”भगवान” माने जाने वाले डाक्टरों का इलाज कौन कर सकता है ?

Posted On by & filed under जन-जागरण, सार्थक पहल, स्‍वास्‍थ्‍य-योग

इक़बाल हिंदुस्तानी पी एम मोदी भी अस्पतालों में गरीबों की अनदेखी से चिंतित हैं।    ऑल इंडिया मेडिकल इंस्टिट्यूट यानी एम्स के एक समारोह में प्रधनमंत्री नरेंद्र मोदी ने पिछले दिनों डाक्टरों द्वारा गांवो और गरीब मरीज़ों की अनदेखी का मुद्दा उठाकर एक बार फिर यह संदेश देने की कोशिश की है कि उनकी नज़र… Read more »

मधुमेह की सरल सफल चिकित्सा

Posted On by & filed under स्‍वास्‍थ्‍य-योग

मधुमेह (DIABITIS /डायबिटिस) की सरल सफल चिकित्सा यह चिकित्सा मधुमेह मे जरूर लाभ करती है। बहुत ही आसानी से बन जाती है परंतु बहुत प्रभावशाली है। विजयसार – यह एक बड़ा पेड़ है जो मध्य प्रदेश से लेकर पूरे दक्षिण भारत मे पाया जाता है। इसकी लकड़ी के टुकड़े हर जड़ी बूटी बेचने वाले पर… Read more »

रोगोत्पादक सूक्ष्म जीवाणु और हमारा सुरक्षा तंत्र

Posted On by & filed under स्‍वास्‍थ्‍य-योग

आज पूरा विश्व स्वास्थ्य समस्यायों से जूझ रहा है, यह उसी तरह है जैसे भारत में उग्रवाद । हम उग्रवाद के लिये पड़ोसियों को दोष दे सकते हैं किंतु वास्तविकता यह है कि विदेशी उग्रवाद को भारत में पनपने के लिए जिस उर्वरता की आवश्यकता है वह भारत की अपनी आंतरिक अव्यवस्था से उत्पन्न होती… Read more »

इबोला: बीमारी या महामारी का हौवा

Posted On by & filed under जन-जागरण, स्‍वास्‍थ्‍य-योग

प्रमोद भार्गव   एड्स, हीपेटाईटिस-बी, स्वाइन फ्लू और बर्ड फ्लू के बाद इबोला वायरस को वैश्विक आपदा के रूप में पेश किया जा रहा है। क्योंकि यह संक्रामक बीमारी है, इसलिए दुनियांभर में आसानी से फैल सकती है। इबोला को महामारी बताकर इससे सतर्क रहने की जागरूकता फैलाने के काम में अमेरिका लग गया है।… Read more »

नहीं दिया ध्यान तो रीढ़ की हड्डी करेगी परेशान

Posted On by & filed under स्‍वास्‍थ्‍य-योग

उमेश कुमार सिंह दिल और फेफड़े की तकलीफ पैदा करने वाली पीठ यानी रीढ़ संबंधी बीमारी कूबड़ प्राचीन काल से ही कौतूहल का विषय रहा है. अभी तक लोग इसे लाइलाज समझते रहे हैं जब कि आधुनिक चिकित्सा विज्ञान में रीढ़ के विकार अर्थात् कूबड़ को रोग माना जाता है. अध्ययनों के मुताबिक इस समय… Read more »

गरीब की देह पर मौत का ट्रायल

Posted On by & filed under स्‍वास्‍थ्‍य-योग

संदर्भ : दवा परीक्षण पर केंद्र को सुप्रीम कोर्ट का नोटिस ———————————————— भारत में दवा परीक्षण का कारोबार करीब एक अरब डालर का है। दवा परीक्षण के दुष्प्रभााव के कारण करीब 12 हजार लोग पीड़ित है। कुछ इतने दर्द में हैं कि वे मौत की दुआएं मांग रहे हैं। सरकारें बगले झांक रही है। मरे… Read more »

गाय का दूध और हमारा स्वास्थ्य

Posted On by & filed under स्‍वास्‍थ्‍य-योग

राकेश कुमार आर्य गाय का दूध मनुष्य के स्वास्थ्य के लिए अमृत माना गया है। आजकल तनाव का रोग बहुत मिलता है, इसका प्रभाव हमारी स्मरण शक्ति पर भी पड़ता है। तनाव के कारण अथवा चिड़चिड़ाहट मानसिक दुर्बलता, शारीरिक थकान, कार्य की अधिकता, मस्तिष्क में अपेक्षा से अधिक कार्यों को समेटकर रखने की हमारी प्रवृत्ति… Read more »

गोमूत्र और हमारा स्वास्थ्य

Posted On by & filed under स्‍वास्‍थ्‍य-योग

राकेश कुमार आर्य भारत में गोमूत्र को औषधीय रूप में लेने की परंपरा बहुत प्राचीन है। हमारी चिकित्सा प्रणाली और आयुर्वेद एलोपैथिक चिकित्सा प्रणाली की भांति रोग से लड़ता नही है, अपितु रोग को मिटाता है। इसलिए जैसे शोक के समूल नाश के लिए योग की खोज की गयी वैसे ही हमारे ऋषि पूर्वजों ने… Read more »

इलाज में लापरवाही का दण्ड

Posted On by & filed under स्‍वास्‍थ्‍य-योग

प्रमोद भार्गव देश के चिकित्सालयों और चिकित्सकों के लिए यह स्पष्‍ट संदेश है कि वे अब रोगियों के साथ लापरवाही न बरतें, अन्यथा उन्हें भारी दण्ड की सजा भुगतनी पड़ सकती है। सर्वोच्च न्यायालय के न्यायमूर्ति सीके प्रसाद और वी. गोपाल गौड़ा की पीठ ने इसी आष्य का अनूठा फैसला सुनाया है। हालांकि हमारी न्याय… Read more »

द्वि ध्रुवीय विकार (Bipolar disorder)-

Posted On by & filed under स्‍वास्‍थ्‍य-योग

(इस विकार के लियें पूरे लेख मे BD का प्रयोग किया जायेगा) इस विकार को उन्माद-अवसाद विकार (manic-depressive illness) भी कहते हैं। यह मस्तिष्क से संबधित ऐसा विकार है जिसमे पीड़ित व्यक्ति की मनोदशा मे (mood) लगातार बदलाव आते रहते हैं।ये जीवन के सामान्य उतार चढ़ाव नहीं होते, इसकी वजह से व्यक्ति की रोज़ के… Read more »