लेखक परिचय

इसरार अहमद

इसरार अहमद

स्वतंत्र वेब लेखक व ब्लॉगर

Posted On by &filed under विविधा.


dash-ka-bharamप्रिय पाठको, यह लेख लिखने का विचार मेरे मन मे टीवी पर आने वाले एक रियलिटी शो देखकर आया जिसको पेश कर रहे है हर जवा दिलो के प्यारे या यू कह सकते है हर जवा लड़की और लड़को के दिलो की धड़कन – सलमान खान . आखिर यह DAS KA BHARAM या दस की यात्रा किया है.वास्तव में यह लेख हमारे पडोसी मुल्क के हुक्मरानों के लिए है निरंतर हमेशा हमारे सपनो को तोड़ने, हमारे देश की नींव को हिलाने, भारत वासियों के आत्मसम्मान को ठेस पहुचाने, हमारे प्रिये देश की अर्थ-वयवस्था को तहस-नहस कर देने के सपने देखता है, लेकिन शायद वह यह सामान्य और छोटी सी बात भूल गया की अगर दो मिले हुवे मकानों की नीव् एक साथ,एक ही जगह और एक ही समय पर रखी गयी हो और जो आपस में जुड़ी हो तो अगर आप अपने पडोसी के मकान की नीव हिलाते है तो जितना घर्षण (फोर्स) उसकी नींव पर पड़ता है उतना घर्षण (नुक्सान) स्वयं की इमारत पर भी होता है. यहाँ हम बात कर रहे है पाकिस्तान और पाकिस्तान के हुक्मरानों की जो 1947 से लेकर आज तक सिर्फ एक ही काम में मशगूल (लिप्त) है कैसे हिंदुस्तान को नुक्सान पहुचाया जाये कैसे उसकी जड़ो को खोखला किया जाये .

आ़ज पाकिस्तान के हुक्मरान है, आसिफ अली ज़रदारी जो पाकिस्तान के बलोच प्रांत मे एक सिंध परिवार में पैदा हुवे थे. उनके पिता हाकिम अली ज़रदारी भी कही न कही राजनीति से जुड़े हुवे थे. ज़रदारी का निकाह 1987 में जुल्फिकार अली भुट्टो (पाकिस्तान के पूर्व प्रधान मंत्री) की बेटी बेनजीर भुट्टो से हुवा और जिनकी मौत 2007 में एक आतंकवादी घटना में हो गयी. बेनजीर भुट्टो पाकिस्तान की दो बार प्रधानमंत्री रही और देश की कुशल और लोक प्रिय नेता में गिनी जाती थी.शादी के बाद 1990-1993 और 1993-1996 आसिफ ज़रदारी पाकिस्तान की नेशनल असेम्बली के दो बार सदस्य रहे और अपनी पत्नी के और अपने पदों का गलत इस्तेमाल करते हुवे उन्होंने कितने ही गलत काम किये और जिसकी वजह से वह पूरे पाकिस्तान और इस विश्व मे श्री 10% यानि (MR. 10% ) कहलाने लगे, यानि सरकार या सत्ता से जुड़ा या तालुख रखने वाला कोई भी काम जनाब चुटकियों में 10% पर करवा देते थे उनकी वजह से कितनी बार बेनजीर भुट्टो को मिडिया के सामने जवाब देते वक़्त शर्म का सामना करना पड़ा समय ने करवट ली और बेनजीर भुट्टो का प्रधान मंत्री का समय ख़त्म हुवा और कई कारणों से वह राजनीति के हाशये पर चली गयी यानि राजनीतिक जीवन पर ग्रहण लग गया और वह लन्दन में निर्वासित जीवन व्यतीत करने लगी और ज़रदारी पर देश में ही तमाम मामलो की वजह से सजा हुवी और सालो (लम्बे समय) तक वह जेल में रहे. PER आ़ज पाकिस्तान के सब से अमीर लोगो मे ज़रदारी गिनी जाते है और उनका का नंबर पाचवा है जिनकी सम्पति US $ 1.8 billion आकी गयी है. अब सवाल उठता है की कहा से आयी यह अकूत सम्पति. लोग आज भी उनको उनके उप नाम (सर नेम) से जानते है MR. 10% …………………………तब का MR. 10% आज के पाकिस्तान का……………. MR. 100% बन गया है वह सलमान खान के शो की तरह एक एक अंक जोड़ता गया लेकिन दिमाग और आचरण आज भी वैसा ही है.ज़रदारी अपनी मानसिक तौर पर स्वस्थ न होने का भी तमगा लेकर घूम रहे है. कुछ मनो-चिकित्सक और चिकित्सक उनको दिमागी तौर पर एक सामान्य आदमी नहीं मानते है.उनकी बीमारी या दिमागी तौर पर सामान्य न होना उनका एक लम्बे समय तक जेल में बीता हुवा वक़्त जो उन्हों ने भ्रष्ट चार , कर चोरी, सरकारी कामों में घोटाला आदि HAI ………………..!

ज़रदारी जो कभी जेल में समय बिता रहे थेः आज पाकिस्तान की सत्ता पर काबिज है लेकिन उनकी पॉलिसी आज भी पहले के हुक्मरानों की तरह कलंकित है.श्री 10% को हम भारत वासी कुछ सलाह देना चाहते है की भाई अगर दो कुर्सिया EK साथ में एक एक पार्क में जोडकर रख दी जाये और मिट्टी से जनमा दीमक एक कुर्सी में लगता है तो कुछ समय बाद वह दीमक दूसरी कुर्सी पर भी अपना जाल कसता है. ठीक उसी तरह आतंकवाद जिसको पाकिस्तान का 100% संरक्षण प्राप्त है, जिसको आतंकवाद का जनक के नाम से जाना जाता है.उनका वह हथियार जो वह भारत के खिलाफ आज तक इस्तेमाल करते आये है आज उनको भी नुक्सान पंहुचा रहा है.उसी दीमक ने उनकी एक अनमोल कुर्सी (बेनजीर भुट्टो) को भी चाट गया (मार दिया) यह आज उनकी भी नीव् को हिला रहा है, आज वह भी इससे अछूत नहीं है और आज वह भी अपने देश में लोगो की सिसकिया, खून और दर्द को साफ़ सुन और महसूस कर सकते है. ज़रदारी अपने करप्शन, घोटालो और अन्य कारणों की वजह से अपनी छवि पाकिस्तान ही नहीं सभी देशो के बीच खो चुके है, और उनको विदेशो में एक ऐसा सत्ता धारी (राजा) करार दिया गया जो मानसिक तौर पर ठीक नहीं है और जिसके हाथ मे परमाणु हथियार है जो कभी भी गलत हाथो में जा सकते है. ऊपर वाला हर इंसान को अपने पापो का धोने का मौका इसी लोक में देता है बस उस मौके को पहचाने और उसपे अमल करने की क्षमता और दूरदर्शिता होनी चाहिए अगर आ़ज ऊपर वाले ने उनको अगर मौका दिया है तो उनको अपनी छवि अपने पडोसी मुल्क के साथ सुधार लेनी चाहिए..अगर पाकिस्तान में उनको Mr. 10% घोटालो का और कमीशन बाज़ी का बेताज-बादशाह कहा जाता है तो अगर वह ज़रा से सूझबूझ से काम ले और हमारे भारत से दोस्ती से मिलकर रहे तो वह पाकिस्तान की सत्ता के भी बेताज-बादशाह ban सकते है उन्हें वह एक छोटी सी बात समझ ले की नींव जुडी होने पर निश्चित तौर पर उनके मकान को भी बराबर का नुक्सान होगा.अगर समय रहते हुवे वह देश-विदेश में अपने रिश्ते ख़ास तौर पर हमारे भारत से सुधार ले तो वह Mr. 10%…. …….से..……Mr. 100% बन सकते है.वरना इतिहास मे उनका नाम भी काले अक्षर से लिखा जायेगा उनकी जगह भी पिछले पाकिस्तानी हुक्मरानों की तरह होगी और यही कहा जायेगा………KI HUM KABHI NAHI SUDHRE GE….AYE MULKE – HIND. 

यहाँ हम सब भारत वासी, हिन्दू , मुस्लिम, सिख, इसाई, पारसी, जैन आदि अपने अल्लाह या ईश्वर से दुआ करे की हमारे पडोसी मुल्क के हुक्मरानों और नागरिको को समझ और नैतिकता के मूल दे और वे समझ सके की अगर आग हमारे घर को नुक्सान पहुचाएगी तो वह आग उनको भी झुलसा देगी अगर हम किसी के लिए गढढा खोदते है तो अल्लाह (ईश्वर) हमारे लिए उससे पहले खोद देता है….…

जय भारत………… जय भारत वासी ,

इसरार अहमद

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz