लेखक परिचय

राकेश कुमार आर्य

राकेश कुमार आर्य

'उगता भारत' साप्ताहिक अखबार के संपादक; बी.ए.एल.एल.बी. तक की शिक्षा, पेशे से अधिवक्ता राकेश जी कई वर्षों से देश के विभिन्न पत्र पत्रिकाओं में स्वतंत्र लेखन कर रहे हैं। अब तक बीस से अधिक पुस्तकों का लेखन कर चुके हैं। वर्तमान में 'मानवाधिकार दर्पण' पत्रिका के कार्यकारी संपादक व 'अखिल हिन्दू सभा वार्ता' के सह संपादक हैं। सामाजिक रूप से सक्रिय राकेश जी अखिल भारत हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय प्रवक्ता व राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और अखिल भारतीय मानवाधिकार निगरानी समिति के राष्ट्रीय सलाहकार भी हैं। दादरी, ऊ.प्र. के निवासी हैं।

स्थानीय हिन्दू शासक भी लड़ते रहे अपना स्वतंत्रता संग्राम

Posted On & filed under लेख, साहित्‍य.

राकेश कुमार आर्य  सिकंदर लोदी बना सुल्तान बहलोल लोदी की मृत्यु जुलाई 1489 ई. में हो गयी थी। तब उसके पश्चात दिल्ली का सुल्तान उसका पुत्र निजाम खां सिकंदर दिल्ली का सुल्तान बना। उस समय दिल्ली सल्तनत कोई विशेष बलशाली सल्तनत नही रह गयी थी। उसके विरूद्घ नित विद्रोह हो रहे थे और सुल्तानों… Read more »

एक हुतात्मा दुला भट्टी जिसकी स्मृति में मनायी जाती है लोहड़ी

Posted On & filed under विविधा.

  नवमुस्लिमों  का हिन्दू प्रेम इतिहास में ऐसे अनेकों उदाहरण हैं जब किसी कारण से या किसी परिस्थितिवश कोई व्यक्ति यदि मुसलमान बन भी गया तो भी उसने हिंदू संस्कारों का और हिंदू संस्कृति का हृदय से बहिष्कार नही किया। इसके विपरीत वह अपने पूर्व संस्कारों के अनुसार अपने धर्मबंधुओं के प्रति सहयोगी और सदभावी… Read more »



दिल्ली का मौहम्मद तुगलक और अरविन्द केजरीवाल

Posted On & filed under राजनीति.

पंजाब की जनता अपने लिए किसे चुनेगी यह तो समय ही बताएगा-पर हम यहां की जनता के निर्णय की परिपक्वता पर आज ही संतुष्ट हैं कि वह जो भी निर्णय लेगी उसे सोच समझकर ही लेगी। केजरीवाल यह भूल जाएं कि जनता कुछ भी नहीं जानती, इसके विपरीत यह मान लें कि यह जनता सब कुछ जानती है। दिल्ली पर शासन करके और अब यह मानकर कि दिल्ली की जनता तुझसे असंतुष्ट है और वह तुझे आगे शायद ही पसंद करे – पंजाब की ओर केजरीवाल का भागना उनकी अवसरवादी राजनीति का एक अंग है, जिसमें वह अपना भविष्य सुरक्षित देख रहे हैं। उनका यह निर्णय मौहम्मद तुगलक की याद दिलाता है जिसने राजधानी दिल्ली से दौलताबाद बनाने का निर्णय लिया था, पर अपनी फजीहत कराके वापस दिल्ली ही आ गया था। केजरीवाल को आना तो दिल्ली में ही है-पर अच्छा हो कि फजीहत कराके ना आयें।

अत्याचारों की करूण गाथा के उस काल में भी आशा जीवित रही

Posted On & filed under लेख, साहित्‍य.

राकेश कुमार आर्य   सिकंदर के शासन काल में हिंदुओं की स्थिति कश्मीर में सिकंदर का शासन और हिंदुओं की स्थिति इस प्रकार थी कि सिकंदर का शासन मानो खौलते हुए तेल का कड़ाह था और हिंदू उसमें तला जाने वाला पकौड़ा। ऐसी अवस्था में बड़ी क्रूरता से हिंदुओं से जजिया वसूल किया जाता था।… Read more »

जब कश्मीर के राजा जशरथ ने बढ़ाया भारत का ‘यश’ रथ

Posted On & filed under लेख, साहित्‍य.

राकेश कुमार आर्य संसार एक सागर है संसार एक सागर है, जिसमें अनंत लहरें उठती रहती हैं। ये लहरें कितने ही लोगों के लिए काल बन जाती हैं, तो कुछ ऐसे शूरवीर भी होते हैं जो इन लहरों से ही खेलते हैं और खेलते-खेलते लहरों को अपनी स्वर लहरियों पर नचाने भी लगते हैं। ऐसा संयोग इतिहास… Read more »

शेरे कश्मीर बनने की राह पर उमर अब्दुल्ला

Posted On & filed under राजनीति.

राकेश कुमार आर्य  इधर हम सभी #नोटबंदी और उत्तर प्रदेश में सपा की नौटंकी देखने में व्यस्त रहे और उधर जम्मू कश्मीर की विधानसभा में नेशनल कांफ्रेंस और कांग्रेस ने एक बार पुन: राष्ट्रगान का अपमान कर डाला। इधर हम पांच राज्यों के चुनावों की तैयारियां कर रहे हैं और उधर जम्मू कश्मीर के… Read more »

हमें राजनीति सापेक्ष बनना होगा

Posted On & filed under राजनीति.

राकेश कुमार आर्य हमारे देश में प्रजातंत्र की मजबूत जड़ों के होने की बात अक्सर कही जाती है, पर जब हम उत्तर प्रदेश में हो रही राजनीति की वर्तमान दुर्दशा के चित्रों को बार-बार घटित होते देखते हैं, तो यह विश्वास नहीं होता कि भारत में प्रजातंत्र की गहरी जड़ें हैं। उत्तर प्रदेश सहित कई… Read more »

कभी ‘कठोर’ कभी ‘मुलायम’

Posted On & filed under राजनीति.

राकेश कुमार आर्य  राजनीति कैसे-कैसे खेल कराती है और कैसे आदमी अपने ही बनाये-बुने मकडज़ाल में फंसकर रह जाता है-इसका जीता जागता उदाहरण मुलायम सिंह यादव हैं। एक समय था जब नेताजी भारत की राजनीति को प्रभावित करते थे और दिल्ली दरबार उनके आदेश की प्रतीक्षा किया करता था, आज वही व्यक्ति निढाल, बेहाल,… Read more »

सावधान! जटायु अभी जीवित है

Posted On & filed under राजनीति.

जहां तक पी.एम. के भाषण में आतंकवाद के विरूद्घ आयी गर्मजोशी का प्रश्न है तो इसमें गलत क्या है? यदि पी.एम. आतंकवाद से जूझते और सीमाओं के पार हो रही युद्घ की तैयारियों के बीच देशवासियों को ‘गर्म’ नहीं करेगा या इसी विषय पर बात नहीं करेगा तो क्या उसे ऐसे अवसरों पर केवल एक दूसरे से यही पूछना चाहिए कि आपके घर में क्या सब्जी पकी है और आपके बच्चे किस क्लास में पढ़ रहे हैं?

स्वच्छता अभियान और मोदी सरकार

Posted On & filed under विविधा.

पुराने समय में लोग खुले में शौच जाते थे तो अपने मल को खेत में मिट्टी से दबाकर आते थे इससे उत्तम ‘मल विनष्टीकरण’ का कोई अन्य ढंग नही हो सकता। इस क्रिया से मल की बदबू वातावरण में नही फैलती थी। पर मल मिट्टी के साथ मिलकर 24 घंटे में ही खाद बन जाता था, जिससे खेत की उत्पादन क्षमता बढ़ती थी। इसके अतिरिक्त आजकल शौचालय में जिन सीटों को हम बैठने के लिए प्रयोग करते हैं-उन्होंने हम सबको बीमार कर दिया है।