लेखक परिचय

हिमकर श्‍याम

हिमकर श्‍याम

वाणिज्य एवं पत्रकारिता में स्नातक। प्रभात खबर और दैनिक जागरण में उपसंपादक के रूप में काम। विभिन्न विधाओं में लेख वगैरह प्रकाशित। कुछ वर्षों से कैंसर से जंग। फिलहाल इलाज के साथ-साथ स्वतंत्र रूप से रचना कर्म। मैथिली का पहला ई पेपर समाद से संबद्ध भी।

Posted On by &filed under कविता, चुनाव, राजनीति.


-हिमकर श्याम- voters

आफ़त  में है ज़िन्दगी, उलझे हैं हालात।

कैसा यह जनतंत्र है, जहां न जन की बात।।

नेता जी हैं मौज में, जनता भूखी सोय।

झूठे वादे सब करें, कष्ट हरे ना कोय।।

हंसी-ठिठोली है कहीं, कहीं बहे है नीर।

महंगाई की मार से, टूट रहा है धीर।।

मौसम देख चुनाव का, उमड़ा जन से प्यार।

बदला-बदला लग रहा, फिर उनका व्यवहार।।

राजनीति के खेल में, सबकी अपनी चाल।

मुद्दों पर हावी दिखे, जाति-धर्म का जाल।।

आंखों का पानी मरा, कहां बची है शर्म।

सब के सब बिसरा गए, जनसेवा का कर्म।।

जब तक कुर्सी ना मिली, देश-धर्म से प्रीत।

सत्ता आयी हाथ जब, वही पुरानी रीत।।

एक हि सांचे में ढले, नेता पक्ष-विपक्ष।

मिलकर लूटे देश को, मक्कारी में दक्ष।।

लोकतंत्र के पर्व का, खूब हुआ उपहास।

दागी-बागी सब भले, शत्रु हो गए खास।।

रातों-रात बदल गए, नेताओं के रंग

कलतक जिसके साथ थे, आज उसी से जंग

मौका आया हाथ में, दूर करें संताप।

फिर बहुत पछताएंगे, मौन रहे जो आप।।

जांच-परख कर देखिए, किसमें कितना खोट।

सोच-समझ कर दीजिए, अपना-अपना वोट।।

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz