लेखक परिचय

रवि श्रीवास्तव

रवि श्रीवास्तव

स्वतंत्र वेब लेखक व ब्लॉगर

Posted On by &filed under कविता.


एक हफ्ते की मोहब्बत का ये असर था

जमाने से क्या मैं खुद से बेखबर था।

शुरू हो गया था फिर से इशारों का काम

महफिल में गूंजता था उनका ही नाम।

तमन्ना थी बस उनसे बात करने की,

आग शायद थोड़ी सी उधर भी लगी थी।

वो उनका रह रहकर बालकनी में आना,

नजरे मिलाकर नजरों को झुकाना।

बेबस था मैं अपनी बातों को लेकर,

दे दिया दिल उन्हें अपना समझकर।

सिलसिला कुछ दिनों तक यूहीं चलता रहा,

कमरे से बालकनी तक मैं फिरता रहा।

पूरी हुई मुराद उनसे बात हो गई,

दिल में कही छोटी सी आस जग गई।

एक हवा के झोके से सब कुछ बदल गया,

अचानक से उनका रुख बदल गया।

मागें क्या उनको जो तकदीर में नही थी।

कुछ नही ये बस एक हफ्ते की मोहब्बत थी।

-रवि श्रीवास्तव

 

Leave a Reply

2 Comments on "एक हफ्ते की मोहब्बत"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
आदर्श तिवारी
Guest

bahut shandar .dost

pradeep
Guest

bht khoob

wpDiscuz