अंतर्राष्ट्रीय पिकनिक दिवस – 18 जून

Posted On by & filed under बच्चों का पन्ना, विविधा

डा- राधेश्याम द्विवेदी 18 जून को दुनिया भर में अंतर्राष्ट्रीय पिकनिक दिवस के रूप में मनाया जाता है। यह दोस्तों और परिवारों को एक साथ अच्छा समय बिताने का और खुशियाँ मनाने का दिन होता है। इनडोर या आउटडोर पिकनिक की योजना बनाएँ और अपने परिवार तथा दोस्तों के साथ इसके मजे लें। इस पिकनिक… Read more »

क्या इतना बुरा हूँ में माँ,तो………

Posted On by & filed under जन-जागरण, बच्चों का पन्ना, समाज

परीक्षाओं एवं प्रतियोगिताओं का समय चल रहा है और हमारे बच्चों द्वारा आत्महत्याएं समाचार पत्रों की सुर्खियाँ बनी हुई हैं। पूरे देश में हमारे बच्चे परीक्षा दे रहे हैं या दे चुके हैं और इस दौरान बच्चों से ज्यादा मनोवैज्ञानिक दबाव में माता पिता रहते हैं जिसे वह जाने अनजाने अपने बच्चों के भीतर स्थानांतरित… Read more »

बाल श्रम के कलंक से मुक्ति कब?

Posted On by & filed under बच्चों का पन्ना, समाज

स्निग्धा श्रीवास्तव मैं उसका नाम नहीं जानती। लेकिन अकसर अपने घर से मेट्रो तक आने-जाने के दौरान उसे सड़कों से पालीथिन, कागज, प्लास्टिक और लोहे के टुकड़ों को बीनते देखती हूं। अगर हम अपने आसपास नजर दौड़ाएं, तो रेस्टोरेंट, ढाबों, दुकानों और अन्य जगहों पर बच्चे काम करते हुए मिल जाएंगे। चौदह साल से कम… Read more »

साइकिल

Posted On by & filed under कहानी, बच्चों का पन्ना

राजू कई दिन से साइकिल सीखने की जिद कर रहा था। उसके साथ के कई लड़के साइकिल चलाते थे; पर उसके घर वालों को लगता था कि वह अभी छोटा है, इसलिए चोट खा जाएगा। अतः वे हिचकिचा रहे थे। यों तो घर में एक साइकिल थी, जिसे पिताजी चलाते थे; पर वह बड़ी थी।… Read more »

बच्चों का बिगड़ता बचपन

Posted On by & filed under बच्चों का पन्ना, समाज

एक जमाना था जब बच्चे नानी-दादी की गोद में परी कथायों की रंगीन दुनिया में खो जाते और नींद में ही बुन लेते सपनों का एक सुनहरा संसार| एक अजीब सा वक्त, जिसमें न कोई फिक्र न कोई गम और न ही किसी की परवाह| याद है, जब हम हम बच्चे थे तो उस समय… Read more »

सरल श्लोकों से बाल संस्कार

Posted On by & filed under बच्चों का पन्ना, विविधा

डॉ, मधुसूदन सूचना: मित्रों के अनुरोध पर: सरल श्लोकों का चयन, बालकों को हिन्दी-संस्कृत उच्चारण के अभ्यास के लिए। सूचना: (आप एक या आधी पंक्ति गाकर बच्चों को पीछे दोहराने के लिए कहें।) अर्थ कभी भी समझा जा सकेगा। पर उच्चारण बालकपन के १० वर्षों में ही सुदृढ हो सकेगा। शुद्ध उच्चारण बालकों का शुद्ध… Read more »

एक चुनौती:-बच्चों को ‘ना’ कैसे कहें

Posted On by & filed under बच्चों का पन्ना, विविधा

(बाल दिवस पर विशेष) आज लगभग हर माँ बाप इस समस्या से परेशान है कि वह अपने बच्चे की बात माने या न माने। शिक्षाविद् आर्यवीर लायन विकास मित्तल बताते है कि अगर आपका बच्चा किसी बात के लिए ज़िद्द करता है, तो हो सकता है कि ‘ना’ कहने से वह आसानी से नहीं माने।… Read more »

यह कैसी मित्रता

Posted On by & filed under कहानी, बच्चों का पन्ना

गणेशी के खेत में बने तीन कमरों के घर में चिंकू चूहे ने अपना निवास बना लिया था |घर के ठीक सामने दो ढाई सौ फुट की दूरी पर एक नीली नदी बहती थी |नदी थी तो पहाड़ी परन्तु मार्च महीने तक उसमें भरपूर पानी रहता था |बरसात में तो पानी खेत की मेढ तक… Read more »

बेसहारा किसान

Posted On by & filed under कहानी, बच्चों का पन्ना, साहित्‍य

  कुमार अपने बच्चों से बहुत प्रेम करता था , लेकिन लड़के आधुनिक जीवन शैली में रहना चाहते थे ‘ बाप घर पर खेती बाड़ी के धंधे में हमेशा व्यस्त ही रहता था ‘   कुमार अपने बच्चों से हमेशा अच्छी तरीके से बातें करता था लेकिन बेटे जो काफी नखरा करते हमेशा उनकी बात काट… Read more »

शेर और लोमड़ी की दुश्मनी

Posted On by & filed under कहानी, बच्चों का पन्ना, साहित्‍य

एक बार एक शेर और लोमड़ी थी जो कि ज्यादा अच्छे मित्र नहीं थे हमेशा दोनों में अनबन चलती रहती थी ,फिर भी दोनों साथ-साथ रहते तथा खेती करते थे ‘ एक बार ऐसा हुआ कि लोमड़ी किसी कारणवस बाहर जंगल में गयी और काफी समय तक जंगल में ही रही ‘ इसी बीच शेर… Read more »