लेखक परिचय

क्षेत्रपाल शर्मा

क्षेत्रपाल शर्मा

देश के समाचारपत्रों/पत्रिकाओं में शैक्षिक एवं साहित्यिक लेखन। आकाशवाणी मद्रास, पुणे, कोलकाता से कई आलेख प्रसारित।

Posted On by &filed under कविता.


फूलों जैसे उठो खाट से

बछड़ों जैसी भरो कुलांचे

अलसाये मत रहो कभी भी

थिरको एसे जग भी नांचे

नेक भावना रखो हमेशा

जियो कि जैसे चन्दा तारे

एसे रहो कि तुम सब के हो

और सभी है सगे तुम्हारे

फूलो फलो गाछ हो जैसे

बोलो बहता नीर

कांटे बनकर मत जीना तुम

हरो परायी पीर

कहना जो है सो तुम कहना

संकट से भी मत घबराना

उजियारे के लिये सलोने

झान -ज्योति का दीप जलाना

मत पडना तुम हेर फेर में

जीना जीवन सादा प्यारा

दीप सत्य है एक शस्त्र है

होगा तब हीरक उजियारा

Leave a Reply

2 Comments on "बाल गीत/ क्षेत्रपालशर्मा"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
Rekha Singh
Guest

बहुत सुंदर और प्रेड़ना पूर्ण है |

kamlesh kumar diwan
Guest

बाल गीत फूलो जैसे उठो बहुत प्रेरणा देने वाला है

wpDiscuz