लेखक परिचय

लक्ष्मी जायसवाल

लक्ष्मी जायसवाल

दिल्ली विश्वविद्यालय से हिंदी पत्रकारिता में स्नातकोत्तर डिप्लोमा तथा एम.ए. हिंदी करने के बाद महामेधा तथा आज समाज जैसे समाचार पत्रों में कुछ समय कार्य किया। वर्तमान में डायमंड मैगज़ीन्स की पत्रिका साधना पथ में सहायक संपादक के रूप में कार्यरत। सामाजिक मुद्दों विशेषकर स्त्री लेखन में विशेष रुचि।

Posted On by &filed under कविता.


-लक्ष्मी जायसवाल-
poem
खूबसूरती एक मुस्कुराहट है,
और इस मुस्कुराहट में,
अपनी हंसी से,
चांदनी बिखेरती हो तुम।
खूबसूरती एक सपना है,
और उन सपनों में,
अपनी उम्मीदों के,
रंग भर जाती हो तुम।
खूबसूरती एक जगमगाहट है,
और उस जगमगाहट में,
अपनी बातों से,
रोशनी भर जाती हो तुम।
खूबसूरती एक प्यारी अदा है,
और उस अदा को,
अपने प्यार के,
एहसास से भर जाती हो तुम।
खूबसूरती का नाम मां है,
और उस मां को,.
अपनी ममता से,
और प्यारी बना जाती हो तुम।
खूबसूरती के सभी नामों,
को और खूबसूरत बनाती हो तुम,
इसीलिए कहती हूं,
मेरी नज़रों में,
खूबसूरत हो तुम।

Leave a Reply

1 Comment on "खूबसूरत हो तुम"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
lakshmi
Guest

Please change my name which is Lakshmi Jayswal.

wpDiscuz