लेखक परिचय

प्रवक्‍ता ब्यूरो

प्रवक्‍ता ब्यूरो

Posted On by &filed under विविधा.


बात अक्षय की, जो एक बीमारी से पीडित है बीमारी ने उसे ऐंसा जकडा कि इलाज में पिता की जीवन भर की पूंजी खर्च हो गई इसके बाद भी वो ठीक नहीं हुआ क्योंकि तब तब इस बीमारी की सही थेरेपी नहीं आई थी अब जबकि बीमारी के इलाज की कारगर पघति आ गई है पिता के पास बेटे के इलाज के लिए पैसे नहीं है। यदि समय पर इलाज नही मिला तो युवक का जीवन बचाना मुश्किल होगा।

नाम अक्षय कत्यानी हटटा कटटा गबरू जवान 70 किलो वजन दिखने में स्मार्ट लेकिन एक बीमारी ने उसे 40 किलो का हाडमांस का पुतला बना दिया। पढाई पूरी की तो टीवी जर्नलिस्ट बन गया लेकिन इस बीमारी के कारण नौकरी छोडनी पड गई और बिस्तर पकड लिया प्रायवेट बिजनेस करने वाले पिता सुधीर कात्यानी ने बेटे के इलाज के लिए अपने जीवन भर की कमाई खपा दी गाडी बंगला बेच दिया लेकिन वो ठीक नही हुआ अब अचानक डाक्टरों ने बताया कि इस बीमारी का कारगर इलाज आ गया है सिर्फ दो लाख खर्च होंगे लेकिन अब जबकि वो दाने दाने को मोहताज हो गए हैं बेटे के इलाज के लिए दो लाख कहां से लाएं तो क्या इकलौते जवान बेटे को यूं ही हाथ से चले जाने दें।

मजबूर पिता क्या करे मदद के लिए सबने हाथ खडे कर दिए हैं। बेटे को अल्सरेटिव्ह कोलाईटिस है खून की उल्टी दस्त होते हैं खाना खाते नही बनता, कैंसे मा बाप अपने जिगर के टुकडे को तिल तिल मरते देखें एक तो बीमारी दूसरा मां बाप की बेबसी बेटे से देखी नहीं जाती वो भी ऐंसी जिंदगी से निराश होता जा रहा है। आखिर क्या करे वो कहां जाए उसकी भी इच्छा है कि मां-बाप के सपनो को पूरा करे अभी तो पूरी जिंदगी पडी है उसके सामने सिर्फ दो लाख के पीछे क्या जान जली जाएगी उसकी फिलहाल पैसे के अभाव में इलाज रूका है अक्षय का सिर्फ दो लाख के पीछे क्या इस नौजवान को हम दुनिया से विदा हो जाने दें ऐंसे समय में समाज को सामने आना होगा इस नौजवान की मदद के लिए आईए और इसकी मदद कीजिए रोशन कीजिए अक्षय की दुनिया को जी लेने दीजिए एक जवान को अपनी पूरी जिंदगी। (अतुल पाठक)

Fathers Name : Sudheer Katyani _

Ph _ 9329632420

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz