लेखक परिचय

फ़िरदौस ख़ान

फ़िरदौस ख़ान

फ़िरदौस ख़ान युवा पत्रकार, शायरा और कहानीकार हैं. आपने दूरदर्शन केन्द्र और देश के प्रतिष्ठित समाचार-पत्रों दैनिक भास्कर, अमर उजाला और हरिभूमि में कई वर्षों तक सेवाएं दीं हैं. अनेक साप्ताहिक समाचार-पत्रों का सम्पादन भी किया है. ऑल इंडिया रेडियो, दूरदर्शन केन्द्र से समय-समय पर कार्यक्रमों का प्रसारण होता रहता है. आपने ऑल इंडिया रेडियो और न्यूज़ चैनल के लिए एंकरिंग भी की है. देश-विदेश के विभिन्न समाचार-पत्रों, पत्रिकाओं के लिए लेखन भी जारी है. आपकी 'गंगा-जमुनी संस्कृति के अग्रदूत' नामक एक किताब प्रकाशित हो चुकी है, जिसे काफ़ी सराहा गया है. इसके अलावा डिस्कवरी चैनल सहित अन्य टेलीविज़न चैनलों के लिए स्क्रिप्ट लेखन भी कर रही हैं. उत्कृष्ट पत्रकारिता, कुशल संपादन और लेखन के लिए आपको कई पुरस्कारों ने नवाज़ा जा चुका है. इसके अलावा कवि सम्मेलनों और मुशायरों में भी शिरकत करती रही हैं. कई बरसों तक हिन्दुस्तानी शास्त्रीय संगीत की तालीम भी ली है. आप कई भाषों में लिखती हैं. उर्दू, पंजाबी, अंग्रेज़ी और रशियन अदब (साहित्य) में ख़ास दिलचस्पी रखती हैं. फ़िलहाल एक न्यूज़ और फ़ीचर्स एजेंसी में महत्वपूर्ण पद पर कार्यरत हैं.

Posted On by &filed under कविता.


तुमसे तन-मन मिले प्राण प्रिय! सदा सुहागिन रात हो गई

होंठ हिले तक नहीं लगा ज्यों जनम-जनम की बात हो गई

राधा कुंज भवन में जैसे

सीता खड़ी हुई उपवन में

खड़ी हुई थी सदियों से मैं

थाल सजाकर मन-आंगन में

जाने कितनी सुबहें आईं, शाम हुई फिर रात हो गई

होंठ हिले तक नहीं, लगा ज्यों जनम-जनम की बात हो गई

तड़प रही थी मन की मीरा

महा मिलन के जल की प्यासी

प्रीतम तुम ही मेरे काबा

मेरी मथुरा, मेरी काशी

छुआ तुम्हारा हाथ, हथेली कल्प वृक्ष का पात हो गई

होंठ हिले तक नहीं, लगा ज्यों जनम-जनम की बात हो गई

रोम-रोम में होंठ तुम्हारे

टांक गए अनबूझ कहानी

तू मेरे गोकुल का कान्हा

मैं हूं तेरी राधा रानी

देह हुई वृंदावन, मन में सपनों की बरसात हो गई

होंठ हिले तक नहीं, लगा ज्यों जनम-जनम की बात हो गई

सोने जैसे दिवस हो गए

लगती हैं चांदी-सी रातें

सपने सूरज जैसे चमके

चन्दन वन-सी महकी रातें

मरना अब आसान, ज़िन्दगी प्यारी-सी सौगात ही गई

होंठ हिले तक नहीं, लगा ज्यों जनम-जनम की बात हो गई

-फ़िरदौस ख़ान

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz