लेखक परिचय

प्रवक्‍ता ब्यूरो

प्रवक्‍ता ब्यूरो

Posted On by &filed under विधि-कानून.


संजय कुमार

भारत को आर्थिक महाशक्ति के रूप में देखा जा रहा है। वहीं भारत आर्थिक महाशक्ति बनने के लिए आर्थिक विकास दर को बढ़ाने पर जोर देता रहता है। हमें यह भी देखना होगा कि यह आर्थिक विकास कितने लोगों को लाभान्वित करता है। भारत के आर्थिक विकास पर अंतर्राष्ट्रीय श्रम मंत्रालय की रिपोर्ट ने सवाल खड़े कर दिये है। अंतर्राष्ट्रीय श्रम मंत्रालय की रिपोर्ट के अनुसार दुनिया में 215 करोड़ बाल मजदूर है। वहीं अमेरिकी सरकार की रिपोर्ट के अनुसार भारत बाल मजदूरी के मामलों में सबसे आगे है।

भारत में बाल मजदूर बीड़ी, ईंट, चूड़ी, ताले, माचिस जैसे 20 उत्पादों के निर्माण में लगे है। इसके साथ ही जबरन बाल मजदूरी करवाने में भी भारत शीर्ष पर है। अफ्रीका, एशिया, और लातिन अमेरिका के 71 देशों में बाल मजदूर ईंट, बॉल से लेकर पोर्नोग्राफी तथा दुर्लभ खनिजों के उत्पादन जैसे कार्यों से जुड़े है। विश्व में सबसे अधिक उत्पाद भारत, बांग्लादेश और फिलीपींस में बनते है।

हमारे देश में बाल मजदूरी को रोकने के लिए कई कानून बनाये गये है। इसके साथ ही पिछले वर्ष से राइट टु ऐजुकेशन के तहत 6 से 14 तक के बच्चों को मुफ्त शिक्षा भी दिये जाने की व्यवस्था की गई है। इसके वाबजूद भी बाल मजदूरी में कमी नहीं आ रही है। तो इसके पीछे मुख्य कारण बढ़ती जनसंख्या और बच्चों से कम पैसों में अधिक काम लेना भी है।

जिन बच्चों के हाथों में पेन, पैंसिल और किताबें जैसी चीजें होनी चाहिए, उन बच्चों के हाथों में माचिस, पटाखे जैसे उत्पादों को थमा दिया जाता है। भारत जैसे आर्थिक शक्ति वाले देश की हकीकत ऐसी होगी तो अन्य देशों की स्थिति के बारे में क्या कहा जा सकता है।

बाल मजदूरी से बच्चों का भविष्य ही नहीं देश का भविष्य भी बर्बाद हो रहा है। जब बच्चों को बाल मजदूरी में झोंका जायेगा तो वह कैसे पढ़ेगें और इनका भविष्य क्या होगा। इन बच्चों को क्यों बाल मजदूरी करनी पड़ रही है। यदि शिक्षा सुधार और बाल मजदूरी से संबंधित कानून के वाबजूद भी बच्चों का बचपन छीन रहा है। तो इसके लिए हमारी सरकार की नीतियां और बढ़ती जनसंख्या जिम्मेदार है।

 

Leave a Reply

3 Comments on "उभरते भारत में बढ़ती बाल मजदूरी"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
आर. सिंह
Guest

मेरी समझ में नहीं आया कि नेहा जी की इस लम्बी टिप्पणी का इस लेख से क्या सम्बन्ध है?

neha jha
Guest
1990 में राम रथ यात्रा के बाद देश में कई शव यात्राएं निकली थीं।अब इस जनचेतना यात्रा के बाद जनता में कितनी चेतना आएगी यह कहना फिलहाल मुश्किल है क्योंकि 90 की उस यात्रा के बाद से आज तक राम मंदिर का निर्माण पूरा नहीं हुआ है। आडवाणी ने कहा कि यह एक विशुद्ध राजनीतिक यात्रा है जिसमें वह भ्रष्टाचार की बात करेंगे लेकिन इसके पीछे उनकी क्या मंशा है यह अभी तक साफ नहीं हुआ है।84 की उम्र में आडवाणी की यह छठी यात्रा है।इस यात्रा को हम-आप इस तरह देखते हैं कि शायद आडवाणी अपनी ताकत दिखाने की… Read more »
आर. सिंह
Guest
बढ़ती जन संख्या तो बाल मजदूरी का एक कारण है हीऔर जब तक लोग इस बात को पूरी तरह नहीं समझेंगे कि धर्म की आड़ में या एक धर्म की दूसरे धर्म की प्रतियोगिता में जन संख्या बढाना या बढ़ने में प्रोत्साहन देना घोर अपराध है तब तक इस पर काबू पाया भी नहीं जा सकता.सच पूछिए तो इस सम्बन्ध में भारत की नीतियों या क़ानून में कोई कमी नही है.कमी है तो उन नीतियों के पालन करने या करवाने में. इसमे अधिकतर वे दोषी हैं जिन पर इसकी जिम्मेवारी है और प्रश्न फिर मुड कर भ्रष्टाचार पर ही आ… Read more »
wpDiscuz