इन संशोधनों से कितना रुकेगा भ्रष्टाचार

Posted On by & filed under विधि-कानून, विविधा, सार्थक पहल

पीयूष द्विवेदी भ्रष्टाचार पर रोकथाम के लिए कोई सख्त कदम न उठाने के लिए विरोधियों के निशाने पर रहने वाली मोदी सरकार द्वारा आखिर भ्रष्टाचार पर लगाम लगाने के लिए कवायद शुरू कर दी गई है। अभी हाल ही में प्रधानमंत्री मोदी की अध्यक्षता में हुई केन्द्रीय कैबिनेट की बैठक में भ्रष्टाचार निरोधक क़ानून में… Read more »

मेक इन इण्डिया व स्किल्ड इंडिया की परिकल्पना

Posted On by & filed under आंकडे, आर्थिकी, आलोचना, घोषणा-पत्र, चिंतन, चुनाव, चुनाव विश्‍लेषण, जन-जागरण, जरूर पढ़ें, टॉप स्टोरी, परिचर्चा, महत्वपूर्ण लेख, लेख, विविधा, सार्थक पहल

‘मेक इन’ व ‘स्किल्ड इंडिया’ की परिकल्पना साकार करेगा छत्तीसगढ़ का बजट– छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डा. रमन सिंह ने 13 मार्च 2015 को विधानसभा में वित्तीय वर्ष 2015-16 के लिए बजट पेश किया। बजट में पूंजीगत व्यय में 39 प्रतिशत वृद्धि की गई है। बजट में युवा, अधोसंरचना विकास एवं औद्योगिक विकास को प्राथमिकता दी… Read more »

वाराणसी में पर्यावरण संरक्षण को समर्पित – ग्रीन प्लाटून

Posted On by & filed under सार्थक पहल

  डा. अरविन्द कुमार सिंह   वैज्ञानिको का आकलन है कि प्रति पाॅच डिग्री सेन्टीग्रेड से लेकर एक दशमलव पाॅच डिग्री सेन्टीग्रेड पृथ्वी का तापमान प्रति वर्ष बढ रहा है। यदि तापमान इसी रफ्तार से बढता रहा तो 2050 तक पृथ्वी का बढा हुआ तापमान, पर्वतिय अंचलो के सारी बर्फो को पिघलाकर पानी के रूप… Read more »

गोवंश विनाश का एक और आयाम

Posted On by & filed under सार्थक पहल

* वैटनरी वैग्यानिकों को सिखाया-पढाया गया है कि पोषक आहार की कमी से गऊएं बांझ बन रही हैं. वैग्यानिकों का यह कहना आंशिक रूप से सही हो सकता है पर लगता है कि यह अधूरा सच है. इसे पूरी तरह सही न मानने के अनेक सशक्त कारण हैं. * बहुत से लोग अब मानने लगे… Read more »

स्वस्थ परिवार की 10 आदतेँ

Posted On by & filed under बच्चों का पन्ना, समाज, सार्थक पहल, स्‍वास्‍थ्‍य-योग

आज के इस भागदौड़ के जीवन में वास्तविक जीवन से हम बहूत दूर होते जा रहे हैं | हम परिवर्तनों को नहीं रोक सकते परन्तु थोडा जागरूक होकर हम अपने परिवार में एक स्वस्थ वातावरण बना सकते हैं | स्वस्थ परिवार की दस आदतेँ अपनाकर हम बहुत अच्छा बदलाव कर सकते हैं | १. परिवार… Read more »

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ

Posted On by & filed under जन-जागरण, समाज, सार्थक पहल

आप मोदी के समर्थक हों या विरोधी यह आप पर निर्भर है। भले काम करने के तरीके पर सवाल उठाईये लेकिन एक प्रधानमंत्री के तौर पर उन मुद्दों को तरजीह देना जिन पर कितने वर्षों से कोई सवाल नहीं उठा रहा, इसे सभी को मोदी से सीखने की जरूरत है। चाहे मुद्दा नशाखोरी का रहा… Read more »

भारत में बढ़ती बाघ आबादी के मायने

Posted On by & filed under पर्यावरण, सार्थक पहल

डॉ. मयंक चतुर्वेदी दुनिया में विलुप्त प्राय: स्थिति में पहुंचने के बाद पुन: अपने अस्तित्व को बनाने की दिशा में आगे आए बाघों ने जिस प्रकार प्रकृति के साथ तालमेल बनाते हुए अपनी जीवसंरचना के विकास में प्रगति की है, खासकर यह भारत के लिए आज खुशी की बात अवश्य है, क्योंकि पिछले कुछ सालों… Read more »

”भगवान” माने जाने वाले डाक्टरों का इलाज कौन कर सकता है ?

Posted On by & filed under जन-जागरण, सार्थक पहल, स्‍वास्‍थ्‍य-योग

इक़बाल हिंदुस्तानी पी एम मोदी भी अस्पतालों में गरीबों की अनदेखी से चिंतित हैं।    ऑल इंडिया मेडिकल इंस्टिट्यूट यानी एम्स के एक समारोह में प्रधनमंत्री नरेंद्र मोदी ने पिछले दिनों डाक्टरों द्वारा गांवो और गरीब मरीज़ों की अनदेखी का मुद्दा उठाकर एक बार फिर यह संदेश देने की कोशिश की है कि उनकी नज़र… Read more »

गाँव की जमीन पर आदर्श निबंध लिखिए, सांसद जी !

Posted On by & filed under सार्थक पहल

अरुण तिवारी पंडित दीनदयाल उपाध्याय, महात्मा गांधी और जे पी; तीन वैचारिक शक्तियां, तीन तारीखें और तीन श्रीगणेश: क्रमशः 25 सितम्बर को ’मेक इन इंडिया’, दो अक्तूबर को ’स्वच्छ भारत’ और 11 अक्तूबर को ’सांसद आदर्श ग्राम’। हर सिक्के के दो पहलू होते हैं; इसके भी हैं। प्रधानमंत्री मोदी ने इसे अच्छी राजनीति की शुरुआत… Read more »

बचपन खिलाने का सबक

Posted On by & filed under जन-जागरण, सार्थक पहल

संदर्भः- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की छात्रों से बातचीत प्रमोद भार्गव हमारी शिक्षा प्रणाली में विद्यार्थी द्वारा शिक्षक से प्रश्न करने का अधिकार लगभग गुम है। इसीलिए जब कोई मंत्री या अधिकारी किसी पाठशाला का निरीक्षण करने जाते हैं तो वे बच्चों से ऐसे सवाल पूछते हैं जो सूचना आधारित होते हैं। यानी उनसे जीवन-दर्शन का… Read more »