लेखक परिचय

प्रवीण दुबे

प्रवीण दुबे

विगत 22 वर्षाे से पत्रकारिता में सर्किय हैं। आपके राष्ट्रीय-अंतराष्ट्रीय विषयों पर 500 से अधिक आलेखों का प्रकाशन हो चुका है। राष्ट्रवादी सोच और विचार से प्रेरित श्री प्रवीण दुबे की पत्रकारिता का शुभांरम दैनिक स्वदेश ग्वालियर से 1994 में हुआ। वर्तमान में आप स्वदेश ग्वालियर के कार्यकारी संपादक है, आपके द्वारा अमृत-अटल, श्रीकांत जोशी पर आधारित संग्रह - एक ध्येय निष्ठ जीवन, ग्वालियर की बलिदान गाथा, उत्तिष्ठ जाग्रत सहित एक दर्जन के लगभग पत्र- पत्रिकाओं का संपादन किया है।

यह भारत उदय का संकेत है

Posted On & filed under राजनीति.

यह उस मानसिकता के समर्थक हैं जो नारे लगाते हैं भारत तेरे टुकड़े होंगे, याकूब और अफजल जैसे आतंकवादियों को बचाने यह रात के 2 बजे सर्वोच्च न्यायालय की ओऱ दौड़ लगाते हैं , वन्देमातरम और भारतमाता की जय बोलने का यह विरोध करते हैं।बावरी विद्यन्स पर यह विधवा विलाप करते हैं और गोधरा पर जशन मनाते हैं।

थॉमस का राजनीतिक पूर्वाग्रह

Posted On & filed under राजनीति.

प्रवीण दुबे संसद की लोकलेखा समिति के अध्यक्ष व कांग्रेस के वरिष्ठ नेता केवी थॉमस ने #नोटबंदी मामले में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को समिति के सामने सवाल-जवाब करने के लिए बुलाने की बात कहकर सबको चौंका दिया है। श्री थॉमस का यह बयान उसी समय सामने आया है जब कांग्रेस के ही एक अन्य वरिष्ठ… Read more »



अग्निपरीक्षा का शंखनाद

Posted On & filed under राजनीति.

प्रवीण दुबे उत्तरप्रदेश सहित पांच राज्यों में चुनाव तिथियों की घोषणा के बाद अब देश का राजनीतिक माहौल पूरी तरह से गर्मा गया है। सभी राजनीतिक दलों के लिए सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण उत्तरप्रदेश का चुनाव है। यह कहा जाता है कि दिल्ली का रास्ता उत्तरप्रदेश के चुनाव नतीजों पर काफी हद तक निर्भर करता है।… Read more »

आखिर यह हंगामा क्यों बरपा है?

Posted On & filed under राजनीति.

लाइनों में खड़े लोगों से भड़काऊ संवाद किया गया घरना, प्रदर्शन, सभाएं की गई लेकिन कुछ भी हासिल नहीं हुआ। हर जगह मोदी-मोदी के नारे मिले साथ ही विरोध का सामना करना पड़ा। इतना होने के बावजूद राहुल बाबा, ममता दीदी मानने को तैयार नहीं हैं। उन्हें सलाह है कि बुद्धिमानी इसी में है कि शांत बैठकर अपनी देश तोड़ू नीतियों, भ्रष्टाचार और घपले, घोटालों को समर्थन देने वाली नीतियों में परिवर्तन का कोई रास्ता तलाशें इसी में उनकी भलाई है।

रुपया बड़ा या राष्ट्रहित

Posted On & filed under आर्थिकी, विविधा.

प्रधानमंत्री ने अपने भाषण में ऐसे लोगों को भरपूर भरोसा दिलाते हुए उनके हितों के संरक्षण की बात कही, उन्होंने कहा कि देश के लिए देश का नागरिक कुछ दिनों के लिए यह कठिनाई झेल सकता है, मैं सवा सौ करोड़ देशवासियों की मदद से भ्रष्टाचार के खिलाफ इस लड़ाई को और आगे ले जाना चाहता हूँ, उन्हीं के शब्दों में ‘ तो आइए जाली नोटों का खेल खेलने वालों और कालेधन से इस देश को नुकसान पहुंचाने वालों को नेस्तनाबूत कर दें, ताकि देश का धन देश के काम आ सके, मुझे यकीन है कि मेरे देश का नागरिक कई कठिनाई सहकर भी राष्ट्र निर्माण में योगदान देगा। मोदी के इन शब्दों को पूरे देशवासियों को ध्यान से पढऩा चाहिए। हमें नहीं भूलना चाहिए कि राष्ट्रहित से बड़ा कोई नहीं।

आखिर इस राष्ट्रहित के निर्णय पर आपत्ति क्यों?

Posted On & filed under आर्थिकी, विविधा.

इन दोनों ही बातों में प्रधानमंत्री मोदी ने राष्ट्रहित को सर्वोपरि माना है, कोई भी समझदार और देशभक्त नागरिक इसका विरोध करेगा ऐसा समझ नहीं आता है। ऐसा पहली बार नहीं है जब राष्ट्रहित की खातिर कोई बड़ा निर्णय लिया गया है। यहां यह भी लिखने में कोई संकोच नहीं है कि इस देश के नागरिकों ने हमेशा राष्ट्रहित हेतु लिए कठोर निर्णयों का न केवल स्वागत किया है बल्कि उसमें तन मन धन से सहयोग भी किया है।

खिसियानी बिल्ली खंबा नोंचे

Posted On & filed under आर्थिकी, विविधा.

अब तो चीन की उपहास भरी टिप्पणियों का जवाब यही होना चाहिए कि चीनी सामान की बिक्री जो 20 से 25 प्रतिशत घटी है वह 100 प्रतिशत तक नीचे कैसे जाए? जिस दिन भी यह चमत्कार हमने कर दिखाया उस दिन चीन को भारत के आगे नतमस्तक होने को मजबूर होना होगा। निश्चित ही यह काम कठिन है और चीन आज जो हमारा उपहास उड़ा रहा है, हमारे खिलाफ भद्दी टिप्पणियां कर रहा है, इसके पीछे का सच भी बड़ा कड़वा है।

जांबाज जवान तुम्हें सलाम

Posted On & filed under राजनीति.

अभी तक कश्मीर मसले को लेकर हमारे देश में इजरायल जैसी शौर्यता और पराक्रम दिखाने की बात की जाती रही है। पिछले तीन वर्षों के दौरान यह दूसरा मौका है जब भारत की सेना ने दूसरे देश में अंदर घुसकर आतंकवादियों को मौत की नींद सुलाने का कार्य किया है।

कांग्रेस के मुंह पर न्यायालय का तमाचा

Posted On & filed under राजनीति.

प्रवीण दुबे यह सच है कि भारत में बोलने और लिखने की सभी को छूट मिली हुई है। लेकिन इसका कदापि यह अर्थ नहीं लगाया जाना चाहिए कि कुछ भी बोला जाए और कुछ भी लिखा जाए। इस अधिकार की आड़ में राष्ट्रहित से खिलवाड़ अथवा किसी पर झूठे आरोप लगाकर उसकी छवि धूमिल करने… Read more »

आतंकी की मौत पर गद्दारों का मरसीहा

Posted On & filed under राजनीति.

प्रवीण दुबे कैसी विडंबना है एक आतंकवादी की मौत पर उलेमाओं द्वारा मरसीहा पढ़ा जा रहा है, छाती पीट-पीटकर मानवतावाद की दुहाई दी जा रही है। जो लोग ऐसा कर रहे हैं शायद उन्हें यह नहीं मालूम कि मुल्क से गद्दारी और दोगलेपन पर अल्ला ताला भी उन्हें माफ नहीं करेगा। कश्मीर में बुरहान वानी… Read more »