लेखक परिचय

डा. राधेश्याम द्विवेदी

डा. राधेश्याम द्विवेदी

Library & Information Officer A.S.I. Agra

Posted On by &filed under खेल जगत, मनोरंजन, विविधा.


pressडा. राधेश्याम द्विवेदी
घटनाओं का लिखित रूप में वर्णन करने के लिये बहुत सी शैलियों का प्रयोग किया जाता है जिन्हें “पत्रकारिता शैलियाँ” कहते हैं। समाचार पत्रों और पत्र-पत्रिकाओं में प्रायः विशेषज्ञ पत्रकारों द्वारा लिखे गए विचारशील लेख प्रकाशित होते है जिसे “फीचर कहानी” (रूपक) का नाम दिया गया है। फीचर लेख ज़्यादातर लम्बे प्रकार के लेख होते है जहाँ सीधे समाचार सूचना से अधिक शैली पर ध्यान दिया जाता है। २० वी सदी के अंतिम छमाही से सीधे समाचार रिपोर्टिंग और फीचर लेखन के बीच की रेखा धुंधली हो गई हैं। पत्रकारों और प्रकाशनों आज अलग-अलग दृष्टिकोण के साथ लेखन पर प्रयोजन कर रहे है। टॉम वोल्फ, गे टलेस, हंटर एस. थॉम्पसन आदि इन उदाहरणों मे से कुछ है। शहरी और वैकल्पिक साप्ताहिक समाचार पत्रों इस विशिष्टता को और भी धुंधला कर रहे है। कई पत्रिकाओं में सीधी खबर से ज्यादा फीचर लेख पाए जाते है। कुछ टेलीविज़न समाचार प्रदर्शनों ने वैकल्पिक स्वरूपों के साथ प्रयोग किया, और इस वजह से कई टेलीविज़न प्रदर्शनों को पत्रकारिता के मानकों के अनुसार न होने के वजह से समाचार प्रदर्शन नहीं माना गया।
खेल पत्रकारिता:- खेल मानव व्यायामी प्रतियोगिता के कई पहलुओं को सम्मिलित करता है। साथ ही अकबरो, पत्रिकाओं, रेडिओ और टेलीविज़न समाचार प्रसारण जैसे पत्रकारिता उतपादो का अभिन्न अंग है। जहाँ कुछ आलोचकों खेल पत्रकारिता को सही मायने में पत्रकारिता नहीं मानते, वही पशिचमी संस्कृति में खेल की प्रमुखता ने प्रतिस्पर्धात्मक खेलों पर पत्रकारों के ध्यान को व्यायोचित रूप दिया है। इसमें एथलीटों और खेल के कारोबार पर भी ध्यान दिया गया है। खेल पत्रकारिता जैसा कि नाम से पता चलता है, खेल खेल विषयों और घटनाओं पर पत्रकारिता की रिपोर्ट और यह किसी भी समाचार मीडिया संगठन का एक अनिवार्य तत्व है. खेल मंि कैरियर आज अपने उफान पर है और जो भी खेल पत्रकारों के लिए अद्भुत कैरियर के अवसरों के रूप में अच्छी तरह से लाता है. टेलीविजन, रेडियो, पत्रिकाओं, इंटरनेट लोगों के जीवन का एक अभिन्न हिस्सा बन गए हैं. उनमें से कई विभिन्न खेलों के उत्साही प्रशंसक रहे हैं, वे नवीनतम अद्यतन और उनके खेल में समाचार प्राप्त करने के लिए टीवी, वेबसाइटों, समाचार पत्र के लिए स्विच. इस प्रकार, खेल पत्रकारिता के दायरे से धीरे – धीरे बढ़ती जा रही है. खेल पत्रकारिता में कैरियर रिपोर्टिंग के खेल के लिए छात्रों को तैयार करता है और भी उन्हें एक खेल लेखक और मीडिया पेशेवरों का उपयोग के लेखन के साथ परिचय. लेकिन अभी भी एक बहुत कुछ इस क्षेत्र में किया, यह निराशाजनक है कहना है कि वहाँ काफी अच्छा खेल पत्रिकाओं के भारतीय भाषाओं में नहीं हैं. अंग्रेजी खेल पत्रिकाओं के एक जोड़े जो सीमित खेल प्रशंसकों लेकिन कई लोग हैं, जो अंग्रेजी में सहज महसूस नहीं कर रहे हैं खेल प्यार की जरूरत है कि यह विशेषाधिकार का आनंद नहीं के साथ पूरा बाजार में उपलब्ध हैं
खेल पत्रकारिता के दायरे:- आज यह एक पुरस्कृत व्यवसाय है जो प्रतिभाशाली और कुशल खेल मीडिया पेशेवरों की आवश्यकता है. एक खेल पत्रकार आप अपने विषय के अंदर बाहर पता है और इस व्यवसाय में एक चिह्न बनाने के लिए एक जुनून है की जरूरत हो. यह भी कड़ी मेहनत और जिम्मेदारी की बहुत मांग है. हालांकि, आकर्षक पुरस्कार, एक खेल पत्रकार के खेल में बॉक्स सीटें हो जाता है, अंतरराष्ट्रीय खेल स्टार मिलता है, जोखिम की बहुत हो जाता है, जबकि एक देश से दूसरे करने के लिए यात्रा, लोग हैं जो पाठकों और प्रशंसकों से ओलंपिक एथलीटों और प्रसिद्धि appreciations ट्रेन को पता करने के लिए हो रही है.
आज, इंटरनेट खेल पत्रकारिता का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बन गया है. लगभग सभी पत्रकारों को जमीन शून्य से शुरू कर दिया है. तो अगर आप एक महत्वाकांक्षी पत्रकार हैं, आप अपनी पसंदीदा टीम या विशेष रूप से खेल पर अपने ब्लॉग के साथ शुरू कर सकते हैं. यह आप स्वयं प्रकाशित क्लिप के अपने पोर्टफोलियो का निर्माण करने में मदद करता है और अगर किसी भी खेल संगठन अपने ब्लॉग दिलचस्प पाता है तो आप भी उनके साथ काम करने का मौका मिल सकता है.आज खेल पत्रकारिता लंबे समय फार्म लेखन में बदल गया है, यह भी लोकप्रिय खेल है जो आत्मकथाएँ, इतिहास, और जांच में शामिल करने पर किताबें. कई पश्चिमी देशों में उनके खेल पत्रकारों की अपनी राष्ट्रीय संघ है. भारत में खेल पत्रकारिता में हाल ही में वृद्धि की गई है. विभिन्न अग्रणी समाचार पत्रों में खेल स्तंभ में पाठकों के बीच व्यापक रूप से लोकप्रिय है. आज भारतीयों को क्रिकेट न सिर्फ सराहना करते हैं लेकिन वे भी फुटबॉल, हॉकी, कुश्ती, मुक्केबाजी आदि. जैसे भी अन्य खेलों के महत्व को समझ में आ गया है. खेल पत्रकारिता में एक डिग्री है जो अपने लेखन और रिपोर्टिंग कौशल बढ़ाने के लिए है.
भारत में आज दो ही तरह के सितारे छाये रहते हैं। फिल्मों के और क्रिकेट के। हम सभी में एक बात उभयनिष्ठ होगी वो ये कि हम क्रिकेट के जितने खिलाड़ियों के नाम जानते हैं उतने बाकी खेलों के खिलाड़ियों के नहीं। इस सब में हम भी शामिल हैं। लेकिन जिस “डिपार्टमेंट” की ये सबसे बड़ी ज़िम्मेदारी थी जिसे हमेशा तटस्थ रहना था उसकी लापरवाही का खामियाज़ा कई खेलों को आज और भविष्य में भुगतना पड़ेगा। जिसके लिए अभी समय है। यदि बाकी खेलों को जगह दी जाने लगे तो सम्भव है कि उनकी लोकप्रियता बढे। और वे सिर्फ कामनवेल्थ और ओलम्पिक के समय याद न किये जाएं। वर्ण बहुत सम्भव है कि जिस तरह आज भारत सरकार कथित तौर पर कई भाषाओँ और संस्कृतियों को बचने के प्रयास कर रही है एक दिन उसे खेल भी न बचाने पड़ें।
2 जुलाई खेल पत्रकारिता दिवस:- प्रत्येक वर्ष को 2 जुलाई का दिन विश्व खेल पत्रकारिता दिवस के तौर पर मनाया जाता है। यह दिन खेल जगत की खबरें देने वाली मीडिया के श्रेष्ठ कार्यों को सम्मानित करने का दिन होता है। खेल पत्रकारिता खेल से संबंधित एक विशिष्ट प्रकार का कार्य है जिससे पैसा, नाम, पहुँच और प्रभाव सबकुछ मिलता है। लगभग सभी मीडिया ग्रुप में खेल पत्रकारिता का अलग प्रभाग होता है। आज के युग में खेल को दुनिया में शांति और भाईचारा को प्रोत्साहन देने के लिए उपयोग में लाए जा सकने वाले प्रत्येक अवसर को कैमरे में कैद करना बहुत जरूरी है। हमें खेल से सीख लेनी चाहिए कि इसी की तरह हमें अपने सारे कार्यों में निष्पक्ष और ईमानदार रहना चाहिए। खेल पत्रकारिता की जिम्मेदारी है कि वह सभी देशों के बीच शांति और सौहार्द का उदाहरण प्रस्तुत करे। ‘एक खेल पत्रकार न सिर्फ खेल की दुनिया, बल्कि पूरी दुनिया को अधिक बेहतर बनाने की दिशा में कार्य कर सकता है – फिर वह दुनिया चाहे संस्कृति से संबंध रखती हो या शांति अथवा अच्छे आदर्शों से संबंधित ही क्यों न हो।’ भारत के सबसे सफल कप्तान सौरव गांगुली ने खेल पत्रकारिता में कदम रखकर अपने करियर में नई पारी की शुरुआत की। गांगुली को विजडन इंडिया के संपादकीय बोर्ड का अध्यक्ष बनाया गया है।
माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय के ग्वालियर परिसर में सार्थक शनिवार कार्यक्रम के अंतर्गत खेल पत्रकारिता का महत्व विषय पर चर्चा की गई। इस अवसर पर परिसर प्रभारी डॉ. नरेन्द्र त्रिपाठी ने कहा कि खेल पत्रकारिता का विशेष महत्व हैं। आज खेल पत्रकारिता में कैरियर की काफी संभावनाएं हैं। डॉ. मणिकांत ठाकुर ने कहा कि भाषा, अभिव्यक्ति और संप्रेषणशीलता के साथ साथ खेल पत्रकारिता की खेल तकनीकी और उसकी बारीकियों की भी जानकारी होना आवश्यक है। मधुकर सिंह ने कहा कि हमारे जीवन में खेल का काफी महत्व है। इस अवसर पर धर्मेन्द्र दांगी के साथ छात्र प्रेमशंकर, देवकुमार, प्रशांत कुमार, रविन्द्र सिंह विशेष रुप से उपस्थित थे।

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz