लेखक परिचय

प्रमोद भार्गव

प्रमोद भार्गव

लेखक प्रिंट और इलेक्ट्रोनिक मीडिया से जुड़े वरिष्ठ पत्रकार है ।

Posted On by &filed under विविधा.


AadharImgप्रमोद भार्गव           

आखिरकार केंद्र सरकार के हलफनामे और सर्वोच्च न्यायालय के फैसले ने आधार कार्ड निराधार घोषित कर दिया। अब आधार कार्ड बनेंगे तो सही लेकिन इनकी अहमियत अनिवार्यता के बजाय वैकिलपक ही रहेगी। हालांकि संसद की स्थायी समिति ने भी इस पर गंभीर सवाल खड़े करते हुए इसके निर्माण पर रोक लगाने की सिफारिश की थी। 50 हजार करोड़ की लागत वाली इस परियोजना की लोकसभा में विधेयक पेश करके स्वीकृति भी नही ली गर्इ है। जाहिर है इतनी बड़ी परियोजना का मकसद महज सूचना प्रौधोगिकी से जुड़े उधोगों को लाभ पहुंचाना था। 18 हजार करोड़ रुपये खर्च करके अब तक लगभग 22 करोड़ आधार पहचान पत्र बना भी दिए गए हैं, कांग्रेस शासित महाराष्ट्र, राजस्थान और दिल्ली की राज्य सरकारों ने तो इस कार्ड को लोककल्याणकारी  योजनाओं के लिए अनिवार्य बना दिया था। अब इस गैर संवैधानिक कार्य पर फिलहाल रोक तो लग ही गर्इ है, अदालत ने यह सवाल भी खड़ा किया है कि यह कार्ड उन लोगों को किसी भी हाल में नहीं दिया जा सकता जो भारत के नागरिक नहीं हैं। दरअसल असम समेत अन्य पूर्वोत्तर राज्यों और कश्मीर क्षेत्र में अवैध घुसपैठियों और आंतकवादियों तक को आधार कार्ड मिल जाने से भारतीय नागरिकता मिल गर्इ है, इस कारण देश की एकता, अखण्डता और संप्रभुता खतरे में पड़ जाने की आशंकाएं देश का विपक्ष और नागरिक समाज जता रहा था।

 

आजादी के बाद से ही कर्इ ऐसे कारगर उपाय होते चले आ रहे हैं, जिससे देश के प्रत्येक नागरिक को राष्ट्रीय नागरिकता की पहचान दिलार्इ जा सके। मूल निवासी प्रमाण पत्र, राशन कार्ड, मतदाता पहचान पत्र और अब आधार योजना के अंतर्गत एक बहुउद्देशीय विशिष्ट पहचान पत्र हर नगरिक को देने की देशव्यापी कवायद चल रही है। सोनिया गांधी ने कुछ समय पहले राजस्थान के उदयपुर जिले के दूदू कस्बे में 21 करोड़वां आधार कार्ड भेंट करते हुए दावा किया था कि ‘आधार विश्व की सबसे बड़ी परियोजना है, जो आम आदमी को उसकी पहचान देगी। उसका जीवन बदल जाएगा। उपभोक्ता को सरकारी मदद शत प्रतिशत मिलने की गारंटी मिल जाएगी। इसी परिप्रेक्ष्य में खाध साम्रगी, घासलेट और रसोर्इ गैस में मिलने वाली नकद सबिसडी, हकदार के सीधे बैंक खाते में डाल दी जाएगी। तय है भ्रष्टाचार, हेर-फेर और धोखाधड़ी कम होगी। मनरेगा की मजदूरी, विधार्थियों के वजीफे, बुजुर्गों की पेंशन सीधे लाभार्थियों के खाते में जमा होंगे। यदि बाकर्इ यह संभव हो जाता है तो व्यक्ति अनिवार्य रूप से आधार कार्ड धारण करने को विवश होता और इसकी स्वीकार्यता भी बढ़ती। लेकिन दिल्ली में आधार कार्ड हाल ही में बड़ी समस्या बनकर उभरा है। लोग सीमा पुरी क्षेत्र में आधार कार्ड और राशन कार्ड बनवाने के लिए तीन-तीन दिन से लाइन में लगे हैं लेकिन उपभोक्ताओं की अर्जियां भी मुश्किल से जमा हो पा रही है। ऐसे में तकनीकी जटीलता वाला आधार कार्ड आसानी से कैसे बन पाएगा यह एक बड़ा सवाल दिल्ली सरकार के सामने था। लिहाजा दिल्ली विधानसभा चुनाव की निकटता देखते हुए भारत सरकार को अदालत में शपथ पत्र देकर कहना पड़ा की आधार कार्ड जरुरी नहीं वैकलिपक है।

दरअसल आधार का वजूद कायम करने में कर्इ जटिलताएं पेश आ रही हैं। इसके अमल में आने के बाद मानवीय लालच के चलते जो गड़बडि़या व चार सौ बीसियां सामने आर्इं हैं, उनके चलते केंद्र सरकार की यह महत्वकांक्षी योजना भी ढांक के तीन पांत बनकर रह गर्इ। क्योंकि आधार कंप्युटर आधारित ऐसी तकनीक है, जिसे संचालित करने के लिए तकनीकी विशेषज्ञ, इंटरनेट कनेक्टविटी तथा उर्जा की उपलब्धता जरूरी है। केवल व्यक्ति को राष्ट्रीय स्तर पर पंजीकृत करने की संख्या दे देने से काम चलने वाला नहीं है। महज आधार संख्या की सुविधा नागरिक के सशक्तीकरण का बड़ा उपाय अथवा आधार नहीं बन सकता। यदि ऐसा संभव हुआ होता तो मतदाता पहचान पत्र मतदाता के सशक्तीकरण और चुनाव सुधार की दिशा में बड़ा कारण बनकर पेश आ गया होता ? आधार को पेश करते हुए दावा तो यह भी किया गया था कि इससे नागरिक को ऐसी पहचान मिलेगी जो भेद सहित होने के साथ उसे विराट आबादी के बीच, अपनी असिमता भी कुछ है, यह होने का आभास कराती रहेगी। लेकिन 22 करोड़ लोगों को आधार मिल जाने की बावजूद उनके प्रति जातीय, शैक्षिक और आर्थिक असमानता के भेद बरकरार रहे। इसके बनाये जाने के कानून इतने सरल हैं कि लाखों अवैध घुसपैठियों ने भी देश का नागरिक होने की वैधता हासिल कर ली। दरअसल यदि किसी व्यक्ति के पास पतें ठिकाने की कोर्इ भी मामूली पहचान है या वह किसी राजपत्रित अधिकारी से लिखाकर दे देता है  किवह उसे जानता है तो महज इस आधार पर आधार कार्ड जारी कर दिया जाता है।

वैसे आधार योजना जटिल तकनीकी पहचान पर केन्द्रित है। इसलिए इसके मैदानी अमल में दिक्कतें भी सामने आने लगी हैं। असल में राशन कार्ड और मतदाता पहचान पत्र में पहचान का मुख्य आधार फोटो होता है। जिसे देखकर आखों में कम रोशनी वाला व्यक्ति भी कह सकता है कि यह फलां व्यक्ति का फोटो है। उसकी तसदीक के लिए भी कर्इ लोग आगे आ जाते हैं। व्यक्ति की पहचान को एक साथ बहुसंख्यक लोगो की सहमति मिल जाती है। जबकि आधार में फोटो के अलावा उंगलियों, अंगूठे के निशान और आखों की पुतलियों के डीजिटल कैमरों से लिए गए महीन पहचान वाले चित्र हैं, जिनकी पहचान तकनीकी विषेशज्ञ भी बमुश्किल कर पाते है। ऐसे में सरकारी व सहकारी उचित मूल्य की दुकानों पर राशन, गैस व कैरोसिन बेचने वाला मामूली दुकानदार यह पहचान कैसे करेगा ? आधार के जरिए केवल सबिसडी की ही सुविधा दी जानी थी तो इसके लिए तो फिलहाल आधार की भी जरूरत नहीं है। यह काम उपभोक्ता का बैंक में खाता खुलवाकर र्इ – भुगतान के जरिए किया जाता तो और भी आसान होता। पूरे देश में इसकी तत्काल शुरूआत भी की जा सकती थी। क्योंकि मनरेगा के मजदूरों का शत प्रतिशत मजदूरी का भुगतान बैंक खाते के मार्फत र्इ पेंमेट के द्वारा होने लगा है। मनरेगा में काम करने वाले अधिकांश वही लोग हैं जो गरीबी रेखा के नीचे जीपन यापन करने वाले हैं और जिन्हें सबिसडी की पात्रता है। ऐसे में आधार की जरुरत थी ही नहीं।

कर्नाटक में ऐसे दो मामले सामने आ चुके है, जो आधार की जटिलता सामने लाते हैं। कुछ दिनों पहले खबर आर्इ थी कि मैसूर के अशोकपुरम में राशन की एक दुकान को गुस्सायें लोगों ने आग लगा दी और दुकानदार की पिटार्इ भी की। दरअसल दुकानदार कोर्इ तकनीकी विशेषज्ञ नहीं था, इसलिए उसे ग्राहक के उंगलियों के निशान और आंखों की पुतलियों के निशान मिलाने में समय लग रहा था। चार-पांच घंटे लंबी लाइन में लगे रहने के बाद लोगों के धेर्य ने जबाव दे दिया और भीड, हुड़दंग, मारपीट व लूटपाट का हिस्सा बन गर्इ। बाद में पुलिसिया कारवार्इ में लाचार व वंचितों पर लूट व सरकारी काम में बाधा डालने के मामले पंजीबद्ध कर इस समस्या की इतिश्री कर दी गर्इ।

अब तो जानकारियां ये भी मिल रही हैं कि इस योजना के मैदानी अमल में जिन कंप्युटराइस्ड सहायक इलेक्टोनिक उपकारणों की जरूरत पड़ती है, उनकी खरीद में अधिकारी बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार बरत रहे हैं। बंगलुरू के अखबार ‘मांर्डन इंडिया ने खबर दी है कि एक सरकारी अधिकारी ने उंगलियो के निशान लेने वाली 65 हजार घटिया मशीनें खरीद लीं। केंद्र्रीकृत आधार योजना में खरीदी गर्इ इन मशीनों की कीमत 450 करोड़ रूपये है। इस अधिकारी की षिकायत कर्नाटक के लोकायुक्त को की गर्इ है। जाहिर है, योजना गरीब को इमदाद से कहीं ज्यादा भ्रष्टाचार का सबब बनती दिखार्इ दे रही है।

दरअसल आधार के रूप में भारत में अमल में लार्इ गर्इ इस योजना की शुरूआत अमेरिका में आतंकवादियों पर नकेल कसने के लिए हुर्इ थी। 2001 में हुए आतंकी हमले के बाद खुफिया एजेंसियों को छूट दी गर्इ थी कि वे इसके माध्यम से संदिग्ध लोगों की निगरानी करें। वह भी केवल ऐसी 20 फीसदी आबादी पर जो प्रवासी हैं और जिनकी गतिविधियां संदिग्ध हैं। लेकिन हमारे यहां इस योजना को संपूर्ण आबादी पर लागू किया जा रहा है। इससे यह संदेश भी जाता   है कि देश का वह गरीब संदिग्ध है, जिसे रोटी के लाले पड़े हैं। खासतौर से इस योजना को कश्मीर और असम तथा पूर्वोत्तर के उन सीमांत जिलों की पूरी आबादी के लिए लागू करने की जरुरत थी, जहां घुसपैठिये आतंकी गतिविधियों को तो अंजाम दे ही रहे हैं, जनसांख्यकीय घनत्व भी बिगाड़ रहे हैं। इसीलिए पी चिदंबरम ने अपने गृहमंत्रित्व के पहले कार्यकाल में इस योजना का जबरदस्त विरोध करते हुए इसे खतरनाक आतंकवादियों को भारतीय पहचान मिल जाने का आधार बताया था। लेकिन वित्तमंत्री बनते ही उनका सुर बदल गया था और उन्होंने इस योजना को जरुरी बता दिया। असमंजस के ये हालात धन की बर्बादी के साथ योजनाओं के प्रति लोगों का भरोसा भी तोड़ते हैं। इस योजना ने तो संसद की गरिमा तक को पलीता लगाया है क्यूंकी संसद में बिना विधेयक पास कराए ही बहुउद्देशीय विशिष्ट पहचान पत्र योजना लागू कर दी गर्इ।

 

 

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz