लेखक परिचय

शकुन्तला बहादुर

शकुन्तला बहादुर

भारत में उत्तरप्रदेश की राजधानी लखनऊ में जन्मी शकुन्तला बहादुर लखनऊ विश्वविद्यालय तथा उसके महिला परास्नातक महाविद्यालय में ३७वर्षों तक संस्कृतप्रवक्ता,विभागाध्यक्षा रहकर प्राचार्या पद से अवकाशप्राप्त । इसी बीच जर्मनी के ट्यूबिंगेन विश्वविद्यालय में जर्मन एकेडेमिक एक्सचेंज सर्विस की फ़ेलोशिप पर जर्मनी में दो वर्षों तक शोधकार्य एवं वहीं हिन्दी,संस्कृत का शिक्षण भी। यूरोप एवं अमेरिका की साहित्यिक गोष्ठियों में प्रतिभागिता । अभी तक दो काव्य कृतियाँ, तीन गद्य की( ललित निबन्ध, संस्मरण)पुस्तकें प्रकाशित। भारत एवं अमेरिका की विभिन्न पत्रिकाओं में कविताएँ एवं लेख प्रकाशित । दोनों देशों की प्रमुख हिन्दी एवं संस्कृत की संस्थाओं से सम्बद्ध । सम्प्रति विगत १८ वर्षों से कैलिफ़ोर्निया में निवास ।

Posted On by &filed under कविता.


vasant
अप्रिय सदा अभिमान मुझे,पर
प्राणों से भी प्रिय स्वाभिमान।
मुझे मिले सम्मान नहीं,पर
रक्षित रहे आत्मसम्मान ।।
*
मिथ्या-गौरव नहीं चाहिये,
मुझे हो जीने का अधिकार ।
चाहे मुझे मिले न आदर,
क्यों दे कोई तिरस्कार।।
*
चाहे सुयश कभी न पाऊँ,
अपयश रहे सदा ही दूर।
नहीं प्रशंसा की इच्छा,पर
निन्दा मन को करे न चूर।।
*
निज कुटिया ही प्यारी मुझको,
भव्य भवन की चाह नहीं।
मुझको प्रिय स्वदेश ही अपना,
पर विदेश का स्वर्ग नहीं।।
*
सन्तति की ममता ही मुझको
खींच यहाँ ले आई है।
स्वस्थ सुखी ये रहें सदा,
बस यही मुझे सुखदायी है।।
*
मर्यादा में रहें सदा ही,
सादा जीवन उच्च विचार।
मातृभूमि को कभी न भूलें,
चाहें विश्व बने परिवार।।
** ** ** **
– शकुन्तला बहादुर

Leave a Reply

6 Comments on "अस्मिता"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
बी एन गोयल
Guest
बी एन गोयल

सुन्दर – इसे पढ़ते समय याद आयी – एक भारतीय आत्मा की –
‘मुझे तोड़ लेना बनमाली…….. मात भूमि को शीश झुकाने जिस पथ जाते वीर अनेक ………

wpDiscuz