वीर गाथा उन सुकुमारों की है जिनकी शहादत के समय अभी दूध के दाँत भी नहीं गिरे थे।

Posted On by & filed under कला-संस्कृति, जरूर पढ़ें, फ़ेस बुक पेज़ से, विविधा

छोटे साहिबजादों और माता गुजरी जी की शहीदी सूरा सो पहचानिये, जो लरै दीन के हेतु ।। पुरजा पुरजा कटि मरै, कबहु न छाडै खेतु ।।(सलोक कबीर जी) यह वीर गाथा उन सुकुमारों की है जिनकी शहादत के समय अभी दूध के दाँत भी नहीं गिरे थे। सन :1705 ईस्वी 20 दिसम्बर: की मध्यरात्रि का समय श्री गुरू गोबिन्द सिंघ जी की श्री… Read more »

भली लगे या बुरी कुर्बानी का जज़्बा कहां है मियां?

Posted On by & filed under फ़ेस बुक पेज़ से

इक़बाल हिन्दुस्तानी कुर्बानी का अगर कोई सही नमूना देखना हो तो यूपी के गोंडा में देखा जा सकता है। कुर्बानी के त्यौहार को वहां के मुसलमानों ने ‘प्यार बांटते चलो‘ नारे के साथ मनाने का फैसला किया है। उन्होंने वहां अपनी 100 साल पुरानी ईदगाह हिंदू भाइयों की धार्मिक भावना का सम्मान करने को छोड़ने… Read more »

अच्छे दिन आने वाले हैं…….

Posted On by & filed under फ़ेस बुक पेज़ से

स्मिता सिंह अक्सर लोग पूछते हैं कि वर्तमान सरकार आम आदमी के लिए क्या कर रही है? महंगाई ज्यों की त्यों है। आम आदमी को रोजमर्रा की जरूरतों के सामान भी आसानी से नहीं मिल रहे हैं। वे कहते हैं कि हमलोगों ने तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी को सरकार में बिठा दिया, पर अच्छे… Read more »

रवीश कुमार, अब जनता ‪#‎FakeItLikeNDTV‬ और आप जैसों की हिप्पोक्रेसी को समझने लगी है!

Posted On by & filed under फ़ेस बुक पेज़ से

 ‪#‎JnuCrackDown‬ वाह रवीश! आज एक अर्णव गोस्वामी, एक दीपक चौरसिया, एक रोहित सरदाना आपको टीवी का स्क्रीन ब्लैंक छोड़ने के लिए मजबूर कर रहा है! आज आपको टीवी एंकरों पर पश्चाताप हो रहा है! लेकिन जब आपके इसी एनडीटीवी की एक संपादक बरखा दत्त की रिपोर्टिंग के कारण कारगिल में जवान मरे, 26/11 में एनडीटीवी… Read more »