लेखक परिचय

डा. राधेश्याम द्विवेदी

डा. राधेश्याम द्विवेदी

Library & Information Officer A.S.I. Agra

Posted On by &filed under राजनीति.


अमित शाह का मास्टर प्लान:
बीजेपी का नया गठबंधन
डा. राधेश्याम द्विवेदी
उत्तर प्रदेश को वाकई उत्तम प्रदेश बनाने के लिये केंद्र और राज्य में एक विचारधारा की सरकारें होनी चाहिये। दिल्ली इसका प्रत्यक्ष उदाहरण आप देख ही रहें है।राज्य केंद्र का बजट इसलिए खर्च नहीं कर पाती क्योंकि उसमे घपला नहीं कर पाती उलटे संसाधन का रोना भी रोती है।मनमानी और अपनों को खुश रखने के लिए पक्षपात पूर्ण यजनाये: कन्या विद्याधन, लैपटाप और वेरोजगारी भत्ता जैसे वेवकूफ वनाने वाली योजनाये चलाती है। जनता जागरूक हो गई है और बहुत सोच समझ कर सरकार का चयन करेगी। भाजपा का अपना दल व भारतीय समाज पार्टी (भासपा) से नया गठबंधन जरूर उम्मीद दे सकता है। प्रदेश विधानसभा चुनाव तो अगले साल होने हैं अब बीजेपी ने यूपी चुनाव की तैयारियां शुरू कर दी है। इस विधानसभा चुनाव में बीजेपी पर 2014 के लोकसभा चुनाव जैसा परफॉर्मेंस दोहराने का दबाव तो है ही साथ ही इस चुनाव को 2019 के लोकसभा चुनाव के लिए भी काफी अहम माना जा रहा है। यही वजह है कि बीजेपी ने अति पिछड़ी जातियों के वोटरों के बीच पहुंच बढ़ाने की कोशिशें तेज कर दी हैं और मोर्चा एक बार फिर बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने संभाला है। पिछड़ी जातियों का समीकरण:-उत्तर प्रदेश में अति पिछड़ी जाति के वोटरों की संख्या 30 फीसदी है। ईबीसी के अंतर्गत कुर्मी, लोध और कोइरी वोटरो की संख्या ज्यादा है। अब तक के विधानसभा चुनावों में सपा और बसपा इन समुदायों का वोट हासिल करने के लिए क्षेत्रीय नेताओं पर दांव खेलती है, लेकिन बीजेपी की अच्छी खासी पकड़ लोध जाति के वोटरों पर है और इसका कारण कल्याण सिंह और उमा भारती जैसे नेताओं का इस जाति से होना है। बीजेपी ने इस साल कोईरी को लुभाने के लिए केशव प्रसाद मौर्य को प्रदेश अध्यक्ष की जिम्मेदारी सौंप दी है। 2014 के लोकसभा चुनाव में कुर्मी एकजुट होकर बीजेपी का समर्थन किया था लेकिन इससे पहले ऐसा कम ही देखा गया है। इन समुदायों पर अब किसी एक पार्टी की मजबूत पकड़ नहीं है और ऐसे में सभी पार्टियां इन्हें अपनी तरफ खींचने में लगी है। यूपी में अगड़ी जातियों के वोटरों का हिस्सा करीब 24 फीसदी है। और राजनीतिक विश्लेषकों का ऐसा मानना है कि ये मतदाता बीजेपी की तरफ झुके हुए हैं। प्रदेश में 18 पर्सेंट मुस्लिम वोटर समाजवादी पार्टी के साथ मजबूती से जुड़े हुए हैं। लेकिन इन सबके बीच अगर कांग्रेस भी अपनी स्थिति में सुधार कर पाई तो इसमें कोई दो राय नहीं कि सेक्युलर वोट में बिखराव होगा और इससे सियासी गणित भी बिगड़ेंगे। चुनावी विश्लेषकों का मानना है कि कांग्रेस अपना वोट शेयर तो बढ़ा लेगी, लेकिन सीट नहीं बढ़ा पाएगी जो बीजेपी के लिए अच्छा होगा।
अमित शाह का मास्टर प्लान:-अमित शाह हमेशा से चुनाव और संगठन की दृष्टि से एक अच्छे रणनीतिकार माने जाते रहे हैं। दलितों को अपने साथ जोड़ने की शुरुआत अमित शाह ने कर दी है। बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लोकसभा क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले सेवापुरी विधानसभा क्षेत्र में एक गांव में एक दलित परिवार के साथ जमीन पर बैठकर खाना खाया। यही नहीं इससे पहले दलित साधुओं के साथ स्नान करके भी अमित शाह ने एक सियासी दांव चला था। अमित शाह ने सोशल इंजीनियरिंग के जरिए विपक्षी पार्टियों में सेंध लगाने के जिम्मा यूपी बीजेपी अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य को सौंपा है। जातिगत समीकरणों को ध्यान में रखकर ही मुख्तार अब्बास नकवी को यूपी से राज्यसभा न भेजकर झारखंड से भेजा और उनकी जगह एक पुराने ब्राह्मण चेहरे शिव प्रताप शुक्ला को लाया गया। जातिगत समीकरणो को ध्यान में रखते हुए पार्टी ने इस बार 94 जिला अध्यक्षों और नगर अध्यक्षों में से 44 पिछड़ी और अति पिछड़ी जाति से, 29 ब्राह्मण, 10 ठाकुर, 9 वैश्य और 4 दलित समाज से बनाए हैं ।पिछले 2 दशकों में जिला अध्यक्ष अधिकतर ब्राह्मण और ठाकुर ही बनाए जाते थे। यूपी में यादव, जाटव और मुस्लिम 35 फीसदी हैं और यह वोटबैंक बीजेपी के पक्ष में कभी नहीं रहा है। यही वजह है कि बीजेपी की नजर बाकी 65 फीसदी पर है और इसी समीकरण को साध कर बीजेपी यूपी में परचम लहराना चाहती है। बीजेपी ने बीएसपी से सीट ना मिलने से नाराज राम भरुहल निषाद को पार्टी में लाने की तैयारी शुरू कर मायावती के वोटबैंक में भी सेंध लगाने की पूरी तैयारी कर ली है।
अमित शाह ने कार्यकर्ताओं के लिए अटेंडेस कार्ड्स भी जारी किया है। इस कार्ड का फायदा अमित शाह लोकसभा चुनाव में भी देख चुके हैं। नए इलेक्ट्रॉनिक कार्ड्स से नेता और वर्कर्स के पास एक यूनीक नंबर आ जाएगा। इसके जरिए वो लाइब्रेरी, पॉलिसीस और डॉक्यूमेंट्स को देखने के साथ साथ मीटिंग्स की जानकारी भी सीधे बड़े नेताओं को भेज सकेंगे। इससे जमीन पर क्या काम हो रहा है, इसकी जानकारी सेंट्रल लीडरशिप को मिल सकेगी। ऑनलाइन कार्ड्स की ये व्यवस्था जुलाई में पूरी तरह शुरू हो जाएगा। इसके पहले फेज में करीब 1800 डिवीजनल ऑफिस इंचार्ज ऑनलाइन हो जाएंगे। इसके बाद 1.5 लाख वर्कर्स को इससे जोड़ा जाएगा जो बूथ लेवल पर काम करेंगे। मायावती के कोर वोट बौद्ध भिक्षुओं में भी सेंध लगाने की पूरी तैयारी बीजेपी ने कर ली है। कुछ अन्य छोटी जातियां जिनका प्रभाव कुछ विधानसभा क्षेत्रों तक सीमित है, बीजेपी उन्हे अपने साथ लाने की कोशिश कर रही है। उदाहरण के लिए राजभर जाति का देवरिया, बलिया, आजमगढ़, सलेमपुर और गाजीपुर समेत कई अन्य जिलों में प्रभाव है और बीजेपी इन्हे अपने साथ लाने के फिराक में है। दूसरी तरफ यूपी की एक और पिछड़ी जाति की पार्टी अपना दल के साथ बीजेपी का पहले से ही गठबंधन हैं जिसका प्रभाव प्रतापगढ़, जौनपुर, इलाहाबाद, वाराणसी और मिर्जापुर में आने वाली लगभग 30 विधानसभा सीटों पर है। जाहिर है इन गठबंधनों के सहारे बीजेपी पूर्वांचल और इससे सटे जिलों की 100 से अधिक सीटों पर काफी मजबूत बनकर उभरेगी।
आर. एस. एस. का साथ:- यूपी चुनाव के लिए अमित शाह आरएसएस का भी भरपूर साथ लेंगे। इसी को देखते हुए आरएसएस और अमित शाह ने लखनऊ में केशव प्रसाद मौर्य, ओम माथुर, सुनील बंसल और शिव प्रकाश जैसे नेताओं को सक्रिय कर रखा है, जो पार्टी को जीत दिलाने में रणनीतियां बना रहे हैं। बीजेपी के प्रदेश प्रवक्ता चन्द्रमोहन का भी संबंध संघ से ही है। इस टीम से साफ लग रहा है कि 2014 की तरह की चुनाव कैम्पेन चलाया जाएगा। इससे पहले गुजरात चुनाव में भी इसी तरह का मॉडल अपनाया गया था। पार्टी ने साफ किया है कि चुनाव में मुख्य मुद्दा विकास विकास का मुद्दा फिर होगा लेकिन जरूरत पड़ने पर पार्ची अक्रामक हिंदुत्व के एजेंडे पर भी आ सकती है। जाहिर है अमित शाह दोनों मुददों को साथ लेकर चलना चाह रहे हैं। अमित शाह के सामने सबसे बड़ी चुनौती गुटबाजी को रोकना होगा। खासकर सीएम पद की दावेदारी में कई नाम उछाले जाएंगे और इससे गुटबाजी बढ़ने की संभावना लगातार बनी रहेगी।
अखिलेश के सामने मजबूत उम्मीदवार:- यूपी चुनाव में रैलियों का मोर्चा भी अध्यक्ष अमित शाह और गृह मंत्री राजनाथ सिंह संभालेंगे। अमित शाह अपनी रणनीति के तहत यूपी में स्थानीय नेताओं को तवज्जो देने पर काम कर रही है। पार्टी प्रदेश अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य ने जिला अध्यक्षों की घोषणा में भी इस बात का पूरा ध्यान रखा है। हर ज़िले में जाति के आधार पर ऐसे नेताओं को चुना गया जो पार्टी के काम में बरसों से लगे हैं। ।माना जा रहा है कि अगले एक महीने में अमित शाह और राजानाथ सिह अलग-अलग 6-6 रैलियों को संबोधित करेंगे। शाह ने पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ ‘बड़ी बैठकों’ की योजना भी बनाई है। इन बैठकों में 10,000 पार्टी कार्यकर्ता शामिल होंगे। शाह की रणनीति 2014 के कैंपेन की तरह ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचने की है और यही कारण है कि पीएम मोदी के भरोसेमंद ओम माथुर यूपी में इलेक्शन मैनेजमेंट संभालेंगे। यूपी को बीजेपी के चुनाव प्रचारकों के लिए छह जोन में बांटा जाएगा और सभी जोनल हेड माथुर को रिपोर्ट करेंगे। यही नहीं इस चुनाव में अमित शाह ने किसी भी पीआर एजेंसी के सहयोग से भी इंकार कर दिया है। हालांकि लोकसभा चुनाव में भी अमित शाह ने यूपी में एजेंसी की मदद नहीं ली थी।
पिछले आंकड़े:- यूपी के विधानसभा चुनावों का ट्रेंड पिछले तीन चुनावों में बीजेपी के खिलाफ ही रहा है। 2002, 2007 और 2012 के विधानसभा चुनाव में मुख्य मुकाबला सपा और बसपा के बीच रहा है। इन चुनावों में बीजेपी तीसरे स्थान पर रही है। 1991 में पार्टी ने किसी को सीएम उम्मीदवार घोषित नहीं किया था और उसे 415 में से 221 सीटें मिली थीं। यह उसका श्रेष्ठ प्रदर्शन था। 2012 के चुनाव में बीजेपी को 15 फीसदी वोट मिले थे जो बसपा के करीब आधे थे। 2012 के यूपी विधान सभा चुनाव में बीजेपी को 15 फीसदी वोट मिले थे और 2014 के लोकसभा चुनाव में उसका वोट शेयर बढ़कर 42.63 फीसदी हो गया। बीजेपी को यहां तक पहुंचाने में राज्य की अति पिछड़ी जातियों के वोटरों की अहम भूमिका रही। परंपरागत रूप से पहले ये मतदाता मायावती के साथ थे और कुछ संख्यां में ये समाजवादी पार्टी के साथ भी थे।
बसपा के लिए नासूर:- बीसपी की मुसीबते कम कोने का नाम नहीं ले रही है। एक तरफ बीएसपी के बड़े नेता सुप्रीमो मायातवी का साथ छोड़ते जा रहे है तो दूसरी तरफ बसपा के टूटने का सिलसिला फिर शुरू हो सकता है। 9 जुलाई को मऊ में होने वाली भारतीय समाज पार्टी (भासपा) के सम्मेलन में बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह मुख्य अतिथ होगे। इसी दिन बीजेपी व भासपा के गठबंधन की घोषणा भी होगी। भासपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष का दावाAmit-Shah है कि बीएसपी के सैकड़ो नेता ने उनके सम्पर्क साधा है और वह बीजेपी व भासपा के गठबंधन में शामिल होना चाहते है। इसी दिन इस बात का खुलासा किया जायेाग कि कौन लोग हमारे साथ आयेंगे।यूपी विधानसभा चुनाव से पहले ही बीजेपी ने छोटे दलो से गठबंधन करके बड़ी लकीर खींच दी है। पूर्वांचल की राजनीति में यह गठबंधन निर्णायम भूमिका निभा सकते हैं। बीजेपी में चाणक्य माने जाने वाले अमित शाह ने राजनीति की जो बिसात बिछायी है उस सपा व बसपा फंसते जा रहे है। चुनाव के पहले ही बसपा में इतनी भगदड़ मची है कि पार्टी के लिए खतरनाक संकेत है।
बीजेपी व भासपा के गठबंधन से समीकरण बदलेगा:- बीजेपी ने इस बार जो पिछड़ो व अति पिछड़ो को अपने तरफ करने की जो रणनीति बनायी है वह काफी कारगर साबित हो रही है। केशव प्रसाद मौर्या के बीजेपी ने अपना दल से गठबंधन की घोषणा की। पिछड़े वर्ग में मौर्या वोट बैंक के साथ पटेल वोट भी जुड़ गया। इसके बाद अपना दल से गठबंधन हो जाने के बाद राजभर समाज का वोट भी बीजेपी से जुड़ जायेगा। खास बात है की पटेल समाज को छोड़ दिया जाये तो अन्य दो वर्ग ने वर्ष 2012 में हुए विधानसभा चुनाव में बीजेपी को वोट नहीं दिया था लेकिन इस बार होने वाले विधानसभा चुनाव में यह जातियां बीजेपी के साथ जा सकती है।
बसपा के सैकड़ो नेता है सम्पर्क में:- भारतीय समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर ने कहा कि बसपा के पूर्व एमएलए और वर्तमान में पदाधिकारी भी हम लोगों के सम्पर्क में है। यह लोग बीजेपी व भासपा के गठबंधन में शामिल होना चाहते है। इसका खुलासा 9 जुलाई को किया जायेगा। उन्होंने कहा कि 9 जुलाई को मऊ के रेलवे मैदान में रैली की तैयारी तेज चल रही है। यहां पर 90 हजार स्क्वायर फीट का वाटरप्रूफ पंडाल बनाया जा रहा है। इसमे 70 से 80 हजार लोगों की भीड़ जुटायी जायेगी। उन्होंने कहा कि भासपा के अति दलित-अति पिछड़ा महापंचायत के आयोजन में बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह मुख्य अतिथि होगे। इसी दिन बीजेपी व भासपा में गठबंधन की घोषणा भी होगी। इस दिन बसपा के सैकड़ो नेताओं को गठबंधन में शमिल भी किया जा सकता है।

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz