लेखक परिचय

मृत्युंजय दीक्षित

मृत्युंजय दीक्षित

स्वतंत्र लेखक व् टिप्पणीकार लखनऊ,उप्र

उत्तर प्रदेश में योगी की ताजपोशी के साथ महाबदलाव के क्षण

Posted On & filed under राजनीति.

उप्र के युवा मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के शपथ लेने के साथ ही दो उपमुख्यमंत्रियों केशव प्रसाद मौर्य व लखनऊ के महापौर डा. दिनेश शर्मा को उपमुख्यमंमत्रंी पद की शपथ दिलायी गयी। उनके साथ 22 कैबिनेट मंत्रियांे सहित 13 राज्यमंत्रियों व नौ स्वतंत्र प्रभार मंत्रियों को भी पद और गोपनीयता की शपथ दिलायी गयी । प्रदेश के राजनैतिक इतिहास में योगी मंत्रिपरिषद ऐसी पहली मंत्रिपरिषद है जो पूरी तरह से बेदाग है। यह मंत्रिपरिषद नये और पुराने चेहरों का सम्मिश्रण है। मंत्रिपरिषद के गठन में जातीय व क्षेत्रीय संतुलन का शानदार तरीके से प्रयोग किया गया है

ऐतिहासिक है केंद्र सरकार की नई स्वास्थ्य नीति

Posted On & filed under जन-जागरण, राजनीति.

सरकार ने अपनी नई नीति में कई रोगों के उन्मूलन का भी लक्ष्य रख लिया है। जिसमें 2018 तक देश से कुष्ठ रोग की समाप्ति , वर्ष 2017 तक कालाजार और वर्ष 2017 तक ही लिम्फेटिक फाइलेरियसस का उन्मूलन करने की बात कही गयी है। इसके साथ ही क्षय रोगियों में 85 प्रतिशत से अधिक इलाज दर प्राप्त करने पर जोर दिया गया है। ताकि वर्ष 2025 तक इसका उन्मूलन किया जा सके।



उत्तर प्रदेश व उत्तराखंड में भाजपा की जीत के ऐतिहासिक मायने

Posted On & filed under राजनीति.

आज भाजपा की जीत के लिए सबसे बड़ा कारण यह भी है कि भाजपा को विगत तीन माह में जुमलेबाज पार्टी , नेता विहीन दल तीन साल मेंकोई काम न कर पाने वाले दल के रूप में अलंकृत किया गया था। जिसका लाभ आज भाजपा व सहयोगी दलों को मिल रहा है। विगत 27 सालों से किस न किसी प्रकार से सपा, बसपा और कांग्रेस ही प्रदेश मं राज कर रहे थे लेकिन यह सभी दल अपनी नाकामियों को छिपाते हुए प्रदेश के बिगड़ते हुए हालातांे के लिए पीएम मोदेी व भाजपा को जिम्मेदार मान रहे थे। सबसे बड़ी राहत की बात यह मिली हे कि एग्जिट पोलों के तुरंत बाद ही मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने बिना किसी देरी के अपनी बुआ के साथ प्यार की पेंगे बढ़ानी शुरू कर दी थी

आखिर लोगों को कितनी अभिव्यक्ति की आजादी चाहिए ?

Posted On & filed under राजनीति.

यह देश का एक बेहद कठिन व दुर्भाग्यपूर्ण दौर है कि वर्तमान में भारत में देशविरोधी नारे लगाने वालों व की भीड़ लग गयी है। ऐसे तत्वों को राजनैतिक समर्थन भी हासिल हो रहा है। यह लोग आतंकियों के प्रति हमदर्दी दिखाते हैं और उनके पीछे उने समर्थकों की फौज खड़ी हो जाती है। खबरें यह भी हैं कि आने वाले दिनों में आतंकवादी समर्थक सांसदों ने गुलमेहर की आड़ में पीएम मोदी की सरकार को घेरने के लिए संसद ठप करने की भी निर्लज्ज योजना बना ली है।

ओडिशा और महाराष्ट्र के निकाय चुनावों में भाजपा की जीत के निहितार्थ

Posted On & filed under राजनीति.

मृत्युंजय दीक्षित पांच राज्यों में चल रहे चुनावों के बीच ओडिशा और महाराष्ट्र के निकाय चुनावों के जो परिणाम सामने आये हैं। वह भाजपा के राहत देने वाले हैं तथा कांग्रेस के लिए बैचेनी पैदा करने वाले हैं। इन चुनाव परिणामों के बाद भाजपा अब यह कहने की स्थिति मेंहो गयी है कि नोटबंदी के… Read more »

प्रदेश की राजनीति में गुम होते मुददे , तीखी होती आपत्तिजनक बयानबाजी

Posted On & filed under राजनीति.

मृत्युंजय दीक्षित ऐसा प्रतीत हो रहा है कि उप्र का विधानसभा चुनाव जीतना लगभग सभी दलों के लिए इतना महत्वपूर्ण हो गया है कि अब वह विकास के रास्ते से भटककर कब्रिस्तान, श्मशान, कसाब तक पहुंच गया है। विधानसभा चुनावों की गतिविधियां प्रारम्भ होने के समय कांग्रेस पार्टी ने अकेले चलो का नारा दिया था… Read more »

सभी दलों की अग्निपरीक्षा का असली केंद्र होगा बुंदेलखंड

Posted On & filed under राजनीति.

मृत्युंजय दीक्षित उप्र विधानसभा चुनाव 2017 का पहला चरण पूरा हो चुका है तथा वहां के मतदान के आंतरिक रूझानों का अनुमान लगाने के बाद अब सभी दलों की निगाहें आगामी चरणों के लिए लग गयी हैं तथा वहां पर अपना परचम फहराने के लिए प्रयास भी काफी तेज कर दिये हैं। बुदेलखंड राजनैतिक दृष्टि… Read more »

क्या बदल गयी है शिवसेना ?

Posted On & filed under राजनीति.

मृत्युंजय दीक्षित ऐसा प्रतीत हो रहा है कि अब भाजपा का शिवसेना के साथ गठबंधन अधिक दिनों तक नहीं चलने वाला है। आज की शिवसेना काफी बदल चकी है। आज के उद्धव ठाकरे ने शिवसेना के संस्थापक बाला साहेब ठाकरे के सिद्धांतो को भी दरकिनार कर दिया है। स्व. बालासाहेब ठाकरेे ने शिवसेना की स्थापना… Read more »

मुस्लिम परस्ती का खतरनाक खेल खेलकर सत्ता पाने की चाहत में बसपा 

Posted On & filed under राजनीति.

मृत्युंजय दीक्षित उप्र विधानसभा चुनावों में रैलियों, जनसभाओं ओर रोड शो के चलते सभी दलों के प्रचार और  प्रसार में तेजी आ गयी है। अभी तक सभी सर्वेक्षणों व ज्योतिषी आंकलन में यदि किसी दल को बेहद कमतर व कमजोर माना जा रहा है तो वह है बसपा। लेकिन वास्तव में ऐसा है नहीं जब… Read more »

गरीबों के मसीहा पीएम नरेन्द्र मोदी

Posted On & filed under राजनीति.

मृत्युंजय दीक्षित संसद के वर्तमान बजट सत्र में पीएम मोदी ने राष्ट्रपति के अभिभाषण के धन्यवाद प्रस्ताव पर जो उत्तर दिया वह काफी ऐतिहासिक व लम्बा था। राजनैकि हलको मेंकहा जा रहा है कि पीएम मोदी ने अपने संबोधन के माध्यम से जहां विपक्ष पर तीखा हमला बोल दिया वहीं दूसरी ओर एक प्रकार से… Read more »