लेखक परिचय

मुकेश चन्‍द्र मिश्र

मुकेश चन्‍द्र मिश्र

उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ जिले में जन्‍म। बचपन से ही राष्ट्रहित से जुड़े क्रियाकलापों में सक्रिय भागेदारी। सांस्कृतिक राष्ट्रवाद और देश के वर्तमान राजनीतिक तथा सामाजिक हालात पर लेखन। वर्तमान में पैनासोनिक ग्रुप में कार्यरत। सम्पर्क: mukesh.cmishra@rediffmail.com http://www.facebook.com/mukesh.cm

जंगलराज पार्ट – 2 मुबारक

Posted On & filed under चुनाव, राजनीति.

मुबारक हो बिहारियों आप लोगों ने एकबार फिर से दिखा दिया की जातिवाद भारत खासकर बिहार और उत्तर प्रदेश की आत्मा मे बसा हुआ है जो आने वाले दशकों मे तो सायद खत्म होने वाला नहीं वरना जातिवाद और जंगलराज के प्रतीक बन चुके लालू यादब बिहार की पहली पसंद न बनते वो भी तब… Read more »

भाजपा की हार और सेकुलरों की मौज

Posted On & filed under चुनाव विश्‍लेषण.

हाल के सम्पन्न हुये उपचुनावों मे बीजेपी को अपेक्षित सफलता नहीं मिली हालांकि वो सबसे बड़ी पार्टी ही बनी रही, जिससे भाजपा से द्वेष की हद तक नफरत करने वाले तथाकथित सेकुलर बुद्धिजीवियों को टॉनिक मिल गया है और लोकसभा मे बीजेपी की जीत पर हुयी कुंठा को निकालने का मौका भी। समाचार चैनलो पर… Read more »



शोर ना करें भारतीय फौज सो रही है

Posted On & filed under जन-जागरण.

जिस समय अमेरिका ने ओसामा बिन लादेन को पाकिस्तान मे घुस कर मारा था तो पारम्परिक तौर पर हमेशा फौज का गुणगान करने वाली पाकिस्तानी अवाम ने अपनी सेना को खूब गालियां दी थी, और वहां आटो वाले अपनी गाडियों के पीछे “शोर न करें पाकिस्तानी फौज सो रही है” के बैनर टांग के चल… Read more »

चाणक्य से पाकिस्तान ने सीखा और हमने पृथ्वीराज से

Posted On & filed under राजनीति.

हजारों साल पहले भारत माता को एक करने के लिये आचार्य चाणक्य ने साम दाम दंड भेद के जो तरीके अपनाये थे वही तरीका आज हमारा पडोसी देश पाकिस्तान हमारे देश को बर्बाद करने के लिये अपनाये हुये है जिसमे उसका साथ दुनिया के ज्यादातर मुस्लिम और लगभग सारे इस्लामी मुल्क दे रहे हैं, यहां… Read more »

कश्मीरी पंडित ना समझो जाटों को।

Posted On & filed under राजनीति.

मुजफ्फरनगर की हिंसा ना तो पहली है ना आखिरी ये तो अब हमारे देश में आम हो चला है, मीडिया रिपोर्टों के अनुसार भारत मे साल भर के अंदर ५०० से ज्यादा दंगे हो चुके हैं जिसमे १०० से ऊपर दंगे अकेले यूपी मे हुए हैं, जबकी यहां पर कथित महासेकुलर सरकार है और साम्प्रदायिक(?)… Read more »

वन्दे मातरम

Posted On & filed under कविता.

वन्दे मातरम नहीं पूजा है किसी की,  ये तो सिर्फ एक माँ को उसके बेटे का सलाम है। यही समझाते हमने सदियाँ गुजार दीं, पर आज तक इसमें रोड़ा इस्लाम है।। जिस सोच ने विभाजित कर दिया देश को,  वो आज भी उसी रूप में ही विद्यमान   है। सेकुलर और तुष्टीकरण की नीतियों से, हिंद में भी बन गए कई तालिबान  हैं।। राष्ट्रभक्त मुस्लिमो को बरगला रहें हैं जो,  ऐसे  एक  नहीं  और कई  रहमान  हैं। फूंक के तिरंगा यदि जिन्दा है कोई तो,  संविधान ऐसे चन्द गद्दारों का गुलाम  है।। मातृभूमि और माँ की सेवा से बड़ा ना धर्मं,  ऐसा सोचना भी क्या सांप्रदायिक काम है? मुल्क से भगावो ऐसे देशद्रोहियों को जो,… Read more »

वोटबैंक के खेल मे, राजा भैया जेल मे ?

Posted On & filed under महत्वपूर्ण लेख, राजनीति.

कुंडा (प्रतापगढ़) के डीएसपी की हत्या का जिस तरह से सांप्रदायिक करण करके इसमे राजा भैया को  फंसाया जा रहा है उससे मुलायम और अखिलेश का दोगला चरित्र फिर से सामने है, और ये साबित करता है इन पिता पुत्र की जोड़ी को मुस्लिमो के वोटों से ज्यादा किसी की फिकर नहीं, वरना अपने ही… Read more »

बच्चों को दंडित किया तो शिक्षकों की खैर नहीं

Posted On & filed under समाज.

हमारे देश मे प्राचीन काल से ही शिक्षकों द्वारा बच्चों को पढ़ाई ना करने या दिया हुआ कार्य पूरा ना करने पर सजा देने का प्रावधान था, पर आज देश मे कुकुरमुत्ते की तरह उग आए NGO, मानवाधिकार संगठन और कथित समाजसेवी संस्थाएं हमारी प्राचीन शिक्षा पद्धति को ध्वस्त करने पर आमादा हैं, जिसके तहत आज… Read more »

अन्ना जीरो केजरीवाल हीरो…..

Posted On & filed under राजनीति.

जब से अरविंद केजरीवाल ने भ्रष्टाचार के खिलाफ अपनी मुहिम मे भाजपा को भी शामिल किया तथा अपनी खुद की पार्टी बनाने का ऐलान कर दिया है, उनके विरोधियों की संख्या मे बेतहासा वृद्धि हो रही है, यहाँ तक की उनके वरिष्ठतम सहयोगी श्रीमान अन्ना हज़ारे साहब ने भी उनसे दूरी बना ली है, जो… Read more »

रॉन्ग नंबर ‘Wrong Number’

Posted On & filed under कविता, मनोरंजन.

(सत्य घटना पर आधारित एक हास्य) कई दिनों बाद किसी का फोन आया। मै बना रहा था सब्जी, उसे छोड़कर उठाया।। उधर से एक पतली सी आवाज आयी हैलो नरेश! मैंने कहा सॉरी हियर इज मुकेश! उसने कहा! क्यों बेवकूफ बना रहे हो। मुझे सब पता है तुम नरेश ही बोल रहे हो।। मै थोडा… Read more »