लेखक परिचय

मृत्युंजय दीक्षित

मृत्युंजय दीक्षित

स्वतंत्र लेखक व् टिप्पणीकार लखनऊ,उप्र

Posted On by &filed under आलोचना, साहित्‍य.


ashutosh-sandeep-kumar-aapमृत्युंजय दीक्षित
मात्र डेढ़ वर्ष में ही दिल्ली में शासन कर रही आम आदमी पार्टी का चाल, चरित्र और चिंतन अब देश की जनता के सामने जगजाहिर हो चुका है तथा लगातार हो रहा है ।वर्तमान समय में दिल्ली सरकार के महिला बाल विकास कल्याण मंत्री संदीप कुमार की सेक्स कांड वाली सीडी टी वी चैनलों में आ जाने के बाद मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के लिए मुसीबतें कम नहीं होने जा रही है। उनका संकट लगातार बढ़ता ही जा रहा है। नित नये आरोप आम आदी पार्टी के नेताओं पर लग रहे हैं। जिसके कारण अरविंद केजरीवाल के सामने एक गहरा धर्मसंकट और नैतिक संकट खड़ा हो गया है। संदीप कुमार कांड के बाद अब दिल्ली वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष और विधायक अमानतुल्लाह खान और पूर्व कानून मंत्री सोमनाथ भारती महिला के साथ छेड़छाड़ आदि मामलों में बुरी से फंसते जा रहे हैं। आप का चारित्रिक नैतिक पतन बहुत ही तेजी के साथ हो रहा है और आप के लोग यह सब साजिश बताकर पल्ला झाड़ने में लग गये हैं।
एक ओर जहां मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल हर बात और हर विषय पर पीएम मोदी ओैर भाजपा सरकार पर ही हमलावर हो रहे थे वहीं अब दिल्ली में ही उनको धरना- प्रदर्शन और तरह- तरह के सवालों से दो चार होना पड़ रहा है लेकिन फिलहाल उनके पास बचाव के लिए कुछ भी नहीं है। केजरीवाल बढ़ी तेजी के साथ दिल्ली का काम छोड़कर पंजाब, गुजरात और गोवा में भाजपा को हराने का सपना देख रहे थे लेकिन अब वह स्वयं दिल्ली से लेकर पंजाब तक सवालों के कटघरे में आ गये हैं।
संदीप कुमार सेक्स कांड के बाद अब दिल्ली में महिला सुरक्षा पर गंभीर सवालिया निशान उठ खड़े हुये हैं वहीं अब वहां की जनता में यह डर भी समा गया है कि अब कोई महिला यदि किसी मंत्री या विधायक के पास अपने काम के लिए जाती है तो वह वहां से सुरक्षित वापस आ पायेगी कि नहीं। यह वही दल है जो समाजसेवी अन्ना हजारे के गर्भ से पैदा हुआ और उसी आंदोलन के माध्यम से सत्ता के गलियारे तक पहुचने में कामयाब रहा । आज अरविंद केजरीवाल बुरी तरह से फंसते नजर आ रहे हैं उन्हें अपने दल के लोगों के बारे में एक राय बनानी ही होगी। आज पूरी दिल्ली में महिला हो या दलित समाज के लोग सभी वर्ग के लोग केजरीवाल हाय- हाय के नारे लगा रहे हैं। संदीप कुमार के सेक्स कांड ने आप की हालत बेहद दयनीय कर दी है। वहीं संदीप के बचाव में आप नेता आशुतोष ने ब्लाग लिखकर अपने जो विचार व्यक्त किये और जिस प्रकार से उन्होंनें गांधी, नेहरू और अटल बिहारी बाजपेयी के चरित्र पर उंगली उठाने का और संदीप को बचाने का असफल प्रयास किया उसके बाद केजरीवाल के पास अपने बचाव में रहने व कहने लायक कुछ भी नहीं रह गया है। आज आप नेता आशुतोष भी कानूनी ,सामाजिक नैतिकता के दायरे के शिकंजे में आ चुके हैं। तीन शहरों में उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज हो चुका है। आशुतोष को आप से निकालने की मांग जोर पकड़ती जा रही है। लेकिन केजरीवाल अभी तक निर्णय नहीं ले पाये है। जिससे यह साफ पता चल रहा है कि केजरीवाल नैतिकता व मर्यादा के दायरे के बीच कितने गहरे धर्मसंकट में आ गये है। वहीं दूसरी ओर उनकी पार्टी के कुछ और नेता आप में घट रही घटनाओं को भाजपा की गहरी साजिश बता रहे हैं।
केजरीवाल पूरी ताकत व उत्साह के साथ पंजाब विधानसभा के चुनाव में कूदने की तैयारी कर रहे थे लेकिन अब वह वहां पर भी फंस चुके है। आज पंजाब में आम आदमी पार्टी गहरे सदमे और झटके दौर से गुजर रही है लिहाजा शिरोमणि अकाली दल और भाजपा गठबंधन तथा कांग्रेस को कुछ राहत अवश्य मिलती नजर आ रही है। पंजाब में आपके सहयोगियों ने ही एक के बाद एक गहरा झटका दिया है। पंजाब में आम आदमी पार्टी के बडे़ नेता सुच्चा सिंह छोटेपुर ने आप नेताओं पर गंभीर आरोप लगाते हुए बगावत कर दी और उसके बाद उनके समर्थन में आप के लगभग 86 पदाध्ंिाकारियों ने एक झटके में बगावत कर दी । सुच्चा सिंह व उनके समर्थक अब पूरे पंजाब में केजरीवाल को मजा चखाने के मूड में निकल चुके हैं। सुच्चा सिंह का कहनाहै कि आप ने उन्हें बहुत गम्भीर दुःख पहुंचाया है । आ के नेता टिकट लेने के बदले पैसा ले रहे हैं तथा महिलाओं आदि का यौन शोषण तक कर रहे हैं।
आप के एक विधायक देवेंद्र सहरावत ने भी आप नेताओं संजय सिंह, देवेंद्र व दिलाीप पांडे आदि बड़ेे नेताओं के चाल चरित्र और चिंतन पर गहरे सवालिया निशान लाग दिये हैं जिससे आप के अंदर की राजनीति में जबर्दस्त कलह, घमासान होना स्वभाविक हैं। टिकट के बदले महिलाओं के साथ यौन शोषण के गंभीर आरोप आप के पूर्व नेता योगंेद्र यादव भी टी वी चैनलों की बहसों में लगा चुके है। लेकिन आप नेता बड़ी धूर्तता के साथ पूरे खेल के पीछे भाजपा और अकालियों की साजिश बता कर अपना पल्ला झाड़ने का प्रयास करते दिखलायी पड़ रहे हैं। पंजाब में ही आम आदमी पार्टी को दूसरा सबसे बड़ा झटका नवजोत सिंह सिद्धू ने दिया हैं। पूर्व संासद नवजोत सिंह सिद्धू को पहले भाजपा ने राज्यसभा का सांसद बनाकर उनको शांत करने का प्रयास किया था लेकिन पता नहीं उनको किसी ज्योतिषी ने बता दिया है कि वे पंजाब के मुख्यमंत्री बन सकते हैं तब से उन्होंने सांसदी भी छोड़ दी और जब उन्हें किसी भी दल में सम्मानजनक स्थान नही मिला तब जाकर उन्होनें स्वयं ही आवाम ए पंजाब नाम का एक नया मोर्चा बना लिया ओैर सभी सीटों पर चुनाव लड़ने का ऐलान कर दिया हैं। पंजाब की राजनीति के अंदर गहरी रूचि रखने वालों का मानना है कि सिद्धू इतना बड़ा फैसला अकेले नहीं कर सकते उनके पीछे कोई न कोई अदृश्य ताकत जरूर हैं जो उनका पर्दे के पीछे की राजनीति में साथ दे रही है। अब यह देखने वाली बात होगी कि पंजाब में सिद्धू का मोर्चा किस प्रकार की परफार्मेंस चुनावों में दिखाता हैं। कुछ का कहना है कि चुनाव परिणामों के बाद सिद्धू के विधायक अकाली – भाजपा गठबंधन या फिर कांग्रेस की ही मदद करंेगे। कुछ का कहना है कि वह यह सब केजरीवाल के कहने पर कर रहे हैं।लेकिन नवजोत की पत्नी का कहना है कि उनका मोर्चा अकेले ही गेमचेंजर साबित होने जा रहा है। पंजाब में आप की मुसीबत का पहाड़ सुच्चा सिंह और सिद्धू ही नहीं हैं अपितु उनकी ही पार्टी के चार सांसद भी उनके लिए गंभीर मुसीबतंे पैदा कर रहे हैं।
आप संासद भगवंत मान की संसद सदस्यता पर संकट के बादल पहले से ही सवालिया निशान लगा हुआ है वहीं दूसरी पंजाब में एक जनसभा के दौरान पत्रकारों के साथ बदसलूकी करने के कारण उनके खिलाफ मामला दर्ज हो चुका है। वहीं एक अन्य सांसद धर्मवीर भी एक नये मोर्च के साथ चुनाव मैदान में आ चुके है।।पंजाब की चुनावी राजनीति में पहले दो धु्रव होते थे लेकिन इसबार केजरीवाल की दिलचस्पी और उसके बाद आप में उठी बगावत की लहर तथा आप नेताओं पर लग रहंे संगीन आरोपों के कारण अब शिरोमणि अकाली दल – भाजपा गठबंधन और कांग्रेस के चेहरे पर थेाड़ी सी मुस्कान अवश्य दिखलायी पड़ने लग गयी है। पंजाब में दलित वोटबैंक भी महती भूमिका अदा करते हैं लिहाजा बसपा व अन्य दलित राजनीति करने वाले दलों की भी भूमिका खास होने जा रही हैं।
आज दिल्ली में केजरीवाल के सामने जो सवालिया निशान खड़े हो रहे हैं उसके पीछे पंजाब, गुजरात और गोवा के चुनाव तो हैं ही। मात्र डेढ़ वर्ष के कार्यकाल में ही केजरीवाल के छह में से तीन मंत्री बर्खास्त हो चुके हैं। 12 विधायको पर केस चल रहे हैं तथा उनकी जेल यात्रा हो चुकी है। 21 विधायकों पर लाभ के पद के चलते सदस्यता खारिज होने संबंधी तलवार लटकी हुयी है सांसद भगवंत मान पर लोकसभाअध्यक्ष के पास फैसला लंबित है। अदालतो में केजरीवाल सरकार के कई मामले लटके हुये हैं। यहीं नहीं अभी हाल ही में आरटीआई से एक खुलासा हुआ है कि मात्र डेढ़ वर्ष में ही कजरीवाल सरकार सिर्फ चाय – नाश्ते में ही डेढ़ करोड़ रूपया खर्च कर डाला है। जिसमें अकेले केजरीवाल और उपमुख्यमंत्री सिसैादिया ने ही 58 लाख खर्च कर दिये हैं। महालेखा परीक्षक दिल्ली सरकार की विज्ञापन नीति पर सवालियानिशान खड़ा कर चुके है। आज दिल्ली की जनता वास्तव में परेशान हो चुकी है। दिल्ली की जनता को पुरानी सरकारों का कार्यकाल याद आने लगा है।
मुख्यमंत्री केजरीवाल ने महिला सुरक्षा सहित दिल्ली की जनता से जो वायदे किये थे वे सभी फ्लाप हो चुके हैं। अब तो महिलाओं में इस कदर भय व्याप्त हो गया है कि वे किसी भी मंत्री व विधायक के पास अगर गयीं तो सुरक्षित वापस आ भी पायेंगी की नहीं। केजरीवाल और नजीब जंग के अधिकारों के बीच की लड़ाई के कारण सारा का सारा काम ठप हो गया है। लेकिन मिस्टर कजरीवाल अभी भी सारा दोष सिर्फ मोदी जी को ही दे रहे हैं तथा उनको अपमानित करने का कोई अवसर नहीं गवां रहे। पूंर्व जस्टिस काटजू ने केजरीवाल को अच्छी सलाह दी है कि वह अब सारा ध्यान अपने काम पर लगायें और हर बात पर मोदी जी को अपमानित करना बंद करें। वैसे भी आज की तारीख में आम आदमी पार्टी पार्टी का मतलब सेक्स,महिलाओं के साथ छेड़छाड़ और टिकट बेचने के आरोपों तक ही सीमित रह गया है। केजरीवाल को यदि अपनी राजनीति आगे बड़ानी है तो संदीप कुमार, संजय सिंह और आशुतोष जैसे घृणित विचारांे वाले नेताओं को दल से बाहर निकालना ही होगा। नहीं तो फिर उनके चाल ,चरित्र और चिंतन का भगवान भी मालिक नहीं होगा।

Leave a Reply

2 Comments on "आप के चाल, चरित्र और चिंतन पर संदेह के गहरे बादल"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
इंसान
Guest
भले ही मृत्युंजय दीक्षित जी ने अपने निबंध, “आप के चाल, चरित्र और चिंतन पर संदेह के गहरे बादल” में राजनितिक बातें कहीं हैं लेकिन आरम्भ से ही राष्ट्रवादी नरेंद्र दामोदरदास मोदी जी का विरोध करते आआपा के नेता अरविन्द केजरीवाल स्वयं भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की भांति राष्ट्र-विरोधी तत्वों के संग जा मिले हैं। आज महत्वपूर्ण बात निर्वाचन जीतने अथवा हारने की नहीं है बल्कि जीतने पर देश और देशवासियों के लिए कुछ कर दिखाने की है। सीधी सी बात है कि दूसरे राजनितिक दलों की भांति आआपा देश का भला चाहते हैं तो राष्ट्रीय शासन के साथ मिल काम… Read more »
आर. सिंह
Guest

लखनऊ में बैठे बैठे आप बहुत कुछ लिख गए हैं,पर मेरे ख्याल से आप जैसे लोग आआप के बढ़ते हुए कदम को रोक नहीं पाएंगे,हाँलाकि उसके लिए प्रयत्न तो भरपूर हो रहा है, आआप के बारे में अरुण जेटली से लेकर अन्य कई दिग्गज भी भविष्य वाणी करके मुंहकी खा चुके हैं.अब देखें ,आपकी भविष्य वाणी का क्या हस्र होता है ?

wpDiscuz