लेखक परिचय

डॉ. कुलदीप चन्‍द अग्निहोत्री

डॉ. कुलदीप चन्‍द अग्निहोत्री

यायावर प्रकृति के डॉ. अग्निहोत्री अनेक देशों की यात्रा कर चुके हैं। उनकी लगभग 15 पुस्‍तकें प्रकाशित हो चुकी हैं। पेशे से शिक्षक, कर्म से समाजसेवी और उपक्रम से पत्रकार अग्निहोत्रीजी हिमाचल प्रदेश विश्‍वविद्यालय में निदेशक भी रहे। आपातकाल में जेल में रहे। भारत-तिब्‍बत सहयोग मंच के राष्‍ट्रीय संयोजक के नाते तिब्‍बत समस्‍या का गंभीर अध्‍ययन। कुछ समय तक हिंदी दैनिक जनसत्‍ता से भी जुडे रहे। संप्रति देश की प्रसिद्ध संवाद समिति हिंदुस्‍थान समाचार से जुडे हुए हैं।

Posted On by &filed under राजनीति.


download (1)नितिन गडकरी की कम्पनियों पर आयकर विभाग के छापों के लिये जो दिन निश्चित किया गया , वह अपने आप में ही सिद्ध करता है कि केन्द्रीय सरकार सरकारी ऐजंसियों का प्रयोग अपने राजनैतिक स्वार्थ के लिये कर रही है । गड़करी पर ये आरोप तो काफ़ी अरसे से लग रहे हैं । आयकर विभाग ये छापे काफ़ी अरसा पहले भी मार सकता था । लेकिन उस ने इस के लिये भाजपा अध्यक्ष पद के लिये होने वाले चुनाव से ठीक एक दिन पहले का दिन चुना , इससे उसकी मंशा का अंदाज़ा लगाया जा सकता है । इस टिपण्णी के बाद अब आगे बात बढातें हैं । भारत के राजनैतिक दलों में मात्र आरोप लगने पर त्यागपत्र देने की परम्परा नहीं है । यदि यह होती तो शायद किसी पार्टी का कोई नेता ज़्यादा दिन अपने पद पर टिक न पाता । भारतीय राजनीति में यह शुरुआत भारतीय जनता पार्टी के लाल कृष्ण आडवाणी ने की थी , जब उनका नाम जैन हवाला कांड की डायरी में पाया गया था । उन्होंने अपने पद से त्याग पत्र दे दिया था और संकल्प किया था कि वे तभी वापिस लौटेंगे जब उन पर लगे आरोप धुल जायेंगे । और सचमुच जब जाँच में वे निर्दोष पाये गये , तभी उन्होंने राजनीति में अपने दायित्व पुनः: संभाले । यह भारतीय राजनीति में एक नया आदर्श स्थापित किया गया था । उसी परम्परा का पालन भाजपा के निवर्तमान अध्यक्ष नितिन गड़करी ने किया है । भीतर और बाहर के पंडित जानते हैं कि उनके ख़िलाफ़ चलाई गई लहर शासक दल के स्वार्थों से निकली है । लेकिन तब भी उन्होंने आडवाणी द्वारा स्थापित परम्परा का पालन करते हुये अपने पद से त्याग पत्र दे दिया । भाजपा के नये अध्यक्ष राजनाथ सिंह ने ठीक ही कहा कि इस मामले में सारी पार्टी एकजुट है और नितिन गड़करी के साथ खड़ी है ।

किसी भी पार्टी का चाल, चरित्र और चेहरा संकट काल में ही परखा जाता है और कहना न होगा कि भाजपा इसमें खरी उतरी है ।

ऐसे संक्रमण काल में राजनाथ सिंह से अच्छा चुनाव शायद हो ही नहीं सकता था । उनका आज तक का राजनैतिक सफ़र निष्कलंक रहा है । जिस प्रकार आज तक नरेन्द्र मोदी पर उनके जानी दुश्मन भी भ्रष्टाचार का कोई आरोप लगाने का साहस नहीं जुटा पाये , उसी प्रकार राजनाथ सिंह की छवि भी बेदाग़ नेता की रही है । यही कारण है कि मीडिया उद्योग के वे लोग भी , जो भाजपा को गाली देना अपना धर्म मानते है , राजनाथ सिंह के निष्कलंक चरित्र की प्रशंसा कर रहे हैं । इसे भी राजनाथ सिंह के लिये वरदान ही मानना होगा कि इस पूरे घटनाक्रम से कुछ दिन पहले ही कल्याण सिंह वापिस परिवार में आ गये हैं । राजनैतिक दृष्टि से इसका कितना लाभ होता है , यह गौण है , लेकिन आपस में पुनः एकजुट होने की प्रक्रिया शुरु हुई है , यह ज़्यादा महत्वपूर्ण है । राजनाथ सिंह को इसी प्रक्रिया को आगे बढ़ाना होगा और भाजपा की इसी खोई पूँजी को वापिस लाना होगा । भाजपा केवल सत्ता प्राप्ति के लिये गठित किया गया कोई यांत्रिक राजनैतिक दल नहीं है और न ही इस के कार्यकर्ताओं का आपसी सम्बध बीमा कम्पनी के उन ऐजंटों जैसा है, जो आपस में लाभ बाँटने के उद्देश्य से दिन रात मेहनत करते हैं । भाजपा एक सांस्कृतिक आन्दोलन है ,जिसके कार्यकर्ता आपस में सजीव भावनात्मक स्तर पर जुड़े रहते है , समाज में एक व्यापक परिवर्तन के लिये । जब लाल कृष्ण आडवाणी , भाजपा को दूसरों से अलग कहते हैं तो उसका यही अभिप्राय होता है ।

इस समय भाजपा के लिये अपनी इस पूँजी को संभाले रखना ही नहीं बल्कि उसमें वृद्धि करते रहना भी ज़रुरी है । राजनाथ सिंह पर सभी को आशा है कि वे ऐसा करने में सक्षम हैं । जिन दिनों वे उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री थे , उन दिनों उन के प्रशासन ने आशा बंधाई थी कि प्रदेश जड़ता के दौर से निकलेगा । वही आशा राजनाथ सिंह के प्रति फिर जगती है कि वे देश को , यू पी ए द्वारा सृजनात्मक दिशाहीनता से बाहर निकालेंगे । राजनाथ सिंह को जो लोग नज़दीक़ से जानते हैं , उनको पता है कि वे राजनैतिक मतभेदों को कभी व्यक्तिगत सम्बंधों के रास्ते में नहीं आने देते । उनका यह गुण भाजपा को भीतर से लाभ तो पहुँचायेंगा ही , बाहर एन डी ए के आधार को बढ़ाने में भी सहायता करेगा । २०१४ के चुनावों में यदि सोनिया कांग्रेस को सफलतापूर्वक चुनौती देनी है तो सबसे पहले भाजपा को अपना आधार और प्रभाव , दोनों का ही विस्तार करना होगा । भाजपा के इस विस्तार को अनुभव करने के बाद ही अन्य राजनैतिक दल एन डी ए में आने को तैयार होंगे । राजनाथ सिंह के आगे सबसे बड़ी चुनौती यही है । इस में कोई शक ही नहीं कि देश की जनता मौजूदा सरकार से छुटकारा पाना चाहती है । लेकिन यह तभी संभव होगा , यदि भाजपा के प्रति लोगों में विश्वास जगे । राजनाथ सिंह में यह योग्यता है , ऐसा उनके विरोधी भी मानते हैं ।

सोनिया कांग्रेस खुदरा व्यापार में विदेशी निवेश से शुरु होकर अन्त में अपनी उसी सांस्कृतिक एजंेडे पर आ गई है , जो उसकी व्यापक रणनीति का हिस्सा है । देश के गृहमंत्री सुशील कुमार शिंदे ने सीधे सीधे कह दिया की इस देश में हिन्दू आतंकवाद है । जम्मू सीमा पर दो भारतीय सैनिकों के सिर क़लम करने के बाद पाकिस्तान , जिस प्रकार पूरे विश्व में घिर गया था , उससे बाहर निकलने के लिये , उसे भारत सरकार की इस स्वीकारोक्ति की सबसे ज़्यादा ज़रुरत थी । सुशील कुमार शिन्दे ने उसे बाहर निकलने का वही रास्ता मुहैया करवाया है । शिंदे इतने भोले तो हो नहीं सकते कि अपने इस बयान का अर्थ न समझते हों ।ज़ाहिर है कि पाकिस्तान से भारत को चुनौती अब इसी िहन्दु आतंकवाद के मुद्दे पर मिलनेवाली है , और इसमें प्रचार के लिये सामग्री भारत सरकार ही मुहैया करवायेगी , जिसका संकेत शिंदे के बयान से मिल ही जाता है । भाजपा को सोनिया कांग्रेस द्वारा देश के चरित्र पर किये जा रहे इस आक्रमण का ही प्राथमिकता के आधार पर सामना करना होगा । राजनाथ सिंह ने इस चुनौती को स्वीकारने का ही नहीं बल्कि इससे लड़ने का जो संकल्प दिखाया है , वह निश्चय ही शुभ संकेत है । भाजपा को अपनी पहचान के आधारभूत प्रश्नों के आधार पर ही आगे की रणनीति बनानी होगी , आशा की जानी चाहिये कि राजनाथ इसमें सफल होंगे ।

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz