लेखक परिचय

बीनू भटनागर

बीनू भटनागर

मनोविज्ञान में एमए की डिग्री हासिल करनेवाली व हिन्दी में रुचि रखने वाली बीनू जी ने रचनात्मक लेखन जीवन में बहुत देर से आरंभ किया, 52 वर्ष की उम्र के बाद कुछ पत्रिकाओं मे जैसे सरिता, गृहलक्ष्मी, जान्हवी और माधुरी सहित कुछ ग़ैर व्यवसायी पत्रिकाओं मे कई कवितायें और लेख प्रकाशित हो चुके हैं। लेखों के विषय सामाजिक, सांसकृतिक, मनोवैज्ञानिक, सामयिक, साहित्यिक धार्मिक, अंधविश्वास और आध्यात्मिकता से जुडे हैं।

Posted On by &filed under कविता.


-बीनू भटनागर-
deepak

वायु बिन वो जल न पाये,
वायु से ही बुझ जाये है।
दीप तेरी ये कहानी तो,
कुछ भी समझ न आये है।
तू जला जो मंदिरों में,
पवित्र ज्योति कहलाये है।
आंधियों में ठहरा रहा तो,
संकल्प बन जाये है।
मृत्यु शैया पर जले तो,
पीर अपनो की बन जाये है।
आरती का दीप बुझ जाये तो,
अपशगुन कहलाये है।
दुल्हन का स्वागत हो या,
दिपावली की रात हो,
तेरे बिन हर शुभ अधूरा,
धरा का तारा तू हो जाये है।
तू जले चुप चाप फिर भी,
रौशनी औरों को दे दे।
दीप तेरे तले मे फिर भी,
केवल तमस ही रह जाये है।

Leave a Reply

1 Comment on "दीप"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
अशोक आंद्रे
Guest
अशोक आंद्रे

आपकी यह दीप कविता एक अच्छा सन्देश देने में पूरी तरह से सक्षम है,अगर आप अन्यथा न लें तो,कुछ जगह मात्रा दोष है जो खटकता है.इसे आप ठीक करलें तो कविता अपने आप में नदी की धारा बन कर लोगों के दिलों में सहज ही प्रवाहित होकर आकर्षित करेगी और वही इसकी ताकत भी होगी.
अशोक आंद्रे

wpDiscuz