लेखक परिचय

राम कृष्ण

राम कृष्ण

टेलि. 4060097 सम्पादन प्रमुख : न्यूज़ फ़ीचर्स ऑ़फ़ इण्डिया संस्थापक अध्यक्ष : उत्तर प्रदेश फ़िल्म पत्रकार संघ श्रेष्ठतम लेखन के लिये स्वर्णकमल के राष्ट्रीय पुरस्कार से अलंकृत 14 मारवाड़ी स्ट्रीट . अमीनाबाद . लखनऊ 226 018 .

Posted On by &filed under लेख.


रामकृष्ण

पितरों की पूजा को भारत के लौकिक और सामाजिक कृत्यों में विशिष्ठतम स्थान प्राप्त है. लेकिन पितर-पूजा की प्रथा मात्र भारत में सीमित हो, ऐसा भी नहीं है.दूसरे देशों में भी उसका प्रचुर प्रचलन है.

अमावस्या भारतीय पितरों की सर्वाधिक प्रिय तिथि है, और उस तिथि-विशेष को इतना महत्व क्यों दिया गया है इसकी भी एक मनोरंजक गाथा है.

कहते हैं, एक समय सोमपथ नामक स्थान में मरीचि के पुत्र अग्निष्वात्त नामक देवता के पितरगण निवास करते थे. कालान्तर में वहीं पर अग्निष्वात्त की मानसी पुत्री अच्छोदा ने एक बार हज़ारों बरस तक घोर तपस्या की. उसकी तपस्या से प्रसन्न होकर देवताओं के समान सुन्दर और कान्तिवान पितृगण वरदान देने के लिये अच्छोदा के पास आये. सभी पितर छलकते यौवन से भरपूर और कामदेव के समान मन को मोहित करने वाले थे. उनके सौंदर्य और रूपबल से प्रभावित होकर अच्छोदा अमावसु नामक एक पितर पर आसक्त हो उठी और वरदान में उसके साथ समागम करने की कामना प्रकट की. लेकिन पितृगण के साथ इस प्रकार की कामेच्छा को ध्यान में लाना ही एक महान अपराध था, और अमावसु ने तत्काल ही अच्छोदा की याचना को ठुकराते हुए उसे शापित कर दिया. परिणामतः अच्छोदा स्वर्ग से पतित होकर पृथ्वी पर आ गिरी. जिस पुण्यतिथि को अमावसु ने अच्छोदा की कामवासना को अस्वीकृत करते हुए समागम की उसकी मांग को ठुकराया था वह उसकी अनुपम मर्यादाप्रियता के कारण उसी के नाम पर अमावस्या के नाम से प्रसिद्ध हुई, और तब से हमारे पितरों की वह सर्वाधिक प्रिय तिथि है.

अन्यान्य देशवासियों के पितर भी इस प्रकार अपने संयम के परीक्षण में सफल रहे थे या नहीं, यह तो नहीं मालूम, लेकिन इतना ज़रूर है कि उनके वंशज भी आज उनको उतनी ही श्रद्धाभक्ति के साथ याद करते हैं जैसे हम भारतवासी अपने पितरों को. अन्तर केवल इतना है कि हिन्दू पुराणों के अनुसार जहां हमारे पूर्वजों के निमित्त ऐसे विशेष लोक निर्मित हैं जहां के सुन्दर सरोवरों और मनहर नदियों में वह देवपुत्रों की तरह अपनी केलिक्रीड़ा में निमग्न रहते हैं, वहीं अन्य देशों के पुरखे या तो पूरे साल निद्रादेवी की गोद में शयन करते हुए स्वप्नलोक का विचरण करते हैं, और या उन आमंत्रणों की प्रतीक्षा में रत रहते हैं जिन्हें उनके वंशजों द्वारा साल के किसी खास मौके पर औपचारिक रूप से उनको प्रेषित किया जाता है.

आपको यह मालूम होकर आश्चर्य होगा कि योरोप के अधिकांश देशों में इस अवसर पर लोग अपने घरों की सफ़ाई नहीं करते. उनकी धारणाओं के अनुसार ऐसा करने से आगत आत्माओं को कष्ट होगा. साथ ही पितरों के आने की खुशी में वहां सालकेक नामक एक मिष्ठान्न बनाने की प्रथा भी है. वहां के लोगों का विश्वास है कि उसके खाने से परलोक में रहने वाली मृतात्माओं को सुख और शांति की प्राप्ति होती है. हर साल दो नवम्बर को मनाया जाने वाला यह त्योहार योरोप में उतनी ही श्रद्धा से सम्पन्न किया जाता है जिस तरह भारत में पितृविसर्जन का पर्व. बेलजियम में उस दिन मृतात्माओं की कब्रों पर दीपक जलाये जाते हैं. जर्मनी में कब्रों की पुताई की जाती है, ज़मीन पर कोयला बिछा कर उस पर लाल रंग के बेरों से चित्र बनाये जाते हैं और गेंदे के फूलों और नारंगी की कलियों की मालिकाओं से उन कब्रों को आच्छादित कर दिया जाता है. पूजा-पाठ करने की परम्परा को योरोप के प्रायः प्रत्येक अंचल में प्रचलित है. प्रातः आठ बजे से ही यह क्रिया आरंभ हो जाती है और दोपहर होते होते सभी कब्रें रंगबिरंगे फूलों से भरी मिलती हैं. उस दिन प्रत्येक गृहस्थ के लिये यह अपेक्षित होता है कि खाद्यान्न का एक बड़ा थाल वह अपने निकटवर्त्ती गिरजाघर में अनिवार्यरूप से अर्पित करे. लोगों की मान्यता है कि ऐसा करने से वह भोजपदार्थ मृतात्माओं तक पहुंच जायेंगे. इन थालों में खाद्यपदार्था के अतिरिक्त मदिरा और वस्त्रादि भी पर्याप्त मात्रा में रहते हैं और मूलरूप से मात्र पितृगण को ही उसके उपभोग का अधिकारी माना गया है.

रात के समय अपने पितरों का स्मरण करते हुए लोग रोते, गाते और नाचते हैं.

फ्रान्स में गिरजाघर की रात्रिकालीन प्रार्थना के समापन पर लोगों के लिये अपने पितरों के संबंध में चर्चा-परिचर्चा करना आवश्यक माना जाता है. बाद में वह अपने घरों के डाइनिंगरूम में एक नया श्वेतरंगी वस्त्र बिछाकर शर्बत, दही और पक्वान्न अािद को उस पर सज्जित करते हैं. पास ही किसी अंगीठी में लकड़ी का एक बड़ा कुन्दा भी जलने के लिये डाल दिया जाता है. तदुपरान्त लोग शयन करने चले जाते हैं, लेकिन थोड़े ही समय बाद पेशेवर लोगों के दल ढोल और मृदंग आदि बजाते हए उनको सोते से जगाते हैं, मृतात्माओं की ओर से उनको आशीर्वाद देते हैं और पूर्व वर्णित समस्त खाद्य सामग्री दल के मुखिया को अर्पित कर दी जाती है.

एशिया के देशों में भी पितृपूजा की यह प्रथा किसी न किसी रूप में प्रचलित है और प्रायः सभी स्थानों पर पितरों के आवाहन में विशेष कृत्य सम्पन्न किये जाते हैं. जापान इस दिशा में सबसे आगे है. वहां प्रति वर्ष अगस्त मास के प्रथम तीन दिन उल्लास और उत्साह से भरपूर होते हैं. इस महोत्सव को जापान में दीपों के त्योहार के नाम से अभिहित किया जाता है और उसके प्रतीक स्वरूप उन दिनों वहां के नगर-नगर ग्राम-ग्राम में प्रज्ज्वलित असंख्य दीपों को देख कर सहज ही अपने देश की दीपावली याद हो आती है. जापानियों की मान्यता है कि जब तक पुरखों को वह रोशनी नहीं दिखायेंगे तब तक अपने वंशजों के घरों की राह ढूंढने में उन्हें कठिनाई होगी. इसीलिये उन दिनों कब्रों के चारों ओर भी ऊंचे-ऊंचे बांसों को गाड़ कर उन पर रंगबिरंगी लालटेनें लटकायी जाती हैं, और उनके नीचे मोमबत्तियों की मद्धिम रोशनी में बैठ कर लोग अपने पूर्वजों का आवाहन करते हैं.

अपने आवासीय स्थलों पर भी लोग इस प्रकार का प्रकाश करते हैं. नगर के चौराहों पर भी लकड़ी के कुन्दों को एकत्र कर उनको जलाया जाता है. संध्यासमय वहां के निवासियों के दल के दल किसी पूर्व निर्द्धारित स्थान पर एकत्र होकर अपने पूर्वजों की आत्माओं का आवाहन करते हैं और सामूहिकरूप से उनसे प्रार्थना की जाती है कि उस पुण्य अवसर पर अपने पुराने निवास को अपनी पगधूलि से पवित्र कर अपने वंशजों का आतिथ्य स्वीकार करते हुए उन्हें अपने आशीर्वाद से अलंकृत करें. इसके उपरांत लोग अपने घरों में वापस लौट आते हैं. वहां आमंत्रित आत्माओं के स्वागत में तरह तरह के पकवान मेज़ पर सजाये जाते हैं, उनके बैठने के लिये विशेष आसनों का प्रबंध किया जाता है, और फिर उस कमरे को बंद कर अपने मित्रों और संबंधियों के पूर्वजों की आत्माओं को श्रद्धा-सुमन अर्पित करने के उद्देश्य से वह बाहर निकल आते हैं. इस तरह प्रायः सारी रात आपस की इस मिला-भेंटी में व्यतीत हो जाती है. यह महोत्सव पूरे दो दिनों तक उत्साहबहुलता के साथ चलता रहता है. तीसरी शाम पुरखों की विदाई के उपलक्ष्य में पुनः सब जगह प्रकाश किया जाता है, लकड़ियों की होली जलायी जाती है और पहले दिन की तरह जुलूस बना कर लोग उन पुरखों की मृतात्माओं को जनपद की सीमा के बाहर छोड़ आते हैं. लौटने पर बहुत से लोग अपने घरों की छतों पर चढ़कर ईट और पत्थर आदि नीचे फंेकते हैं जिससे मोह-मायावश अगर कोई आत्मा कहीं छिप कर बैठ गयी हो तो वह उनकी आवाज़ को सुन कर भाग जाये. रात होने पर छोटी-छोटी नौकाओं में भर कर अनेक प्रेकार के खाद्यपदार्थ समुद्र में प्रवाहित करने की प्रथा भी वहां प्रचलित है, जिससे मृतात्माओं को अपने लोक में वापस पहुंचकर कम से कम कुछ दिनों तक तो भूखा न रहना पड़े.

अगर जापान में यह पर्व हार्दिक उल्लास और उत्साह के साथ सम्पन्न किया जाता है तो बर्मा – म्यनमार – में उसके सर्वथा उलटे तरीके से. उस दिन सवेरे से रात तक लोगों के घरों में रोना-चिल्लाना अनवरतरूप से ज़ारी रहता है. वैसे परम्परानुसार इस शोक-समारोह में मात्र उन्हीं लोगों को भाग लेने का अधिकार है जिनके घर-परिवार में पिछले तीन बरसों की अवधि में कम से कम एक व्यक्ति निश्चितरूप से मृत्यु को प्राप्त हुआ हो. बरमा में यह त्योहार अगस्त मास के अन्त या सितम्बर के प्रारंभ में मनाया जाता है और वहां भी इस अवसर पर विभिन्न प्रकार के व्यंजन और वस्त्रों का दान किया जाता है. जब यह सब वस्तुएं करीने से किसी कमरे में सजा दी जाती हैं तो परिवार का प्रमुख एक घन्टी बजा कर इस बात का संकेत करता है कि आसपास जितने लोग उपस्थित हों वह सब अपने सिरों को पीटते हुए रोना प्रारंभ कर दें. अपने पितरों को संबोधित करते हुए सामूहिक रूप से वह जो प्रार्थना करते हैं उसका आशय होता है – आपने हमारे पास आने का जो अनुग्रह किया है उसे व्यक्त करने के लिये हमारे पास कोई शब्द नहीं हैं. निश्चित ही रास्ते भर वर्षा आपको परेशान करती रही होगी और आपके वस्त्र भीग गये होंगे. तो स्वीकार कीजिए यह नये आभरण. अपने परिजनों के साथ इनका उपयोग कीजिए और फिर अपने समस्त मित्रों, सहचरों और संबंधियों के साथ हमारे आतिथ्य को स्वीकार करते हुए हमारे द्वारा तैयार किये गये खानपान से अपने को तृप्त और तुष्ट कीजिए. इस निवेदन के उपरांत उस खाद्यान्न और वस्त्राभूषणों को एक टोकरी में भर कर रख दिया जाता है, और दूसरे दिन वह सामग्री गरीबों के बीच वितरित कर दी जाती है.

वैसे अमरीका के रेड-इण्डियन अपने पितरों के त्योहार को जिस अनोखी और सर्वथा सार्थक विधि से सम्पन्न करते हैं वह अपूर्व है. उनके यहां यह उत्सव फ़रवरी मास में मनाया जाता है और लगातार कई दिनों तक चलता रहता है. आमिष भोजन उन दिनों वहां पूरी तरह निषिद्ध है. परम्परानुसार उस अवधि में बारी बारी से प्रत्येक जनपद के निवासी अन्यान्य जनपदवासियों के अतिथि होते हैं. वह लोग अपने शरीर को तरह तरह के रंगों से आवृत्त कर पक्षियों के विभिन्न पंखों से अपनी रूपसजा करते हैं, और नये तरह के वस्त्राभूषणों से सज्जित होकर नाचते, गाते और विभिन्न वाद्ययंत्रों को बजाते हुए अपने पड़ोसी गांवों में पहुंचते हैं. यह प्रयाण आमतौर पर रात के समय ही किया जाता है. उस प्रयाण में सम्मिलित होने वाले प्रत्येक व्यक्ति के हाथ में चीड़ की जलती हुई लकड़ियों की मशालें रहती हैं, जिससे आतिथेयों को उनके आने की सूचना अग्रिम रूप से सुलभ हो सके. इस प्रकार प्रत्येक जनपद के वासी दूसरे जनपदवासियों को परस्पर अपने पुरखों का प्रतिनिधि समझते हैं और भेंट होेने पर आपस में लिपट-लिपट कर ख़ूब रोतेधोते हैं.़ फिर उनके स्वागत में सहभोज आयोजित किया जाता है जिसमें विभिन्न प्रकार के शाकाहारी व्यंजन परोसे जाते हैं. बाद में नृत्य और संगीत के विविध कार्यक्रम संयोजित किये जाते हैं ओर इस प्रकार तन-मन से पूरी तरह तृप्त होने के उपरांत अतिथिगण अपने गांवों को वापस लौट जाते हैं.

संसार के अन्यान्य भागों में भी किसी न किसी रूप में पुरखों के श्राद्ध का प्रचलन है, और तत्संबंधित कृत्य वहां बहुत महत्वपूर्ण समझे जाते हैं. अफ़रीका, अनाम, सुम्बा और दक्षिण-एशिया के अनेक अंचलों में यह उत्सव बहुत समारोहपूर्वक सम्पन्न किया जाता है. यहां तक कि उत्तरी ध्रुव के निवासी भी एक विशिष्ठ अवसर पर अपने पुरखों का आवाहन करते हैं, और तब वह मन भर कर नाचते, गाते और मौज मनाते हैं.

 

 

 

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz