लेखक परिचय

संजय सक्‍सेना

संजय सक्‍सेना

मूल रूप से उत्तर प्रदेश के लखनऊ निवासी संजय कुमार सक्सेना ने पत्रकारिता में परास्नातक की डिग्री हासिल करने के बाद मिशन के रूप में पत्रकारिता की शुरूआत 1990 में लखनऊ से ही प्रकाशित हिन्दी समाचार पत्र 'नवजीवन' से की।यह सफर आगे बढ़ा तो 'दैनिक जागरण' बरेली और मुरादाबाद में बतौर उप-संपादक/रिपोर्टर अगले पड़ाव पर पहुंचा। इसके पश्चात एक बार फिर लेखक को अपनी जन्मस्थली लखनऊ से प्रकाशित समाचार पत्र 'स्वतंत्र चेतना' और 'राष्ट्रीय स्वरूप' में काम करने का मौका मिला। इस दौरान विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं जैसे दैनिक 'आज' 'पंजाब केसरी' 'मिलाप' 'सहारा समय' ' इंडिया न्यूज''नई सदी' 'प्रवक्ता' आदि में समय-समय पर राजनीतिक लेखों के अलावा क्राइम रिपोर्ट पर आधारित पत्रिकाओं 'सत्यकथा ' 'मनोहर कहानियां' 'महानगर कहानियां' में भी स्वतंत्र लेखन का कार्य करता रहा तो ई न्यूज पोर्टल 'प्रभासाक्षी' से जुड़ने का अवसर भी मिला।

Posted On by &filed under राजनीति.


प्रियंका का आकर्षण,कांगे्रसियों की चाटुकारिता

Priyanka_Gandhiसंजय सक्सेना

उत्तर प्रदेश में चुनाव के समय कांग्रेस की तरफ से प्रियंका गांधी वाड्रा अचानक ‘लाइम-लाइट’ में आ जाती हैं। प्रियंका ने कांगे्रस के लिये क्या योगदान किया है,यह बात भले ही कोई कांगे्रसी नहीं जानता हो,लेकिन कांगे्रस के तमाम छोटे-बड़े नेताओं/कार्यकर्ताओं को यह जरूर पता रहता है कि वह देवी का अवतार हैं। कांगे्रसियों को प्रियंका में दूसरी इंदिरा दिखाई देती हैं।(ठीक वैसे ही जैसे कुछ वर्ष पूर्व तक कांगे्रसियो ंको राहुल में राजीव गांधी की छवि नजर आती थीं)।तात्पर्य यह है कि कांग्रेसियों को अपनी ‘सियासी हांडी’ पकाने के लिये कभी किसी चीज/बात से गुरेज नहीं रहता है। वह अपनी विचारधारा को त्याग सकते है। सियासी फायदे के लिये किसी के भी सामने ‘नतमस्तक’ होने जाने की कांग्रेसी संस्कृति दशकों पुरानी है। इसी संस्कृति की देन है कांगे्रसियों का एक परिवार विशेष के प्रति लगाव। नेहरू से लेकर राहुल गांधी तक यह सिलसिला बद्स्तूर जारी रहा। अब इस सिलसिले को प्रियंका गांधी वाड्रा आगे बढ़ायेंगी। कांगे्रस 2017 में पांच राज्यों में होने वाले विधान सभा चुनाव के लिये प्रियंका को आगे करेगी,यह खबर सुर्खियां बनते ही कांगे्रसी मंशा पर सवाल उठने लगे हैं। राजनैतिक जानकार पूछ रहे हैं कि कांगे्रस ने प्रियंका में ऐसा क्या देखा जो उन्हें लगने लगा कि वह यूपी सहित पंाच राज्यों में कांगे्रस का बेड़ा पार कर दंेगीं। प्रियंका अपनी माॅ सोनिया गांधी के संसदीय क्षेत्र रायबरेली और भाई राहुल गांधी के संसदीय क्षेत्र अमेठी में तो पहले से ही सक्रिय थीं,परंतु दोंनो ही जगह उन्होंने कोई ऐसा कारनामा नहीं किया जिसके आधार पर तय किया जा सके कि प्रियंका यूपी में कांगे्रस की तस्वीर और तकदीर बदल दंेगी। इसके बाद भी प्रियंका गांधी कांगे्रसियों के आकर्षण की वजह बनी हुई हैं तो इसे चाटुकारिता से अधिक कुछ नहीं कहा जायेगा।
2012 के विधान सभा चुनाव के समय पूरी कोशिश लगा देने के बाद भी प्रियंका अपनी माॅ सोनिया गांधी के संसदीय क्षेत्र रायबरेली में कांगे्रस की करारी हार को बचा नहीं पाईं थीं। पांच में से चार विधान सभा सीटों पर समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी विजयी हुए थे और एक सीट पर निर्दलीय प्रत्याशी को जीत हासिल हुई थी। रायबरेली की तरफ भाई राहुल गांधी के संसदीय क्षेत्र अमेठी पर भी प्रियंका गांधी मेहरबान रहती हैं, लेकिन यहां भी स्थिति रायबरेली से बेहतर नहीं है। 2014 में अमेठी से जीत हासिल करने के लिये राहुल गांधी को गली-गली खाक छानना पड़ गई थी। बात 2012 के विधान सभा चुनाव की कि जाये तो राहुल/प्रियंका अमेठी में भी कांगे्रस की स्थिति औसत ही रही।
दरअसल, कांगे्रसियों को प्रियंका के काम (योग्यता) से अधिक चाम (चेहरा) पर भरोसा है। प्रियंका की छवि एक ‘बार्बी डाल’ जैसी रचि जा रही है। पार्टी में चटुकार टाइप के ऐसे कांगे्रसियों की भी कमी नहीं है जो प्रियंका में उनकी दादी और पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गंाधी का ‘अवतार’ देखते हैं। कांगे्रसी यह समझने के लिये तैयार ही नहीं हैं कि किसी का किसी से चेहरा-मोहरा मिल जाये तो इसका यह मतलब नहीं है कि उसमें उसके गुण भी आ जाते हैं। इंदिरा गांधी एक परिपक्त नेत्री थीं। उन्हें सियासत की बारीकियां पता थीं तो कूटनीति में भी माहिर थीं। वह जनता की नब्ज पहचानती थीं तो सरकार चलाने की काबलियत उनमें कूट-कूट कर भरी हुई थी। कई मायनों में तो वह अपने पिता पंडित जवाहर लाल नेहरू से भी बीस बैठती थीं। ताज्जुब की बात यह भी है कि कांगे्रसियों को ही नहीं कांगे्रस के रणनीतिकार प्रशांत किशोर औरे यूपी कांगे्रस के प्रभारी बनाये गये गुलाम नबी आजाद को भी प्रियंका में काफी संभावनाएं दिखाई दे रही हैं।
यूपी सहित 2017 में होने वाले अन्य चार राज्यों में भी प्रियंका को हाईलाइट करने का मन बना चुकी कांगे्रस, यूपी में अपनी ताकत बढ़ाकर दिल्ली में मोदी सरकार की उलटी गिनती शुरू करने का सपना पाले हुए है। प्रियंका पांचों राज्यों में चुनाव प्रचार करंेगी, लेकिन ज्यादा समय वह यूपी में ही बितायेंगी। दूसरी तरफ विरोधियों का कहना है कि कांग्रेस ने भले ही उत्तर प्रदेश के अगले विधानसभा चुनाव के प्रचार में अपने तुरुप के पत्ते प्रियंका गांधी वाड्रा को उतारने का मन बना लिया है,परंतु उसकी मुश्किलें कम नहीं होंगी हहैं।सबसे बड़ी समस्या यही है कि उ0प्र0 में प्रियंका को कांग्रेस का चेहरा बनाया जाए या नहीं इसको लेकर पार्टी के भीतर ही मतभेद है। पार्टी का एक गुट प्रियंका को यूपी कांग्रेस का चेहरा बनाने के लिए हाईकमान पर दबाव बना रहा है तो दूसरी तरफ कांग्रेस में चिंता इस बात को लेकर भी चल रहा है कि उप्र में ही प्रियंका के करिश्मे को पूरी तरह से दांव पर लगाना कितना फायदे का सौदा रहेगा।अगर 2017 में प्रियंका नहीं चली तो 2019 के लिये कांगे्रस के पास और कोई विकल्प भी नहीं बचेगा।इसी लिये कोशिश यही की जा रही है कि ‘सांप भी मर जाये और लाठी भी न टूटे।’ कांगे्रस आलाकमान चाहता है कि प्रियंका के राजनीतिक करिश्मे को बचाए रखकर ही मैदान में उतरा जाये।
कांगे्रसी पिछले चुनावी अनुभवों को देखते हुए सिर्फ राहुल गांधी के सहारे 2019 में नहीं उतरना चाहते हैं। इसी लिये आम चुनाव में कांग्रेसी प्रियंका को पार्टी के लिए अपरिहार्य मान रहे हैं। रणनीतिकारों का कहना है कि उप्र और देश की सियासत की लड़ाई में लौटने के लिए कांग्रेस को कम से कम विधानसभा में 70 से 100 सीटें जीतनी होंगी। उप्र के मौजूदा नेताओं की अगुवाई में इस लक्ष्य तक पहुंचना बेहद कठिन है।अभी तक हाईकमान का रुख यही है कि अगले लोकसभा चुनाव तक प्रियंका की राजनीतिक अपील को बचाए रखते हुए ही उन्हें उप्र के प्रचार में लगाया जाएगा। कहा तो यह भी जा रहा है कि प्रियंका की चमक को बरकरार रखने के प्रति सजग दस जनपथ प्रियंका का नाम बार-बार मीडिया में उछाले जाने से नाराज है। गांधी परिवार को लगता है कि इससे सुर्खियां तो मिलती हैं, लेकिन पार्टी की इमेज को नुकसान पहुंचता है। ऐसा संदेश जाता है कि पार्टी किसी फैसले पर नहीं पहुंच पा रही। यही वजह है प्रियंका को पूरी तरह से राजनीति में उतरने और इस बाबत कांग्रेस की तरफ से बड़े ऐलान की खबर आने के बाद भी प्रियंका गांधी की तरफ से यही कहा गया कि अभी कोई अंतिम फैसला नहीं लिया गया है। कांगे्रस पार्टी के मीडिया इंचार्ज रणदीप सुरजेवाला भी कह रहे हैं कि पार्टी, प्रियंका गांधी को लेकर कोई भी अंतिम फैसले पर पहुंचेगी तो मीडिया को सूचित किया जाएगा। प्रियंका की छवि को लेकर सजग आलाकमान की मंशा को भांप कर उत्तर प्रदेश इकाई के जिस नेता ने प्रियंका गांधी की डेढ सौ रैलियों की बात कही, उसे मुंह बंद रखने की सलाह दी गई।बात आगे बढ़ाई जाये तो प्रशांत किशोर को पार्टी के रणनीतिकार के तौर पर कांग्रेस लेकर आयी है। गांधी परिवार उनके सुझावों को पूरी अहमियत दे रहा है और उस हिसाब से आगे बढ़ने की कोशिश भी कर रहा है। यहां तक की किशोर को रणनीति बनाने के लिए ‘फ्री हैंड’ भी दिया गया है। पार्टी और गांधी परिवार को चर्चा में बनाए रखने की प्रशांत किशोर की रणनीति से भी दस जनपथ को कोई परेशानी नहीं है। लेकिन इसकी एक लक्ष्मण रेखा होनी चाहिए, इसकी जरूरत भी समझी जा रही है।
प्रियंका को आगे करने से कांगे्रस को फायदे ही फायदे नजर आ रहे हैं,लेकिन कांग्रेस नेतृत्व प्रियंका के पूरी तरह मैदान में उतरने की स्थिति में राबर्ट वाड्रा के विवादित जमीन सौदों की जांच की आड़ में राजनीतिक प्रहार को लेकर भी सतर्क है। वह यह भी नहीं चाहता है कि प्रियंका किसी भी स्थिति में राहुल गांधी का विकल्प नजर आएं। राबर्ट वाड्रा की सियासी महत्वाकांक्षा किसी से छिपी नहीं है और वह कभी भी दस जनपथ के लिये मुश्किल खड़ी कर सकते हैं।

Leave a Reply

1 Comment on "यूपी जीतने के लिये कांगे्रस का शार्टकट फार्मूला"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
mahendra gupta
Guest
प्रियंका को यू पी के चुनाव में उतारना कांग्रेस का सपना आगे चल कर पछतावे का कारण न बन जाए ,प्रियंका ऐसा कोई करिश्मा नहीं एक रात में कांग्रेस अपना खोया मैदान मार ले , यदि वह आ भी गयी तो भी इस पार्टी को अधिक से अधिक 35 -40 सीट ही प्राप्त होंगी यह तो अभी का अंदाज है , आगे क्या घटना क्रम बदलता है वह बात दीगर है। लेकिन यह बहुत विचारणीय है कि यदि प्रियंका वाला “कारतूस”फुस्स हो गया तो क्या होगा?चाटुकार तो सब चुप हो कर बैठ जाएंगे कांग्रेस की हालत और पतली हो जायेगी।… Read more »
wpDiscuz