लेखक परिचय

मृत्युंजय दीक्षित

मृत्युंजय दीक्षित

स्वतंत्र लेखक व् टिप्पणीकार लखनऊ,उप्र

खादी ,गांधी और मोदी

Posted On & filed under विविधा.

मृत्युंजय दीक्षित ऐसा प्रतीत हो रहा है कि आजकल भाजपा व संघविरोधी मानसिकता वाले राजनैतिक दलों व मोदी विरोधियों के पास बहस के लिए कोई विषय नहीं रह गया है यही कारण है कि वह आजकल खाली समय के विषयांे पर ही बहस करते हुए और उन्हीं मुददों के सहारे केंद्र की भाजपा सरकार व… Read more »

बसपा की मुस्लिम परस्त राजनीति 

Posted On & filed under राजनीति.

मृत्युंजय दीक्षित आगामी विधानसभा चुनावों के लिए चुनाव आयोग ने तारीखों का ऐलान कर दिया है और इसी के साथ सभी दलां ने अपनी चुनावी तैयारियां तेज करनी प्रारम्भ कर दी हैं जिसमें बसपा नेत्री मायावती सबसे आगे दिखलायी पड़ रही हंै। बसपा नेत्री मायावती ने एक बार फिर दलित- मुस्लिम गठजोड़ का सहारा लिया है… Read more »



रमाबाई मैदान से प्रदेश में महापरिवर्तन का संकेत ?

Posted On & filed under राजनीति.

सर्वे से उत्साहित भाजपा मृत्युंजय दीक्षित उत्तर प्रदेश में चुनावी सरगर्मियां अब चरम सीमा पर पहंुच रही हैं। नये साल के दूसरे दिन ही लखनऊ के ऐतिहासिक रमाबाई मैदान में भाजपा ने महापरिवर्तन रैली का आयोजन किया जिसमें भाजपा के सामने सबसे बड़ी समस्या बसपा नेत्री मायावती की रैलियों में आने वाली भीड़ से भी… Read more »

सपा में वर्चस्व की जंग में जीते टीपू ,चुनावी जंग हुई रोचक 

Posted On & filed under राजनीति.

मृत्युंजय दीक्षित विगत चार माह से भी अधिक समय से समाजवादी दल में चाचा और भतीजे के बीच चल रही जंग अब बेहद निर्णायक दोैर में पहुंच गयी है। वर्ष 2017 की पूर्वसंध्या से समाजवादी दल में वर्चस्व की जंग में पहले दौर में समाजवादी टीपू ही सुल्तान बनने में कामयाब हुये हैं। लेकिन अभी… Read more »

नोटबंदी की असली परीक्षा व परिणाम 2017 में

Posted On & filed under आर्थिकी, विविधा.

मृत्युंजय दीक्षित विगत 8 नवंबर 206 को पीएम मोदी ने अचानक से देश को संबोधित करते हुए 500 व हजार के नोट बंद कर देने और कालेधन ,आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ ऐतहासिक जंग का ऐलान किया था। पीएम मोदी ने इस महाअभियान में जनता से 50 दिन का सहयोग मांगा था जो अब पूरा… Read more »

आगामी चुनाव जीतने के लिये समाजवादियों का सबसे बड़ा दांव

Posted On & filed under राजनीति.

मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने चुनावों से ठीक पहले बसपा , भाजपा और कांग्रेस को परेशान करने के लिये 17 अति पिछड़ी जातियों कहार, कश्यप, केवट, मल्लाह, निशाद, कुम्हार,प्रजापति,धीवर, बिंद,भर,राजभर,धीमर, बाथम, तुरहा, गोडिंया, मांझी व मछुआ को एस सी का दर्जा देने का ऐलान किया है। अब यह प्रस्ताव केंद्र सरकार के विचाराधीन भेजा जायेगा। सपा सरकार ने यह फैसला करके एक तीर से कई निशाने लगाने का अनोखा प्रयास किया है।

सुशासन के प्रतीक भारतरत्न अटल बिहारी बाजपेयी

Posted On & filed under शख्सियत, समाज.

25 दिसम्बर पर विशेषः- मृत्यंुजय दीक्षित भारतीय राजनीति व लोकतंत्र के महानायक व सुशासन के प्रतीक भारत को परमाणु शक्ति सम्पन्न देश बनाने में अग्रणी भूमिका अदा करने वाले भारत के पूर्व प्रधानमंत्री भारतरत्न यशस्वी अटल बिहारी बाजपेयी।पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी महान हिंदी कवि ,पत्रकार व प्रखरवक्ता थे। एक प्रकार से अटल बिहारी बाजपेयी… Read more »

#नोटबंदी के एक माह बाद देश के हालात

Posted On & filed under आर्थिकी, विविधा.

500 व एक हजार का #नोटबंद होने के बाद एक महीना बीत चुका है। पीएम मोदी ने देशवासियों के सहयोग से #कालेधन और #भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई की ऐतिहासिक शुरूआत कर दी है। पीएम मोदी जनसभाओं व कार्यक्रमों में #नोटबंदी को अब तक का सबसे ऐतिहासक कदम बता रहे हैं और विपक्ष नोटबंदी को लेकर लगातार आक्रामक बना हुआ है।

भारतरत्न संविधान निर्माता :-  डा. अंबेेडकर 

Posted On & filed under विधि-कानून, विविधा.

भारतीय समाज में सामाजिक समता, सामाजिक न्याय, सामाजिक अभिसरण जैसे समाज परिवर्तन के मुददों को उठाने वाले भारतीय संविधान के निर्माता व सामाजिक समरसता के प्रेरक भारतरत्न डा.भीमराव अम्बेडकर का जन्म 14 अप्रैल 1891 को महू मध्यप्रदेश में हुआ था। इनके पिता रामजी सकपाल व माता भीमाबाई धर्मप्रेमी दम्पति थे।

राम मंदिर निर्माण : आखिर कब तक देश का जनमानस करे इंतजार

Posted On & filed under विविधा.

भारत के इतिहास में 6 दिसम्बर की तारीख का बड़ा ही ऐतिहासिक महत्व है। इस दिन भारत के संविधान निर्माता डा. अम्बेडकर का निधन हुआ था और इसी दिन 6 दिसम्बर 1992 को विश्व हिंदू परिषद के नेतृत्व में विवादित स्थल पर भव्य राम मंदिर के निर्माण के उददेश्य हेतु अयोध्या में कारसेवा का आयोजन किया गया था।