लेखक परिचय

प्रमोद भार्गव

प्रमोद भार्गव

लेखक प्रिंट और इलेक्ट्रोनिक मीडिया से जुड़े वरिष्ठ पत्रकार है ।

Posted On by &filed under विविधा.


संदर्भः छत्तीसगढ़  और ओडिशा के बीच महानदी के जल-बंटवारे को लेकर ठनी।  

mahanadi

प्रमोद भार्गव

अभी कावेरी नदी का जल-विवाद थमने भी नहीं पाया है कि महानदी के जल-बंटवारे पर विवाद खड़ा हो गया। छत्तीसगढ़ और ओडिशा राज्यों के बीच चल रहा यह विवाद भी 33 साल पुराना है। महानदी के जल-बंटवारे को लेकर पहला समझौता अविभाजित मध्यप्रदेश के तत्कालीन मुख्यमंत्री अर्जुन सिंह और ओडिशा के तत्कालीन मुख्यमंत्री जेबी पटनायक के बीच 28 अप्रैल 1983 को हुआ था। इसमें तय किया गया था कि नदी पर बांध निर्माण संबंधी कोई विवाद सामने आता है तो उसका निराकरण अंतरराज्यीय परिषद् करेगी। फिलहाल जल-संसाधन मंत्री उमा भारती के साथ ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक और छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह के साथ बैठक हो चुकी  है, लेकिन परिणाम शुन्य रहा है। दरअसल सामने आए जल-बंटवारे के विवाद को सुलझाने से पहले नवीन पटनायक चाहते हैं कि छत्तीसगढ़ क्षेत्र में महानदी पर जो भी निर्माणाधीन बांध परियोजनाएं हैं, उन पर पहले काम बंद किया जाए, फिर समझौते की बातचीत को आगे बढ़ाया जाए। जबकि रमन सिंह लगभग पूरे हो चुके कामों को रोकने के लिए तैयार नहीं है। इस कारण यह विवाद दो राज्यों का विवाद न रहकर अब बीजू जनता दल और भारतीय जनता पार्टी, मसलन दो दलों के बीच गहराते विवाद का रूप लेने लगा है।

हालांकि छत्तीसगढ़ और ओडिशा के बीच चल रहे विवाद के लिए संयुक्त नियंत्रण बोर्ड गठित होगा। इस पर छत्तीगढ़ के मुख्य सचिव विवेक दांढ ने तत्काल सहमति भी जता दी, लेकिन ओडिशा के मुख्य सचिव एपी पाढ़ी ने राज्य सरकार से चर्चा के बाद राय देने की बात कही है। इस बातचीत में केंद्रीय जल-संसाधन मंत्रालय के अतिरिक्त सचिव डाॅ अमरजीत सिंह भी शामिल थे। बोर्ड को अब दोनों राज्य अपने अधिकार क्षेत्र में महानदी पर जो भी निर्माणाधीन परियोजनाएं हैं, उनकी जानकारियां परस्पर साझा करेंगे।

छत्तीसगढ़ और ओडिशा भू-क्षेत्र की महानदी सबसे बड़ी नदी है। रामायण और महाभारत काल में भी इस नदी का अस्तित्व मौजूद था। तब इसे चित्रोत्पला, महानंदा और नीलोत्पला नामों से जाना जाता था। इसका उद्गम स्थल छत्तीसगढ़ के धमतरी जिले में स्थित सिहावा नामक पर्वत श्रृंखलाएं हैं। महानदी का प्रवाह दक्षिण से उत्तर की और सिहावा से निकलकर राजिम में पहुंचता है, तब इसमें पैरी और सोंदुर नदियां भी मिल जाती हैं। इन नदियों का जल विलय होने के साथ ही यह नदी विशाल रूप धारण कर लेती है। इसके बाद ऐतिहासिक नगर आरंग और सिरपुर से बहती हुई जब शिवरी नारायाण में पहुंचती है तो अपने नाम के अनुरूप महानदी का स्वरूप ग्रहण कर लेती है। महानदी के तट पर ही धमतरी, कांकेर, चारामा, राजिम और चंपारण बसे हैं। शिवरी नारायण एक धार्मिक नगरी है। यहीं से यह नदी दक्षिण से उत्तर की ओर न बहकर पूर्व दिशा में बहने लग जाती है। संभलपुर में प्रवेष करने के साथ ओडिशा में बहने लगती है। इसके प्रवाह का आधे से अधिक भाग छत्तीसगढ़ में है। संभलपुर के आगे बलांगीर और कटक से  निकलकर महानदी 811 किमी की लंबी यात्रा कर बंगाल की खाड़ी में गिरती है। इस बीच इसमें पैरी और सोंदुर के अलावा शिवना, हंसदेव, अरपा, जोंक और तेल नदियां भी मिलती हैं। कटक से लगभग 12 किमी पहले महानदी कई धाराओं में बंटकर बंगाल की खाड़ी में विलीन हो जाती है। इस पर हीराकुण्ड, रूद्री और गंगरेल जैसे प्रमुख बांध बंधे हैं। महानदी ही पूर्वी मध्यप्रदेश और ओडिशा की सीमाओं को निर्धारित करती है। गिब्सन नामक आंग्रेज ने अपनी एक रिपोर्ट में लिखा है कि संभलपुर के निकट हीराकुंड का जो द्वीप क्षेत्र है, यहां एक समय हीरा मिला करते थे। जिनकी खपत रोम में होती थी। महानदी में हीराकुंड बांध बनने से पहले तक रोम के सिक्के मिल जाया करते थे, इसी तथ्य को गिब्सन ने इस क्षेत्र में हीरे की खदानें होने से जोड़ा है। चीनी यात्री व्हेनसांग ने अपनी यात्रा कथा में लिखा है कि मध्यप्रदेश से हीरों का व्यापार ओडिशा के कलिंग में होता था। इन विवरणों से पता चलता है कि महानदी और हीराकुण्ड क्षेत्र में कभी हीरे की खदानें रही है।

छत्तीसगढ़ के कुल भौगोलिक क्षेत्र के लगभग 55 प्रतिशत हिस्से का पानी महानदी में जमा होता है। यह नदी और इसकी सहायक नदियों के ड्रेनेज एरिया का 53.90 फीसदी हिस्सा छत्तीसगढ़ में हैं। इसका 45.73 प्रतिशत ड्रेनेज एरिया ओडिशा और 0.35 प्रतिशत अन्य राज्यों में हैं। हीराकुंड बांध तक महानदी का जल ग्रहण क्षेत्र 82,432 वर्ग किमी हैं, जिसमें से 71,424 वर्ग किमी क्षेत्र छत्तीसगढ़ में हैं, जो कि इसके संपूर्ण जल ग्रहण क्षेत्र का 86 प्रतिशत हैं। हीराकुंड बांध में महानदी का बहाव 40,773 एमसीएम है, इसमें से 35,308 एमसीएम का योगदान छत्तीसगढ़ देता है। जबकि इस समय छत्तीसगढ़ केवल 9000 एमसीएम पानी का उपयोग कर रहा है, जो कि महानदी के हीराकुंड में उपलब्ध पानी का महज 25 प्रतिशत है। हालांकि रमन सिंह का तो यह दावा है कि छत्तीसगढ़ केवल 15 प्रतिशत पानी का उपयोग करता हैं। छत्तीसगढ़ क्षेत्र में महानदी पर 9 छोटे-बड़े बांध निर्माणाधीन हैं। इन पर पिछले 10 साल से काम चल रहा है और लगभग 95 प्रतिशत काम पूरे भी हो चुके हैं। इनमें से एक अद्भूत और विशिश्ट वास्तुशिल्प से सात मंजिला बांध का निर्माण किया जा रहा है। इस बांध को लेकर ही ताजा विवाद गहराया है, क्योंकि इस बांध की जल ग्रहण क्षमता अत्याधिक तो है ही, इससे जल निकासी के उपाय भी विलक्षण हैं। यह बांध ऐसे अनूठे शिल्प के आधार पर बनाया जा रहा है, कि इसके अधिकतम पानी का उपयोग सिंचाई और पेयजल के लिए होगा ही, छत्तीसगढ़ के बड़े भू-भाग में कुंए और नलकूपों का जलस्तर भी यह बांध बनाए रखेगा। इस तकनीक के कारण ही यह कहा जा रहा है कि इस बांध में भरे पानी की एक-एक बूंद का सार्थक उपयोग होगा। इसी को लेकर ओडिशा को चिंता है कि इस बांध के पूरा हो जाने पर हीराकुंड को कम पानी मिलेगा। नवीन पटनायक की यह आशंका कितनी सच साबित होती है, इसका पता तो बांध का निर्माण पूरा होने और उसके भरने के बाद ही पता चलेगा। दरअसल छत्तीसगढ़ ओडिशा में जितनी भी परियोजनाएं लंबित है, उनमें से ज्यादातर का तकनीकी परीक्षण नहीं कराया गया है। जबकि तकनीकि परामर्ष जरूरी है। इसीलिए अब समिति इन परियोजनाओं की परख करेगी। इसीलिए पटनायक चाहते हैं कि छत्तीसगढ़ सरकार जब तक तकनीकि अध्ययन की रिपोर्ट न आ जाए तब तक सात मंजिला बांध का निर्माण रोक दें। हालांकि जलवायु परिवर्तन के चलते पूरे देश में बारिश की जिस तरह से कमी आई है और वर्शाचक्र जिस तरह से बिगड़ा है, उस परिप्रेक्ष्य में यह जरूरी नहीं कि यह सात मंजिला बांध हमेशा ही भरा रहे ?

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz