मामूली नहीं, तगड़ा

वह  भी आ गया  ताव में

चल दिया  आत्महत्या करने

क़ुतुब मीनार से

कूद कर मरने

मीनार घर से था  दूर

रास्ते में जाम

लगा था भरपूर

यहाँ भी था

क्यू का कमाल

जाम बना था

जी का जंजाल

ऐसे में

उसे उसके ‘स्व’ ने पूछा

फंसा है तू यहाँ

इस क्यू के जाल में

पता नहीं,ऊपर जाकर भी

फंस न जाए  फिर

इसी जंजाल में

उसने सोचा, सही है

मरना भी नहीं है आसान

इतने से ही मैं

कितना हूँ  परेशान ?

सो, बदला उसने अपना इरादा

किया  जीवन से यह वादा

फिर कभी ऐसा विचार

मन में नहीं आने दूंगा

न खुद मरने की सोचूंगा

और न ही किसी और को

इस तरह मरने दूंगा

तब से

जीवन की समस्याओं पर

दुखी और पीड़ित लोगों से

बात करता है

एक-एक को

ठीक से समझाता है

भैया, बेशक जिंदगी में है

कुछ कष्ट

पर इसे न करो

यूँ  ही  नष्ट

चली गयी जो एक बार जिंदगी

फिर, न मिलेगी दोबारा

तो क्यों न  अब से

बने एक  दूसरे  का सहारा

बदलें जीने का नजरिया

बात उसकी थी सच्ची

लगी सबको अच्छी

सचमुच,

‘क्यू ‘ ने उसे सोचने का मौका दिया

कई  और लोगों  को उसने

फिर से जीना सीखा दिया !

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz