फिल्मों में दांपत्य जीवन

Posted On by & filed under लेख

भारतीय  सिनेमा में दांपत्य जीवन का चित्रण कई स्थानों पर देखने को मिलता है। फिल्म निर्मातानिर्देशक उदारीकृत अर्थव्यवस्था में पतिपत्नी के बीच वादविवाद, टकराव, लड़ाईझगड़ा एवं तलाक(संबंध विच्छेद) को सिनेमा के सुनहले पर्दें पर उकेर रहे हैं। कुल मिलाकर निर्माताओं निर्देशकों का एक मात्र लक्ष्य भारतीय संस्कृति तथा भारतीयविवाह संस्था को श्रेष्ठ साबित करते हुए… Read more »

तन से लिपटा चीथडा है पेट से पत्थर बधॉ,,,,,,

Posted On by & filed under लेख

आज इस कम्प्यूटर युग में मजदूर को मजदूरी के लाले पडे है। ऐसे में 1 मई को मजदूर दिवस मनाये तो कौन मनाये। कल तक बडी बडी मिले थी, कल कारखाने थे, कल कारखानो एंव औधोगिक इकाईयो में मशीनो का शोर मचा रहता था मजदूर इन मशीनो के शोर में मस्त मौला होकर कभी गीत… Read more »

प्रमोशन और साहित्य का संकट

Posted On by & filed under लेख

कोलकाता में एक दशक से हिन्दी सेमीनार के प्रमाणपत्र जुटाने की संक्रामक बीमारी कॉलेज शिक्षकों में फैल गयी है। सेमीनार में वे इसलिए सुनने जाते हैं जिससे उन्हें सेमीनार में भाग लेने का सर्टीफिकेट मिल जाए। यह साहित्य के चरम पतन की सूचना है। ये वे लोग हैं जो हिन्दी साहित्य से रोटी-रोजी कमा रहे… Read more »

सोनिया दुनिया की “टॉप 10” हस्तियों में

Posted On by & filed under लेख

1968 में जब सोनिया माइनो इटली से इंदिरा गॉधी के पुत्र राजीव गॉधी की जीवन संगनी बनने पहली बार भारत आई थी तो लोगो ने उन्हे एक अजूबे कि तरह देखा था। पहली बार दिल्ली आते वक्त सोनिया के पिता ने उन्हे वापसी का टिकट भी दिया था। वह टिकट अतीत के अंधियारे में आज… Read more »

काला धन : मुद्दई सुस्त गवाह चुस्त

Posted On by & filed under लेख

आर्थिक तरक्की के मामले में नए मुकाम बननाने का दावा करने वाला भारत आज भ्रष्टाचार, घोटालो, और काले धन के मामले में नित नये नये कीर्तिमान बना रहा है। आज माननीय उच्च न्यायालय, हमारी सरकार, देश के वरिष्ठ अर्थशास्त्री, प्रधानमंत्री, वित्तमंत्री, सरकारी नुमाईन्दे व विपक्ष सहित पूरा भारत काले धन की समस्या से चिंतित है… Read more »

ताज सिर्फ मौहब्बत की निशानी है

Posted On by & filed under लेख

एक शहंशाह ने बनवा के हॅसी ताज महल, हम गरीबो की मौहब्बत का उडाया है मजाक’’ बहुत साल पहले किसी शायर ने क्या खूब कहा था। वास्तव में आज ताज महल गरीबो का मजाक उडा रहा है। हो सकता है के कल ये ताज अपनी हद के भीतर गरीब लोगो को घुसने भी न दे।… Read more »

पुरूष भी होते है पत्नियो द्वारा प्रताड़ित

Posted On by & filed under आलोचना, लेख, समाज

पति और सास ने बेचारी पूनम का रोज रोज के लडाई झगडे मारपीट से जीना दुश्वार कर रखा है। ये शब्द हमे हर रोज रोज कही न कही सुनने को जरूर मिलते है। पर कही ये सुनने को नही मिलता कि पूनम ने अपने पति और सास का जीना दुश्वार कर रखा है क्यो ?… Read more »

दोस्ती और हिन्दू मुस्लिम एकता की मिसाल है कश्मीर घाटी का शिव मंदिर

Posted On by & filed under लेख

मुस्लिम पुजारी करते है शिव आरती आज हमारे देश की कुछ सियासी पाट्रिया और कुछ राजनेता कुर्सी पाने की खातिर जिस प्रकार की गन्दी राजनीति पर उतारू हो गये है। साम्प्रदायिक दंगे करा कर हिंदू मुस्लिम, मस्जिद मंदिर, छोटी जाति, बडी जातियो में हमे बाटकर हम भारतवासियो के दिलो में जिस प्रकार ये लोग नफरत… Read more »

पैसा नही, बच्चो को वक्त दीजिये

Posted On by & filed under लेख

आज हमारी युवा पी और छोटे छोटे बच्चो को न जाने क्या हो रहा है मॉ बाप और टीचरो की जरा जरा सी बातो और डाट फटकार पर खुदकुशी की खबरे बहुत तेजी से सुनने को मिल रही है। साथ ही साथ स्कूल कालेजो में अपने सहपाठियो के साथ कम उम्र युवाओ द्वारा हिंसक घटनाओ… Read more »

बच्चों का यौन शोषण कानून

Posted On by & filed under लेख

निठारी काण्ड के बाद दुनिया का शायद ही कोई ऐसा व्यक्ति होगा जिसने बच्चो के साथ हुए इस घिनौने यौन अपराध और हत्याकाण्ड के विरूद्व आवाज न उठाई हो और इस पर सख्त कानून बनाने के लिये सरकार से आग्रह न किया हो। राष्ट्रीय सलाहकार परिषद ( एनएसी ) की अध्यक्ष सोनिया गॉधी की पहल… Read more »