लेखक परिचय

डा. राधेश्याम द्विवेदी

डा. राधेश्याम द्विवेदी

Library & Information Officer A.S.I. Agra

Posted On by &filed under विविधा.


nurse dayडा. राधेश्याम द्विवेदी
नोबल नर्सिंग सेवा की शुरूआत करने वाली ‘फ्लोरेंस नाइटइंगेल’ के जन्म दिवस पर हर साल दुनिया भर में 12 मई को अंतरराष्ट्रीय नर्स दिवस मनाया जाता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन की एक रिपोर्ट के अनुसार दुनिया भर में अमीर और ग़रीब दोनों प्रकार के देशों में नर्सो की कमी चल रही है। विकसित देश अपने यहाँ की नर्सो की कमी को अन्य देशों से बुलाकर पूरा कर लेते है और उनको वहाँ पर अच्छा वेतन और सुविधाएँ देते है जिनके कारण वे विकसित देशों में जाने में देरी नहीं करती है। दूसरी ओर विकासशील देशों में नर्सो को अधिक वेतन और सुविधाओं की कमी रहती है और आगे का भविष्य भी अधिक उज्ज्वल नहीं दिखाई देता जिसके कारण वे विकसित देशों के बुलावे पर नौकरी के लिए चली जाती है। रोगी और नर्स के अनुपात में अंतर दुनिया में अधिकांश देशों में आज भी प्रशिक्षित नर्सो की भारी कमी चल रही है लेकिन विकासशील देशों में यह कमी और भी अधिक देखने को मिलती है। भारत में विदेशों के लिए नर्सो के पलायन में पहले की अपेक्षा कमी आई है लेकिन रोगी और नर्स के अनुपात में अभी भी भारी अंतर है।
ट्रेंड नर्सेस एसोसिएशन ऑफ इंडिया की महासचिव के अनुसार सरकार द्वारा उठाए गए कदमों के कारण भारत में प्रशिक्षित नर्सो की संख्या में कुछ सुधार हुआ है। अच्छे वेतन और सुविधाओं के लिए पहले जितनी अधिक संख्या में प्रशिक्षित नर्से विदेश जाती थी, आज उनकी संख्या में कमी आई है। रोगियों की संख्या में लगातार वृद्धि होने के कारण रोगी और नर्स के अनुपात में अंतर बढ़ा है, जिस पर सरकार को गंभीरता से ध्यान देना चाहिए। सरकारी अस्पतालों में नर्सो को छठे वेतन आयोग की सिफारिशों के आधार पर वेतन और अन्य सुविधाएँ मिल रही है। उनकी हालत में भारी सुधार आया है जिससे नर्सो का पलायन काफी रुका है लेकिन कुछ राज्यों और गैर सरकारी क्षेत्रों में आज भी नर्सो की हालत अच्छी नहीं है। उन्हें लंबे समय तक कार्य करना पडता है और उनको वे सुविधाएँ नहीं दी जाती है जिनकी वे हकदार हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के अनुसार सरकारी चिकित्सा महाविद्यालयों और अस्पतालों में नर्सो की कमी को ध्यान में रखते हुए विवाहित महिलाओं को भी नर्सिंग पाठयक्रम में प्रवेश लेने की अनुमति दी गई है।राष्ट्रीय फ्लोरेंस नाइटिंगल पुरस्कार नर्सों की सराहनीय सेवा को मान्यता प्रदान करने के लिए भारत सरकार के परिवार एवं कल्याण मंत्रालय ने राष्ट्रीय फ्लोरेंस नाइटिंगल पुरस्कार की शुरुआत की। पुरस्कार प्रत्येक वर्ष 12 मई को दिये जाते हैं। स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने 1973 से अभी तक कुल 237 नर्सों को इस सम्मानित किया है। यह पुरस्कार प्रति वर्ष माननीय राष्ट्रपति द्वारा प्रदान किये जाते हैं।
आधुनिक नर्सिंग की संस्थापक फ्लोरेंस नाइटिंगल का जन्म 12 मई, 1820 को हुआ था। 1965 से अभी तक यह दिन प्रत्येक वर्ष इंटरनेशनल काउंसिल ऑफ नर्सेज द्वारा अन्तर्राष्ट्रीय नर्स दिवस के रूप में मनाया जाता है। इंटरनेशनल काउंसिल ऑफ नर्सेज, नर्सों के लिए नए विषय की शैक्षिक और सार्वजनिक सूचना की जानकारी की सामग्री का निर्माण और वितरण करके इस दिन को याद करता है। फ्लोरेंस नाइटिंगल पुरस्कार में 50 हज़ार रुपए नकद, एक प्रशस्ति पत्र और मेडल दिया जाता है।
इस बारे में एक सरकारी अस्पताल में नर्स अनिता थॉमस कहती हैं नर्स अस्पताल का एक अभिन्न हिस्सा होती है। मरीज की देखभाल में हम कोई कसर नहीं छोड़ते। लेकिन फिर भी हमें पर्याप्त महत्व नहीं दिया जाता। सेवा भाव से मरीज की देखभाल करने वाली नर्सें कभी शिकायत नहीं करतीं कि उन पर काम का दबाव अधिक है या उनके साथ अच्छा व्यवहार नहीं किया गया। लेकिन सच यही है कि उन्हें इस तरह की कई प्रतिकूल स्थितियों का सामना पड़ता है। सरकार द्वारा उठाये गये कई कदमों के कारण देश में प्रशिक्षित नर्सों की संख्या में कुछ सुधार हुआ है। लेकिन हालात देखते हुए यह पर्याप्त नहीं है। अच्छे वेतन और सुविधाओं के लिए पहले बड़ी संख्या में प्रशिक्षित नर्से विदेश जाती थी, पर अब ऐसा नहीं है। रोगियों की संख्या में लगातार वृद्धि हो रही है जिसे देखते हुए प्रशिक्षित नर्सों की संख्या भी बढ़ाई जानी चाहिए। साथ ही उनके वेतनमान और सुविधाओं में भी वृद्धि की जानी चाहिए।
विश्व बैंक की एक रिपोर्ट में भी कहा गया है कि अच्छे वेतनमान और सुविधाओं के लालच में आज भी विकासशील देशों से बड़ी संख्या में नर्सें विकसित देशों में नौकरी के लिए जाती है जिससे विकासशील देशों को प्रशिक्षित नर्सों की भारी समस्या का सामना करना पड़ रहा है। नर्सों की जिम्मेदारी कम नहीं होती। डॉक्टर हर समय मरीज की देखभाल के लिए उपलब्ध नहीं रहते। कई बार आपात स्थिति में नर्सों का अनुभव ही काम आता है। नर्सों की शिफ्ट ड्यूटी रहती है। कई बार अगली शिफ्ट की किसी नर्स के न आने पर उस नर्स को छुट्टी नहीं मिलती जिसकी शिफ्ट खत्म होती है। ऐसे में उस पर काम का दोहरा दबाव होता है जबकि वह पूरी तरह थक चुकी होती है। ये कुछ ऐसे पहलू हैं जिन पर ध्यान देना चाहिए।
विश्व स्वास्थ्य संगठन की एक रिपोर्ट के अनुसार दुनिया भर में अमीर और गरीब दोनों प्रकार के देशों में नर्सो की कमी चल रही है। विकसित देश अपने यहाँ की नर्सो की कमी को अन्य देशों से बुलाकर पूरा कर लेते है और उनको वहाँ पर अच्छा वेतन और सुविधाएँ देते है जिनके कारण वे विकसित देशों में जाने में देरी नहीं करती है। दूसरी ओर विकासशील देशों में नर्सो को अधिक वेतन और सुविधाओं की कमी रहती है और आगे का भविष्य भी अधिक उज्जवल नहीं दिखाई देता जिसके कारण वे विकसित देशों के बुलावे पर नौकरी के लिए चली जाती है।अधिकारी ने बताया कि दोनों डिप्लोमा और पोस्ट ग्रेजुएट कार्यक्रमों के लिए शिक्षकों की भागीदारी बढाने के संबंध में कुछ और कदम भी उठाए गए हैं। जिन राज्यों में नर्सो और नर्सिंग कालेज में शिक्षकों की भारी कमी चल रही है वहाँ पर 269 नर्सिंग स्कूल खोलने और राज्य स्तर पर प्रति संस्थान 20 करोड़ रुपए देने का फैसला किया गया है। इसके अलावा 14 राज्य नर्सिंग परिषदों को मजबूत करने के लिए प्रत्येक को एक करोड़ रुपए देने का फैसला किया गया है। ग्रेजुएट नर्सो की संख्या भी बढ़ाने का फैसला किया गया है। देश में इस समय 1100 जनसंख्या पर एक नर्स है।
दिल्ली स्थित विश्व स्वास्थ्य संगठन कार्यालय की निधि चौधरी का कहना है कि देश में महानगरों और बड़े शहरों में चिकित्सा व्यवस्था कुछ ठीक होने के कारण वहाँ पर नर्सो की संख्या में इतनी कमी नहीं है जितनी छोटे शहरों और गाँवों में है। किसी भी देश में नर्सो की कमी उस देश के खराब चिकित्सा व्यवस्था को बताती है। नर्सो की कमी का सीधा प्रभाव नवजात शिशु और बाल मृत्यु दर पर पड़ता है।
डा. राधेश्याम द्विवेदी

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz