लेखक परिचय

रवि श्रीवास्तव

रवि श्रीवास्तव

स्वतंत्र वेब लेखक व ब्लॉगर

Posted On by &filed under विश्ववार्ता.


blast at bagha borderरविवार की शाम पाकिस्तान में बाघा बॉर्डर पर फ्लैग लोअरिंग सेरमिनी के समय हुए बम ब्लास्ट में 60 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई जबि 200 से अधिक लोग घायल हुए हैं। ऐसी घटनाएं काफी दुर्भाग्यपूर्ण होती हैं। पाक को आंतक का मुखौटे के रूप में संसार देखता है। हर किसी के जुबान पर अगर आंतकवाद की बात की जाए तो पहला नाम जो निकल कर आता है वह पाकिस्तान का होता है। हर तरफ से पाक की छवि ख़राब हो रही है। उसका सिर्फ एक ही कारण है आतंकवाद। कई देश इस सम्स्या से जूझ रहे है। हर तरफ बस आतंकवाद से लड़ने की बात हो रही है। आखिर इसे इतना बढ़ावा क्यों मिल रहा है। आंतक का गढ़ कहे जाने वाले पाकिस्तान भी इससे परे नही है। रह-रह कर वहां भी ये अपनी दहशत फैलाने से बाज नही आ रहे हैं। बाघा बॉर्डर पर फ्लैग लोअरिंग सेरमिनी के समय पाक की तरफ जो धमाका हुआ है ये इसका प्रत्यक्ष उदाहरण कहा जा सकता है। जिसमें न जाने कितने मासूमों के सिर से हाथ हट गया होगा। लेकिन इन दहशतगर्दों के इससे क्या मतलब है। इन्हें बनाया ही इसलिए जाता है। कठपुतली की तरह इशारों पर नाचाया जाता है। और बेसमझ ये एक खिलौने की तरह काम करते है। सिर्फ जन्नत पाने के लिए। अरे कौन देखता है कि किसे जन्नत मिली है, किसे दोजक। बेजुबान रोबेट की तरह काम करने वालों एक बार अपने मुखिया से कह दो कि आप भी हमारे साथ चलकर देखों और साथ में जन्नत का सैर-सपाटा करों। तब खुद को समझ में सारी बातें आ जाएगीं की जिंदगी की कीमत क्या है। जो बिना कसूरवार लोगों को कीड़ो मकोड़ों की तरह समझते हो। बाघा बॉर्डर पर फ्लैग लोअरिंग सेरमिनी के बाद निकल रहे लोग को देखते हुए आत्मघाती हमलावर ने खुद को उड़ा लिया।अपना तो गया इस दुनिया और अपने आका के नज़रों से साथ सैकड़ों लोगों के घर को भी बर्बाद कर दिया। ताजुब तो इस बात का है कि मुहर्रम को देखते हुए सुरक्षा व्यवस्था तो कड़ी थी।तब भी ऐसी वारदात हो गई। झण्डे को नीचे उतारने वाले समारोह को लेकर रोज दोनों देशों के नागरिक भारी संख्या में एकत्रित होते हैं। ऐसे में ये फियादीन हमला होना सुरक्षा की सारी पोल खोल देता है। आखिर 20 से 25 साल के बीच का वह लड़का 25 किलो की विस्फोटक सामग्री लिए हुए था। किसी को कानों कान ख़बर नही हुई। उस लड़के को बॉर्डर के परेड ग्राउण्ड के पास रोका गया तब उसने खुद को उड़ा लिया। आखिर परेड ग्राउण्ड तक वो पहुंचा कैसे। शुरूआत में चेंकिग क्यों नही हुई। बॉर्डर जैसी जगह पर ऐसी लापरवाही कैसे हो गई। कहीं ऐसा ते नही था कि वह लड़का बाघा बॉर्डर के गेट के पास पहुंचना चाहता था। जिससे पाक के साथ भारत का भी नुकसान हो। और घबराहट में वह इस पूरी घटना को अंजाम नही दे पाया हो। बात करे अगर पाक की तो 2013 के सितम्बर माह में पेशावर के एक चर्च पर आत्मघाती हमला किया गया था। जिसमें लगभग 80 इसाई मारे गए थे। अलकायदा से जुड़े आतंकवादी समूह जनदुल्लाह ने ली थी। अब पाक के प्रधानमंत्री ने इसकी निंदा की और रक्षामंत्री ख्वाजा मोहम्मद आसिफ ने कहा कि सरकार आतंकवाद से लड़ने की प्रतिबद्धता दोहराएगी। कहते है कि जैसा बोओगो वैसा काटोगे। जब खुद पर बीतती है तब पता चलता है।सही गलत का मतलब। जम्मी कश्मीर की बात करे तो हर दिन युद्धविराम का उल्लनघन किया जाता है। आखिर क्यों ऐसा क्या है कि हम शांति से नही रह सकते। उनके नेताओं की बात सुनों तो लगता है कि उनके देश के अंदर जम्मू कश्मीर के अलावा कोई दूसरा मुद्दा नही है। कश्मीर दे दों कश्मीर हमारा है बस रट लगा रखी है। अरे कश्मीर का नाम जितनी बार लेते हो खुदा का नाम उतनी बार जप लो तो शायद जन्नत मिल जाए। जिसकी तलाश में हर तरफ आंतक फैल रहा है। जब कभी आंतक की बात उठती हा तो पाक अपने के अलग क्यों रखता है। आंतक के खिलाफ अगर उसे भी मुहिम चलानी है तो साथ मिलकर लड़े। लेकिन फिर कश्मीर का राग कैसे गा पाएगा। इन्ही के भरोसे तो स्वर्ग जैसे इलाके को डर का डेरा बना दिया है। हर रोज सीमा सुरक्षा बल के जवानों और आंतकवादियों में मुठभेंड़ हो रहती है। अपना देश को सभाल नही पा रहे हैं। दांत दूसरे पर लगाकर बैठे है। दूसरों के लिए गढ्ढा खोदने वाले हमेशा उसे गढ़्ढे में गिरते हैं। सांप को दूध पिलाओगे तो कभी न कभी तो अपना रंग दिखाएगा और दूध पिलाने वाले को काटेगा। अभी भी वक्त है। सुधर जाओ, चेंत जाओ। नही एक वक्त ऐसा आएगा कि पछताओगे और कोई मद्द नही करेगा। पड़ोसी की तरह आपस में अच्छे व्यवहार से रहो।मेलजोल शांति रखो, एक ताकत की नई मिसाल बनाओ। दूसरों के पर्शनताप में जलकर तुम्हें कुछ नही मिलने वाला। नुकसान खुद का कर रहे हो। जैसा दूसरों के लिए बोओगे वैसा ही काटोगे।

रवि श्रीवास्तव

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz