लेखक परिचय

डॉ. पुरुषोत्तम मीणा 'निरंकुश'

डॉ. पुरुषोत्तम मीणा 'निरंकुश'

मीणा-आदिवासी परिवार में जन्म। तीसरी कक्षा के बाद पढाई छूटी! बाद में नियमित पढाई केवल 04 वर्ष! जीवन के 07 वर्ष बाल-मजदूर एवं बाल-कृषक। निर्दोष होकर भी 04 वर्ष 02 माह 26 दिन 04 जेलों में गुजारे। जेल के दौरान-कई सौ पुस्तकों का अध्ययन, कविता लेखन किया एवं जेल में ही ग्रेज्युएशन डिग्री पूर्ण की! 20 वर्ष 09 माह 05 दिन रेलवे में मजदूरी करने के बाद स्वैच्छिक सेवानिवृति! हिन्दू धर्म, जाति, वर्ग, वर्ण, समाज, कानून, अर्थ व्यवस्था, आतंकवाद, नक्सलवाद, राजनीति, कानून, संविधान, स्वास्थ्य, मानव व्यवहार, मानव मनोविज्ञान, दाम्पत्य, आध्यात्म, दलित-आदिवासी-पिछड़ा वर्ग एवं अल्पसंख्यक उत्पीड़न सहित अनेकानेक विषयों पर सतत लेखन और चिन्तन! विश्लेषक, टिप्पणीकार, कवि, शायर और शोधार्थी! छोटे बच्चों, वंचित वर्गों और औरतों के शोषण, उत्पीड़न तथा अभावमय जीवन के विभिन्न पहलुओं पर अध्ययनरत! मुख्य संस्थापक तथा राष्ट्रीय अध्यक्ष-‘भ्रष्टाचार एवं अत्याचार अन्वेषण संस्थान’ (BAAS), राष्ट्रीय प्रमुख-हक रक्षक दल (HRD) सामाजिक संगठन, राष्ट्रीय अध्यक्ष-जर्नलिस्ट्स, मीडिया एंड रायटर्स एसोसिएशन (JMWA), पूर्व राष्ट्रीय महासचिव-अजा/जजा संगठनों का अ.भा. परिसंघ, पूर्व अध्यक्ष-अ.भा. भील-मीणा संघर्ष मोर्चा एवं पूर्व प्रकाशक तथा सम्पादक-प्रेसपालिका (हिन्दी पाक्षिक)।

Posted On by &filed under जन-जागरण, जरूर पढ़ें, विविधा.


-डॉ. पुरुषोत्तम मीणा-

अन्धविश्वास

घोर आश्चर्य और दुःख की बात है कि एक ओर तो पुरुष द्वारा दृष्टि डालना भी स्त्रियों को अपराध नजर आता है और दूसरी ओर 21वीं सदी में भी महिलाएं इस कदर अन्धविश्वास में डूब हुई हैं कि उनको मनुवादियों के पैरों तले लेटने में भी धार्मिक गर्व की अनुभूति होती है। आत्मीय सुकून महसूस होता है। वैकुण्ठ का रास्ता नजर आता है! पापों और पाप यौनि से मुक्ति का मार्ग नजर आता है। आखिर यह कब तक चलता रहेगा?

अन्धविश्वास निर्मूलन क़ानून का निर्माण ही इस प्रकार की सभी समस्याओं का एक मात्र स्थायी संवैधानिक समाधान है! लेकिन आर्यों की मनुवाद पोषक सरकारें अपनी इच्छा से ऐसा कानून कभी नहीं बनाना चाहेंगी। संघ और संघ के सभी अनुसांगिक संगठन इस मांग का पुरजोर विरोध करते हैं जिसका स्पष्ट आशय यही है कि संघ नहीं चाहता कि देश के लोग अन्धविश्वास से बाहर निकलें! जिसका बड़ा कारण है, जिस दिन अन्धविश्वास निर्मूलन कानूनबन गया संघ की सारी चमत्कार और अन्धविश्वास आधारित सभी कथित धार्मिक दुकानें बंद हो जायेंगी!
इसलिए सोशल मीडिया के मार्फ़त अन्धविश्वास निर्मूलन कानून निर्माण की मांग का समर्थन किया जाए और लोगों को अन्धविश्वास निर्मूलन कानून के समर्थन में खड़ा किया जाये। जब जनता में माहौल बनेगा तो सतीप्रथा निरोधक कानून की भांति, सरकार को अन्धविश्वास निर्मूलन कानून भी बनाना पड़ेगा। जिस दिन ये कानून बन गया, समझो उसी दिन से संघ के षड्यंत्रों का और आर्यों के मनुवाद रूपी जहर का स्वत: निर्मूलन हो जायेगा। मनुवाद का विनाश और सत्यानाश करना है तो अन्धविश्वास निर्मूलन कानून बनाने का समर्थ किया जाए। हक रक्षक दल इस दिशा में पहल करता है। सभी आम-ओ-खास का समर्थन और सहयोग जरूरी है। अन्धविश्वास निर्मूलन कानून लागू होते ही बहुत सी मुसीबतों से अपने आप ही छुटकारा मिल जाएगा!

Leave a Reply

2 Comments on "अन्धविश्वास निर्मूलन क़ानून का निर्माण ही इसका संवैधानिक समाधान है!"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
suresh karmarkar
Guest
आदरणीय ,मैं आपके लेखों को पढता हुँ. ब्राह्मण होने के बाद भी जो चित्र आपने प्रस्तुत किया है वह मेरे लिए एक शर्म है. इतना ही नहीं उस चित्र को तथाकथित धर्म के भोंपुओं को बताने के लिए वह चित्र ”नई दुनिया दैनिक” में से काटकर मेरे पास कभी का रखा हुआ है. जब जब ये शेखीयाँ बघारते हैं और ”सर्व भवन्तु सुखिनः” का आलाप गेट हैं इन्हे वह चित्र बता देता हुँ. आपका यह कहना सही है की कारगर क़ानून ही इसको रोकेगा. किन्तु मीनाजी हमारा समाज इतना रूढ़िग्रस्त है की सहसा सुधरने को तैय्यर नहीं है. जो पढ़ालिखा… Read more »
Dr Ranjeet Singh
Guest
डाक्टर श्री मीणा साहिब, साम्यवाद, मार्क्स्वाद, अम्बेडकरवाद, सैक्यूलरवाद आदि आदि शब्द तो सुने थे; यह मनुवाद क्या हुआ और कहाँ वर्णित/ प्रतिपादित है? और यह “मनुवादियों के पैरों तले लेटना” भी क्या हुआ श्रीमन्? क्या यही है आपके “धर्म, जाति, वर्ण, समाज समाज, दाम्पत्य, अध्यात्म पर सतत चिन्तन” का उदाहरण? मनुवाद के अन्धविश्वास अन्धविश्वासों की बात आपने की; परन्तु समूचे लेख में यह कहीं नहीं बतलाया कि आपका यह अन्धविश्वास/ अनन्धविश्वास होता क्या है तथा कहाँ और किस प्रकार, किन शब्दों में परिभाषित है? तथा च, यदि इन से “आत्मीय सुकून” महसूस नहीं होता, “वैकुण्ठ का रास्ता नजर” नहीं आता,… Read more »
wpDiscuz