लेखक परिचय

डॉ. मनीष कुमार

डॉ. मनीष कुमार

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय से राजनीति शास्त्र में एमए, एमफिल और पीएचडी की उपाधि हासिल करने वाले मनीषजी राजनीतिक टिप्‍पणीकार के रूप में मशहूर हैं। इलेक्‍ट्रॉनिक मीडिया में लंबी पारी खेलने के बाद इन दिनों आप प्रिंट मीडिया में भी अपने जौहर दिखा रहे हैं। फिलहाल आप देश के पहले हिंदी साप्‍ताहिक समाचार-पत्र चौथी दुनिया में संपादक (समन्वय) का दायित्व संभाल रहे हैं।

Posted On by &filed under धर्म-अध्यात्म, राजनीति.


डॉ. मनीष कुमार

भारत की राजनीति का यह अजीबोग़रीब दौर है. संत राजनीति कर रहे हैं और राजनीतिक दल संतों की तरह बर्ताव कर रहे हैं. संत से मतलब मौन धारण करना है. ऐसा पहली बार देखा जा रहा है कि किसी पार्टी पर भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगाए जा रहे हैं, देश भर में रैलियां करके राजनेताओं के ख़िला़फ आग उगली जा रही है और देश चलाने वाली पार्टी चुप्पी साधकर सब कुछ सुन कर रही है. बीती 27 फरवरी को दिल्ली का रामलीला मैदान खचाखच भरा था. पूरे देश भर से लोग भ्रष्टाचार के ख़िला़फ एक रैली में शामिल होने आए थे. दर्जनों टीवी चैनलों और अख़बारों के संवाददाताओं की भरमार थी. यह रैली योग गुरु बाबा रामदेव ने बुलाई थी. मंच पर हिंदू थे, मुसलमान थे, सिख थे, ईसाई थे. अन्ना हज़ारे, किरण बेदी एवं केजरीवाल जैसे लोग भी थे, जो हिंदुस्तान में भ्रष्टाचार के ख़िला़फ आंदोलन के चेहरे हैं. कुछ ऐसे चेहरे भी थे, जो अपने बयानों से सनसनी फैलाने में माहिर हैं. इतनी बड़ी रैली, इतने बड़े-बड़े लोग भ्रष्टाचार के ख़िला़फ बाबा रामदेव की मुहिम में शामिल हुए. सबको बोलने का मौक़ा दिया गया. हैरानी की बात यह है कि इस विशाल रैली में क्या हुआ, यह मीडिया से पूरी तरह ग़ायब रहा. बाबा रामदेव की वजह से यह रैली एक धार्मिक चैनल आस्था पर दिन भर लाइव दिखाई गई. पहला सवाल तो यही उठता है कि मीडिया ने इस रैली और इसमें लगे आरोपों को महत्व क्यों नहीं दिया.

इस रैली में सबसे सनसनीख़ेज़ भाषण पूर्व इनकम टैक्स कमिश्नर विश्वबंधु गुप्ता ने दिया. उन्होंने वित्त मंत्री प्रणव मुखर्जी को अपशब्द कहे, कांग्रेस के भ्रष्ट नेताओं का नाम लिया और सोनिया गांधी एवं उनके राजनीतिक सलाहकार अहमद पटेल पर तीखी टिप्पणी की. विश्वबंधु गुप्ता ने सबसे पहला प्रहार प्रणव मुखर्जी पर किया. उन्होंने कहा- मैं आपको बताता हूं कि पिछले छह सालों में किस तरह देश से धोखा किया गया. यह ऐसी कहानी है, जो आपको चौंका देगी. मैं प्रणव मुखर्जी से मिला, जो कि भारत के वित्त मंत्री हैं. मैंने कहा, मिनिस्टर साहब, स्विट्‌जरलैंड में हमारे लोगों का 70 लाख करोड़ रुपया पड़ा हुआ है. आप उसको लाने के लिए क़ानून क्यों नहीं लाते. बोले (प्रणव मुखर्जी), विश्वबंधु, तुमको मालूम नहीं है कि स्विट्जरलैंड के भी क़ानून हैं. उस क़ानून के अंदर न वे नाम बताएंगे, न पैसे देंगे. मैं सुनता रहा. एक हिजड़े की बात सुनता रहा. मन में आया कि मेरे मां-बाप अंग्रेज़ों से आज़ादी की लड़ाई में जेल गए थे…यह हिजड़ा यहां बैठा क्या कर रहा है. न स़िर्फ वह हिजड़ा है, बल्कि वह झूठा भी है. हर बार पार्लियामेंट में झूठ बोलता है.

प्रणव मुखर्जी पर विश्वबंधु का कोई आरोप नहीं है, कोई खुलासा नहीं किया, फिर भी उन्हें अपशब्द कहे. बाबा रामदेव वहां बैठे मुस्करा रहे थे और लोग तालियां बजा रहे थे. हालांकि उन्होंने केंद्र सरकार पर एक ऐसा आरोप लगाया, जिससे जनता सन्न रह गई. उन्होंने कहा- एक बात और करना चाहता हूं. क्वात्रोकी छुपे बैठे हैं. उनका एक बेटा है मलिस्मा या मलुस्मा. सारे काग़ज़ात मेरे पास हैं. मैं कमिश्नर रहा हूं, बिना काग़ज़ात के कुछ भी नहीं बोलता. मलुस्मा ने 2005 में अंडमान निकोबार में तेल की खुदाई का ठेका लिया. इस सरकार के अंदर लिया. जिस क्वात्रोकी को स्वामी जी कहते हैं ढू़ंढो, इटली की सबसे बड़ी रैकेटियर कंपनी ईएनआई इंडिया लिमिटेड के नाम से खोला गया उसके बेटे का दफ्तर मेरिडियन होटल के अंदर है. चलो वहीं चलकर उसे तोड़ देते हैं. यह मामला अभी तक न मीडिया की नज़र में और न ही संसद की नज़र में आया है. यह आरोप सचमुच चौंकाने वाला है. अगर विश्वबंधु गुप्ता के इस आरोप में सच्चाई है तो इसकी जांच हो और अगर यह झूठ है तो केंद्र सरकार और कांग्रेस पार्टी को उनके ख़िला़फ कार्रवाई करनी चाहिए.

मज़े की बात यह है कि इस भाषण में वह यह दावा भी कर रहे थे कि आज का भाषण प्रधानमंत्री और सोनिया गांधी सुनेंगे, सारे भ्रष्ट नेता सुनेंगे. उन्हें पता है कि विश्वबंधु गुप्ता क्या है. आज मैं अपनी बात और आपकी बात वहां पहुंचाने के लिए एक-एक चीज़ का ख़ुलासा कर दूंगा. इसके बाद उन्होंने स्विस बैंक के बारे में एक और जानकारी दी. उन्होंने कहा-2005 में स्विस बैंकर्स एसोसिएशन ने एक चिट्ठी लिखी सरकार को कि हम आपके देश में आना चाहते हैं. 2007 में वही बैंकर्स, जिनके पास सत्तर लाख करोड़ रखा हुआ है, वे दिल्ली आए. उनकी फोटो हैं हमारे पास. उन्होंने कहा कि हमें हिंदुस्तान में स्विट्जरलैंड के बैंक खोलने दिए जाएं. हमको दुनिया का लूटा हुआ पैसा बंबई की स्टॉक मार्केट में लगाने दिया जाए. शर्म की बात है…चिदंबरम साहब से मैं जवाब मांगता हूं. 2007 में स्विस बैंक को आज़ादी दी गई स्टॉक मार्केट में सट्टा खेलने की. 2005 में भारत में स्विट्जरलैंड के चार और इटली के आठ बैंक खोले गए. ये इटली वे बैंक हैं, जिनमें घाटा चल रहा है और जिन्हें वहां का मा़फिया चला रहा है. इससे आगे जाने की मुझे ज़रूरत नहीं है. बाबा को मैंने ही लिस्ट दी थी आठ बैंकों की.

स्विस और इटली के बैंकों की बात यहीं ख़त्म नहीं हुई. विश्वबंधु ने इन सारी गड़बड़ियों के लिए सोनिया गांधी को ज़िम्मेदार बता दिया. सोनिया गांधी के ख़िला़फ सार्वजनिक तौर पर इतना बड़ा भ्रष्टाचार का इल्ज़ाम किसी ने नहीं लगाया. विश्वबंधु ने कहा- मेरी बहन सोनिया गांधी, अगर देश को लूटने आई हो, तो लाल क़िले से ऐलान कर दो. अगर हम में देश का ख़ून है तो हम जीतेंगे और अगर तुम में इटली का ख़ून और उसका गर्व है तो तुम जीत जाना. एक बार यह आर-पार की लड़ाई हो ही जाए तो अच्छा है. बाबा रामदेव के स्वाभिमान आंदोलन के मंच से सोनिया गांधी पर ऐसे आरोप लगाए जा रहे हैं. बाबा रामदेव कहते हैं कि भ्रष्टाचार का उनका आंदोलन किसी पार्टी विशेष या व्यक्ति विशेष के ख़िला़फ नहीं है, लेकिन रैली में जो हुआ, उससे तो यही लगता है कि बाबा रामदेव ने कांग्रेस के ख़िला़फ यह अभियान छेड़ा है.

हसन अली के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने भी केंद्र सरकार को फटकार लगाई. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि हसन अली के ख़िला़फ अब तक कार्रवाई क्यों नहीं हुई. हैरानी की बात यह है कि सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी के पहले ही विश्वबंधु गुप्ता ने कांग्रेस और हसन अली के रिश्तों के बारे में बता दिया था. इस रैली में उन्होंने यह दावा किया- अब आपको हसन अली का कुछ ख़ुलासा करता हूं. इनकम टैक्स डिपार्टमेंट जिसमें मैं कमिश्नर था, उसने पुणे में छापा मारा. छापे में एक लैपटॉप पकड़ा गया, जिसमें सत्रह नाम थे. एक नाम पढ़ा जा सकता था अदनान खशोगी का. बाक़ी सोलह नाम कोडेड थे, समझ नहीं आ रहे थे. हमारे अ़फसर थक गए. उन्होंने कहा कि साहब, ये नाम नहीं पता लग रहे. एक ईमानदार अ़फसर ने स्विट्‌जरलैंड को चिट्ठी लिखी कि साहब इनके नाम बता दीजिए. उन्होंने कहा कि हम ये नाम आपको देने के लिए तैयार हैं, अगर आपके वित्तमंत्री हमको चिट्ठी लिखें. लेकिन इस चिदंबरम का कैरेक्टर देखिए आप, उस आदमी को इस्ती़फा देना पड़ेगा. हम आपको उसका कैरेक्टर बताते हैं. चिदंबरम ने क्या किया, सत्रह आदमियों की लिस्ट देखी. मुझे कारण मालूम नहीं कि उन्होंने चिट्ठी क्यों लिखी, मगर लगता है उनके मन में घूस खाने का लालच आया. उन्होंने सोचा कि ये पचास हज़ार करोड़ की मोटी-मोटी बिल्लियां आ गई हैं, नाम लाऊंगा, इनको ब्लैकमेल करूंगा और घूस खाऊंगा. इतिहास भी आदमियों से क्या-क्या करा देता है. चिट्ठी लिखी गई, हसन अली का अकाउंट निकला, सत्रह नाम आए, लेकिन चिदंबरम की क़िस्मत फूट गई. उसमें तीन राजनेताओं के भी नाम थे. आपको नाम भी बता देता हूं, विलासराव देशमुख का नाम था, जो कैबिनेट मिनिस्टर है. उसके बाद वह घोड़े बेचने वाला आदमी, जिसने 100 लाख करोड़ रुपया जमा कराया. फिर क्या हुआ. यह तीन साल पहले की बात है. आज भी हसन अली खुलेआम घूम रहा है. आज दूसरे का भी नाम सुन लो, जो विलासराव देशमुख के साथ हसन अली से मिलने गया था पुणे में. दूसरे आदमी का नाम है अहमद पटेल. सोनिया गांधी जी सुन लो…बॉम्बे पुलिस के पास उन तीनों राजनेताओं की वीडियो फुटेज है, जो रात को पुणे में मिलते थे.

बात हसन अली से सोनिया गांधी तक पहुंच गई. विश्वबंधु ने आगे कहा- अहमद पटेल यूपीए की चेयरमैन के राजनैतिक सलाहकार हैं. मैं नहीं जानता कि वह कौन सी राजनीति समझाते हैं, क्योंकि उनकी मीटिंग सोनिया से रोज़ रात को 12 से 2 बजे के बीच होती है. भारत के इतिहास में पहली बार मैंने देश के राजनेताओं को रात-रात भर 12 से 3 बजे तक मिलते देखा है. अरे उल्लू जागते हैं उस समय तो! सोनिया गांधी जी यह बताएं या अहमद पटेल बताएं कि हफ्ते में 2-3 बार जब सोनिया का फोन आता था, तो अहमद पटेल गाड़ियां बदल-बदल कर छुपकर उनसे मिलने 10 जनपथ क्यों जाते थे, क्या होता था, क्या हिसाब तय होता था? क्या पैसे की बातें होती थीं? आज यह देश एक डिपार्टमेंटल स्टोर है. इस सरकार ने वाइस चांसलरों की पोस्ट बेचीं. राज्यसभा की सीटें बिक रही हैं पैंतीस करोड़ की. हर चीज़ बिकी. और बिकते-बिकते मामला यहां तक आ गया कि इस मुल्क की ज़मीन तक सरकार ने बेची. हम जानते हैं कि हसन अली दाऊद का आदमी है. 2-जी मामले में आपने शाहिद बलवा का नाम सुना. शाहिद बलवा एक बिल्डर हैं, जो कुछ दिन पहले सड़क पर चलते थे. शाहिद बलवा के यहां जब छापा पड़ा तो उनके पास शरद पवार के काग़ज़ मिले हज़ारों करोड़ के, अनर्थ हुआ. मुझको तो यह भी समझ में नहीं आता कि इस देश के मंत्रिमंडल में कोई ईमानदार मंत्री है भी कि नहीं.

इस रैली में भारतीय जनता पार्टी के नेता एवं देश के जाने-माने वकील राम जेठमलानी भी थे. उन्होंने भी गांधी परिवार और कांग्रेस पार्टी पर आरोप लगाए. उन्होंने कहा- स्विट्ज़रलैंड के एक अख़बार, जिसका नाम था इलस्ट्रेटेड, ने दुनिया के 14 बड़े गुनहगारों और डाकुओं का ज़िक्र उनकी तस्वीरों के साथ अपने एक पर्चे में किया था. उन 14 गुंडों और बदमाशों के बीच में एक हिंदुस्तानी भी था. वह हिंदुस्तानी हमारे देश का पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी था. उसकी तस्वीर के बाज़ू में कई मिलियन डॉलर लिखे हुए थे, जो स्विट्ज़रलैंड के बैंकों में जमा थे. अब मैं 1994 की बात करता हूं. रशिया में एक किताब छपी, जिसका नाम है अ स्टेट विद इन अ स्टेट. उसमें लिखा है कि राहुल गांधी को हमारी केजीबी से, जो उनकी सीक्रेट पुलिस है, हर साल अच्छा पैसा मिल रहा है और राहुल गांधी हमारी शुक्रगुज़ारी करता रहता है और सोचता है कि जो पैसा मैं रशिया से लेता हूं, वह हिंदुस्तान की सेवा में लगाता हूं. हिंदुस्तान के प्रेस ने यहां की जनता को यह बात कभी नहीं बताई. यह बात छिपाई गई, क्यों? क्या भ्रष्टाचार हमारे प्रेस को भी ख़राब कर चुका है?

बाबा रामदेव सबसे आख़िरी में बोले. संत नहीं, एक राजनेता की तरह बोले. अपने भाषण से उन्होंने सभी वक्ताओं के भाषण को एक दिशा दी. भारत स्वाभिमान आंदोलन के दुश्मन कौन हैं, मित्र कौन, इसे भी स़फाई से बताया. उन्होंने कहा- महात्मा गांधी का नाम और तो देश में कहीं दिया नहीं, बहुत दबाव देने के बाद नरेगा महात्मा गांधी के नाम किया गया. बाक़ी तो आधी से ज्यादा योजनाओं और संस्थानों के नाम एक ही परिवार के नामों पर हैं. क्या स़िर्फ एक ही परिवार ने शहादत दी है, आधी से ज्यादा योजनाओं का नाम एक ही परिवार के नाम कैसे कर दिया गया… वर्तमान में जो केंद्र सरकार है, इसका क़रीब 55 साल देश में राज रहा है…इस दौरान 400 लाख करोड़ लूटे गए हैं हिंदुस्तान के. माना कि हम दूसरी पार्टियों को क्लीन चिट नहीं दे रहे हैं, लेकिन यदि दूसरे दोषी हैं एक-दो प्रतिशत, तो 99 प्रतिशत दोषी हैं जो वर्तमान में बैठे हैं. वैसे भी विश्वबंधु गुप्ता ने इस मंच से पहले ही ऐलान कर दिया था- देश में भ्रष्टाचार के ख़िला़फ ऐसा महाभारत होगा, जो हमारी नई पीढ़ी देखेगी और नॉर्थ ब्लॉक, साउथ ब्लॉक से लेकर दस जनपथ तक की ईंट से ईंट तोड़ दी जाएगी.

बाबा रामदेव ने काले धन की बात उठाई और सीधा सोनिया गांधी को निशाने पर लिया. उन्होंने विश्वबंधु गुप्ता की बात को आगे बढ़ाया और कहा- पहले चोरी करके (काला धन) स्विट्‌ज़रलैंड भेजते थे, अब इन बैंकों को भारत ही बुला लिया. स्विट्‌ज़रलैंड के चार बैंक यहीं बुला लिए. उन्होंने कहा कि पहले हज़ार करोड़ लूटते थे, अब लाखों करोड़ लूट रहे हैं. स्विट्‌ज़रलैंड ले जाने में दिक्क़त होती है. स्विट्‌ज़रलैंड के बुलाए तो बुलाए, जब मैंने कहा कि आठ बैंक इटली के बुलाए तो मिर्ची लग गई. अरे, इटली के आठ बैंक भारत में क्या कर रहे हैं? बाबा रामदेव गांधी परिवार पर हमला करने से नहीं चूकते. कभी सीधे-सीधे तो कभी इशारे में. बीच-बीच में उन्होंने नेहरू पर भी छींटाकशी की, कहा, मैं अभी तेजपुर से आया हूं जिसे एक प्रधानमंत्री ने चीन को सौंप दिया था. इस रैली में उन्होंने उस मुद्दे को फिर उठाया, जिसमें यह आरोप लगाया- एक कांग्रेसी सांसद ने मुझे अपशब्द कहे. कोई संन्यासी जिन्हें ब्लडी इंडियन और कुत्ता नज़र आता है, उनके दिमाग़ का इलाज करना चाहिए. दु:ख इस बात का है कि ऐसे लोगों को हम संसद में कैसे बैठा देते हैं. सरकार और वह पार्टी इस पाप के लिए क्षमा मांगना तो दूर, उल्टा हिसाब मांगती है. अब तो देश की जनता हिसाब मांगेगी कि तुमने कितना देश को लूटा है. बाबा के निशाने पर केंद्र सरकार तो है ही, साथ ही उन्होंने प्रधानमंत्री को भी कठघरे में खड़ा कर दिया. उन्होंने कहा- आज तो प्रधानमंत्री ने समय नहीं दिया, मैं तो समय मांगता रहूंगा. अगर समय नहीं दिया तो उनका भी समय पूरा हो जाएगा. वह सलामत रहें, क्योंकि प्रधानमंत्री जी बेईमान लोगों से घिरे ईमानदार व्यक्ति हैं. आज तक की सबसे बेईमान सरकार के सबसे ईमानदार प्रधानमंत्री का तमग़ा उन्हें मिला है.

किसी भी रैली का मक़सद देश और समाज में संदेश देना होता है. कुछ रैलियां ऐसी होती हैं, जिनमें मजमा तो लगता है, हज़ारों-लाखों लोग जमा होते हैं, लेकिन वे कोई संदेश नहीं पहुंचा पातीं. वहीं कुछ रैलियां ऐसी होती हैं, जो छोटी होती हैं, जिनमें ज्यादा लोग नहीं जमा होते, लेकिन उनसे देश और समाज में संदेश जाता है. यह रैली संदेश देने में कामयाब नहीं हुई. खानापूर्ति के लिए अख़बारों ने रैली की ख़बर छाप तो दी, लेकिन मुद्दा गुम हो गया. योग गुरु बाबा रामदेव को भी उलझन हुई होगी कि इतने सारे अख़बारों और उनके सभी चहेते टीवी चैनलों से रैली का संदेश क्यों ग़ायब हो गया. क्या कांग्रेस पार्टी और सरकार ने अख़बारों-चैनलों पर दबाव बना लिया या फिर इस रैली में ही कुछ ऐसी बातें कही गईं, आरोप लगाए गए कि मीडिया ने इससे किनारा करना ही मुनासिब समझा.

बाबा रामदेव ने जबसे राजनीतिक दल बनाने की घोषणा की है, तबसे उनकी रैलियों में एक बदलाव दिख रहा है. भ्रष्टाचार के ख़िला़फ आंदोलन का आह्वान करने वाले बाबा रामदेव की पूरी मुहिम कांग्रेस पार्टी और गांधी परिवार पर केंद्रित होती जा रही है. इस रैली में गांधी परिवार और कांग्रेस पार्टी के ख़िला़फ वक्ताओं ने जमकर आग उगली, आरोप लगाए. बाबा रामदेव के सामने भाषा की सीमा लांघी गई. तालियों की गड़गड़ाहट के बीच राजनीतिक और सामाजिक गरिमा दब सी गई. हालांकि यह सवाल भी उठता है कि संतों के इस आंदोलन में ख़राब भाषा का क्या औचित्य है. अगर बाबा रामदेव की बातों में सत्यता है, अगर उनकी लड़ाई स़िर्फ भ्रष्टाचार से है तो जनता वैसे ही खिंची चली आएगी.

हमने कई नेताओं से इन आरोपों के बारे में बात की. कांग्रेस के नेताओं को अब समझ में नहीं आ रहा है कि क्या किया जाए. चुप रहा जाए या फिर बोला जाए. बाबा के ख़िला़फ बोलने की किसी की हिम्मत नहीं हो रही है. जो हिम्मत करना भी चाहते हैं, उन्हें चुप रहने के लिए कहा गया है. सवाल यह है कि क्या देश में मंत्रियों, सरकार, राजनीतिक दलों और उनके नेतृत्व पर बिना सबूत, बिना तथ्य, बिना जानकारी के आरोप लगाया जा सकता है. अगर इन आरोपों के सबूत हैं तो बाबा रामदेव और उनके साथियों को उन्हें देश की जनता के सामने पेश करना चाहिए. हम इस मामले को इसलिए उठा रहे हैं कि बाबा रामदेव के मंच से किन्हीं सामान्य लोगों पर आरोप नहीं लगाया गया है. बाबा रामदेव और उनके अभियान में शामिल लोग देश चलाने वाले मंत्रियों और सरकार चलाने वाली पार्टी और उसके नेतृत्व पर आरोप लगा रहे हैं. जनता को सच जानने का अधिकार है. अगर कांग्रेस पार्टी और सरकार इन आरोपों का जवाब नहीं देती है तो देश की जनता मान लेगी कि इन आरोपों में सच्चाई है.

Leave a Reply

6 Comments on "कांग्रेस और रामदेव आमने-सामने"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
शैलेन्‍द्र कुमार
Guest
आपने लिखा है कि – “अगर कांग्रेस पार्टी और सरकार इन आरोपों का जवाब नहीं देती है तो देश की जनता मान लेगी कि इन आरोपों में सच्चाई है” – तो जान लीजिये कांग्रेस के जवाब देने का अंदाज़ जुदा है वो अपने किये का स्पष्टीकरण नहीं देगी बल्कि स्वामी रामदेव कि छवि धूमिल करने का प्रयास करेगी, कांग्रेस के जन्म से लेकर आज तक के उसके इतिहास को उठा कर देख ले, ये पार्टी स्वयं आज तक कुछ अच्छा नहीं कर सकी, हमेशा अपने कुकर्मों को दूसरों पर आरोप लगाकर और अपने कुछ मीडियाई चमचों को चिल्लाने के लिए… Read more »
मुकुल शुक्ल
Guest
मुकुल शुक्ल
लेखक की ये बात समझ से बाहर है की जो इल्जाम स्वामी रामदेव की रैली में कांग्रेसियों पर लगे वो बिना तथ्यों और सबूतों के थे | विश्व बंधू गुप्ता जी ने बोला की वो ये इलज़ाम बिना सबूतों के नहीं लगा रहे | अब और क्या सच्चाई सामने लाये स्वामी रामदेव | अगर मीडिया आगे खोजबीन करे तो सारी सच्चाई निकल कर आ जायेगी | आ जायेगी क्या बल्कि आ रही है | ये स्वामी रामदेव का ही कमाल है की धीरे धीरे सारे भ्रष्टाचारियो का नाम सामने आना शुरू हो गया है सबूतों के साथ और अब मीडिया… Read more »
Insaan
Guest
जब कभी हिंदी भाषा में नेहरु और गाँधी परिवार के पक्षपात में लिखा कोई लेख देखता हूं, मुझे ऐसा लगता है कि उस परिवार से एक व्यक्ति कुछ पा लेने की नीयत से गरीब की झोंपड़ी में आ घुसा है| झोंपड़ी में क्या हुआ देखा सुना नहीं, जगदीश्वर चतुर्वेदी, संजय द्विवेदी, पंकज चतुर्वेदी, और हाल ही में शाबाद जाफरी के लेखों पर हुई प्रतिक्रिया को पढ़ ऐसा जान पड़ता है कि घुसपैठिये को लज्जित होना पड़ा है| अब देख रहा हूं कि आज युवा वर्ग में उभरते नए रंगरूट भी बहती गंगा में हाथ धोने में लगे हुए हैं| मनीष… Read more »
अखिल कुमार (शोधार्थी)
Guest

khulaasa achchha yai…yadi sachchhai aur pramaan hua to in gaddaron kee kursee me sendh lagni hee chaahie……

डॉ. मधुसूदन
Guest

आप कहते हैं:
“सबको बोलने का मौक़ा दिया गया. हैरानी की बात यह है कि इस विशाल रैली में क्या हुआ, यह मीडिया से पूरी तरह ग़ायब रहा. बाबा रामदेव की वजह से यह रैली एक धार्मिक चैनल आस्था पर दिन भर लाइव दिखाई गई. पहला सवाल तो यही उठता है कि मीडिया ने इस रैली और इसमें लगे आरोपों को महत्व क्यों नहीं दिया.” ? उत्तर: भाई बॉस ने कहा चुप बैठो।
इसमें कोई अचरज की बात नहीं । मिडिया ही बिका हुआ है। जब बाड ही खेत खा जाएगी, तो कौन रक्षा करेगा?
राम राम

wpDiscuz