लेखक परिचय

क्षेत्रपाल शर्मा

क्षेत्रपाल शर्मा

देश के समाचारपत्रों/पत्रिकाओं में शैक्षिक एवं साहित्यिक लेखन। आकाशवाणी मद्रास, पुणे, कोलकाता से कई आलेख प्रसारित।

Posted On by &filed under कविता.


हाथ जेब भीतर रहे, कानों में है तेल

नौ दिन ढाई कोस का वही पुराना खेल .

छिपने की बातें सभी, छपने को तल्लीन

सच मरियल सा हो गया झूट मंच आसीन.

बचपन- पचपन सब हुए रद्दी और कबाड़,

आध – अधूरे लोग हैं करते फ़िरें जुगाड़ .

क्या नेता क्या यूनियन सबके तय हैं दाम,

जीते हैं, पर मर चुके, इतने ओछे काम.

भाषा संकर हो गई ऐसे योग-प्रयोग ,

आसपास दुर्गंध है , फूले फलते रोग.

फिर-फिर कर आती रही एकलव्य की याद ,

उसी अंगूठे के लिए, गुरू की अब फरियाद.

घर -भेदी को ही सदा मिलता आया ताज,

ना था, था ना फ़ंस गया,घर की फूट समाज.

पहर ओढ न चल सके, घर से बेटी आज,

अब भी द्रोणाचार्य-सा, चुप है सभ्य समाज.

बिना किए का भोगते ,जीवन भर यह दंस,

तिमिर सभा में निकष पर, ये सूरज के अंश.

कहीं केवड़ा फूलता कहीं कुरील के वंश,

शर्त यही निर्माण की, पहले हो विध्वंस.

Leave a Reply

1 Comment on "दोहे / क्षेत्रपाल शर्मा"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
शिवेंद्र मोहन सिंह
Guest
शिवेंद्र मोहन सिंह

बेहतरीन कटाक्ष रचना…

wpDiscuz