लेखक परिचय

प्रवक्‍ता ब्यूरो

प्रवक्‍ता ब्यूरो

एकता और अखंण्डता के लिए घातक है ऐसी नारेबाजी

Posted On & filed under राजनीति.

आज सम्पूर्ण भारतवर्ष ऐतिहासिक, सांस्कृतिक, राजनीतिक एवं संवैधानिक दृष्टि से एक है। हमारा संविधान ‘हम भारत के लोग ……. ……’ से शुरू होकर हमारी एकता को रेखांकित करता है। संवैधानिक स्तर पर भारत का कोई भी नागरिक अपने मूल निवास स्थान के अतिरिक्त अन्य क्षेत्रों में भी चुनाव लड़ने के लिए अधिकृत है। यह हमारी… Read more »

‘उत्तर प्रदेश – विकास की प्रतीक्षा में’ पुस्तक समीक्षा

Posted On & filed under पुस्तक समीक्षा, साहित्‍य.

Bloomsbury प्रकाशन द्वारा प्रकाशित इस पुस्तक में पिछले 15 सालों में सपा-बसपा द्वारा उत्तर प्रदेश में किये गए कु-शासन को विस्तार से व्यापक रिसर्च करके प्रस्तुत किया गया है. इस पुस्तक के लेखक है, शान्तनु गुप्ता, जिन्होंने लंदन से पॉलिसी और राजनीति की पढ़ाई की है। और लम्बे समय से भारत में डिवेलप्मेंट रीसर्च में… Read more »



बसन्त पंचमी

Posted On & filed under धर्म-अध्यात्म, फ़ेस बुक पेज़ से.

1.सृष्टि के प्रारंभिक काल में भगवान विष्णु की आज्ञा से ब्रह्मा ने जीवों, खासतौर पर मनुष्य योनि की रचना की। अपनी सर्जना से वे संतुष्ट नहीं थे। उन्हें लगता था कि कुछ कमी रह गई है जिसके कारण चारों ओर मौन छाया रहता है। विष्णु से अनुमति लेकर ब्रह्मा ने अपने कमण्डल से जल छिड़का,… Read more »

नैतिक शिक्षा के पैरोकार महात्मा गांधी

Posted On & filed under राजनीति, शख्सियत.

गांधी पुण्यतिथि पर विशेष मैं कभी झूठ नहीं बोलता, यह वाक्य लगभग हर आदमी कहता है लेकिन जब स्वयं की गलती मानने का वक्त होता है तो वह केवल और केवल झूठ का सहारा लेता है। यह बनी-बनायी बात नहीं है अपितु जीवन का एक कड़ुवा सत्य है। ऐसा क्यों हुआ या हो रहा है?… Read more »

जानिए आखिर क्या है बसंतोत्सव / बसंत पर्व / “बसंत पंचमी” अथवा मधुमास पर्व ….

Posted On & filed under कला-संस्कृति, धर्म-अध्यात्म, वर्त-त्यौहार.

माघ महीने के शुक्ल पक्ष की पंचमी को बसंत पंचमी कहा जाता है। माना जाता है कि विद्या, बुद्धि व ज्ञान की देवी सरस्वती का आविर्भाव इसी दिन हुआ था। इसलिए यह तिथि वागीश्वरी जयंती व श्री पंचमी के नाम से भी प्रसिद्ध है। ऋग्वेद के 10/125 सूक्त में सरस्वती देवी के असीम प्रभाव व… Read more »

जल्लीकट्टू ने औकात दिखाई…

Posted On & filed under विविधा.

जनता के मनोभाव, उनके आस्था, उनकी परम्परा या उनकी सांस्कृतिक गतिविधियों पर बिना सोंचे समझे प्रहार करना हमारी व्यवस्था, हमारे न्यायतंत्र के लिए एक अच्छा सबक मिला है| धर्म आधारित आस्था व विश्वास के सांस्कृतिक पहलुओं पर कोर्ट को खुद मसीहा घोषित करने का दांव इस बार उल्टा पड़ गया| जनमानस की भावनाओं को अनदेखा… Read more »

माननीय श्री दत्तात्रयजी होसबळे,अ.भा. सह सरकार्यवाह का व्यक्तव्य।

Posted On & filed under राजनीति.

आरक्षण और संघ (RSS) आज फिर आरक्षण विषय पर विवाद खड़ा करने का प्रयास हुआ है संघ ने हमेशा यह प्रयास किए हैं कि संविधान प्रदत्त आरक्षण जारी रहना चाहिए। संविधान में एसटी एससी ओबीसी के रिजर्वेशन प्रावधान है। इन सभी वर्गों को आरक्षण का पूरा पूरा लाभ मिले इसके लिए संघ की अखिल भारतीय… Read more »

पटना  नाव हादसा : प्रशासनिक लापरवाही का नतीजा

Posted On & filed under विविधा.

सरकारी दावा २१ मौतें परन्तु अपनों को तलाशते घाट पर मौजूद लापता लोगों के परिजनों को देख कर कहा जा सकता है कि मृतकों की संख्या इससे हो सकती है बहुत ज्यादा l नीतीश सरकार के आपदा प्रबंधन की एक बार फिर खुली पोल , NDRF के बाद पहुँचा जिला – प्रशासन, प्रकाश-पर्व उत्सव के इंतजामातों की कुछ ज्यादा ही हो… Read more »

सुरक्षा पर सवाल खड़ा करती है दिल्ली मेट्रो का फैसला

Posted On & filed under विविधा.

रजनीश कुमार दिल्ली मेट्रो ने महिलाओं को अपनी सुरक्षा के लिए लाइटर, माचिस और चाकू रखने की इजाजत दी है. अब तक दिल्ली मेट्रो में यात्रा के दौरान लाइटर, माचिस और चाकू जैसी प्रतिबंधित वस्तुओं को ले जाने की मनाही थी. यह फैसला केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) ने लिया है. सीआईएसएफ के तरफ से… Read more »

विश्व पुस्तक मेला 2017 के अवसर पर एन.बी.टी. के सौजन्य से ‘इंटरनेट व हिन्दी साहित्य’ विषय पर प्रवक्ता डॉट कॉम द्वारा संगोष्ठी

Posted On & filed under प्रवक्ता न्यूज़.

विश्व पुस्तक मेला 2017 के अवसर पर एन.बी.टी. के सौजन्य से ‘इंटरनेट व हिन्दी साहित्य’ विषय पर प्रवक्ता डॉट कॉम द्वारा हॉल सं. 8 (ऑथर’स कॉर्नर) में संगोष्ठी का आयोजन की कुछ तस्वीरें; (7 जनवरी 2017; प्रगति मैदान, नई दिल्ली)…