लेखक परिचय

विजय कुमार

विजय कुमार

शिक्षा : एम.ए. राजनीति शास्त्र, मेरठ विश्वविद्यालय जीवन यात्रा : जन्म 1956, संघ प्रवेश 1965, आपातकाल में चार माह मेरठ कारावास में, 1980 से संघ का प्रचारक। 2000-09 तक सहायक सम्पादक, राष्ट्रधर्म (मासिक)। सम्प्रति : विश्व हिन्दू परिषद में प्रकाशन विभाग से सम्बद्ध एवं स्वतन्त्र लेखन पता : संकटमोचन आश्रम, रामकृष्णपुरम्, सेक्टर - 6, नई दिल्ली - 110022

Posted On by &filed under पर्यावरण.


हर बार की तरह इस बार भी प्रकाश का पर्व दीपावली सम्पन्न हो गया। लोगों ने जमकर आनंद मनाया; घर और प्रतिष्ठान सजाए; मिठाई खाई और खिलाई; उपहार बांटे और स्वीकार किये; बच्चों ने पटाखे और फुलझड़ियां छोड़ीं; कुछ जगह आग भी लगी; पर दीप पर्व के उत्साह में यह सब बातें पीछे छूट गयीं।

हर बार की तरह कुछ पर्यावरणवीदो ने दीवाली से कुछ दिन पहले से पटाखों के विरुद्ध अभियान छेड़ा। उन्होंने इनसे होने वाले शोर और प्रदूषण की हानि गिनाते हुए लोगों से इन्हें न छुड़ाने की अपील की। उन्होंने बताया कि इससे बच्चों, बू़ों और बीमारों को ही नहीं, तो पेड़पौधों और पशुपक्षियों को बहुत परेशानी होती है। सरकारी दूरदर्शन भी उनके इस अभियान में सहायता करता है। लखनऊ में कुछ लोग चिड़ियाघर के जानवरों के दुख से इतने दुखी हो जाते हैं कि वे पटाखे न छुड़ाने की मार्मिक अपील करते हुए जुलूस निकालते हैं। ऐसा और जगह भी होता होगा।

लेकिन इसके बाद भी पटाखों का शोर और प्रदूषण हर साल ब़ रहा है। दीवाली के बाद अखबारों ने प्रदूषणमापी उपकरणों के सौजन्य से इस बार भी बताया कि शहर के किस क्षेत्र में प्रदूषण का स्तर कितना ब़ा। कितने वृद्धों को दीवाली की रात में विभिन्न रोगों के शिकार होकर चिकित्सालय की शरण लेनी पड़ी। यद्यपि पिछले 30 साल से मैंने पटाखे नहीं फोड़े; लेकिन इस अवसर पर जो पर्यावरण प्रेमी दिखावा करते हैं, मैं उसका भी विरोधी हूं।

सच तो यह है कि व्यक्ति अपने उत्साह एवं उल्लास को विभिन्न तरीकों से प्रकट करता है। घर में किसी का विवाह, जन्म या जन्मदिन हो, तो लोग घर की रंगाई, पुताई और साजसज्जा करते हैं। रिश्तेदार और मित्रों के साथ सहभोज का आनंद लेते हैं। इस समय होने वाला नाचगाना, गीतसंगीत आदि भी उल्लास के प्रकटीकरण का एक तरीका ही है। गरबा, दुर्गा पूजा, देवी जागरण जैसे धार्मिक आयोजनों में एकदो दिन होने वाला शोर भी लोग सह लेते हैं। यद्यपि अति होने पर वह परेशानी का कारण बन जाता है।

लेकिन दीवाली पर हर नगर और ग्राम पटाखों की आवाज से गूंजने लगता है। रात के तीनचार घंटे में शोर और प्रदूषण का स्तर बहुत बढ जाता है। ऐसे में कुछ लोगों को परेशानी होनी स्वाभाविक है। इसका कुछ प्रबन्ध होना ही चाहिए; पर प्रदूषण से जुड़ी कुछ बातें और भी हैं, जिनकी ओर पर्यावरणवादी ध्यान नहीं देते। इसीलिए दीवाली पर किये जाने वाले उनके प्रयास निष्फल सिद्ध हो रहे हैं।

कृपया ये पर्यावरण प्रेमी बताएं क्या शोर और प्रदूषण केवल दीवाली पर ही होता है ? या इसे यों कहें कि दीवाली की रात में तो शोर और प्रदूषण कुछ घंटों के लिए ही होता है। वातावरण में जो बारूदी गंध और धुआं फैलता है, वह एकदो दिन में छंट भी जाता है; पर जिन चीजों से सारे साल प्रदूषण फैलता है, उसके बारे में वे मौन क्यों रहते हैं ?

इस समय सबसे अधिक प्रदूषण वातानुकूलित यंत्रों से हो रहा है। बाजार में आने वाली 90 प्रतिशत कारें वातानुकूलित उपकरणों से लैस हैं। नये बनने वाले प्रायः सभी भवनों और कार्यालयों में केन्द्रीय वातानुकूलन की व्यवस्था की जा रही है। इससे निकलने वाली जहरीली गैसें ओजोन परत को काट रही हैं, जिससे धरती का तापमान ब़ रहा है। सम्पन्न लोग तो कूलर और ए.सी लगवा लेते हैं; पर उन निर्धनों से पूछो, जिनकी झोपड़ी में बिजली ही नहीं है। ए.सी से सबसे अधिक हानि उन्हें ही होती है, जो इसे प्रयोग ही नहीं करते।

ब़ती जनसंख्या और नगरीकरण से जंगल कट रहे हैं। नदियों और धरती का पानी सूख रहा है। पर्वतीय हिमानियां सिकुड़ रही हैं। पशु और पक्षियों की संख्या भी घट रही है; पर मक्खीमच्छर और इनके कारण रोग फैल रहे हैं। प्लास्टिक का उपयोग और गंदगी के ेर ब़ रहे हैं। पर्यावरण प्रेमी बताएं कि वे निजी और सामूहिक रूप से इस बारे में क्या कर रहे हैं ?

यही हाल मस्जिदों के शोर का है। भारत की शायद ही कोई मस्जिद हो, जिस पर बड़ेबड़े चारछह भोंपू न लगे हों। हजारों मस्जिदें तो ऐसी हैं, जिनमें नमाज के लिए चार आदमी भी नहीं आते। शहर के मुस्लिम बहुल क्षेत्रों में जब पांच बार अजान दी जाती है, तो एक साथ सैकड़ों भोंपुओं से निकलने वाले स्वर से क्या प्रदूषण नहीं होता ? सूर्योदय की अजान से कितने बच्चे, बू़ढे और बीमारों को परेशानी होती है। गर्मियों में छत पर सोने वालों की नींद तो उस समय अनिवार्य रूप से टूटती ही है।

रमजान के समय तो हाल और बुरा रहता है। मुस्लिम बहुल मोहल्लों में सारी रात बाजार और मजलिसों का दौर चलता है। सुबह तीन बजे से ही मस्जिद के भोंपू लोगों को सहरी खाने के लिए जगाने लगते हैं। रात को दस से प्रातः छह बजे तक का प्रतिबन्ध यहां लागू नहीं होता। जब ध्वनिवर्धक यंत्र नहीं थे, क्या तब अजान, मजलिस और सहरी नहीं होती थी।

ऐसे बहुत सारे विषय हैं, जिस पर दोचार दिन नहीं, पूरे वर्ष ध्यान देना होगा। भयानक आवाज वाले डी.जे से लेकर वाहनों के कर्कश हार्न पर प्रतिबंध लगना ही चाहिए। अधिक शोर और प्रदूषण वाले पटाखे मुख्यतः विदेशों से आ रहे हैं। इन्हें शासन क्यों नहीं रोकता ? 15 अगस्त और 26 जनवरी को शासकीय स्तर पर आतिशबाजी होती है। दिल्ली में पिछले दिनों हुए खेलों में भी यही हुआ। इसका पर्यावरणवादियों ने कितना विरोध किया ?

सच तो यह है कि बालपन और युवावस्था में सब पटाखे छुड़ाते ही हैं। बचपन में इन पर्यावरणवादियों ने बड़ों के मना करने पर भी पटाखे छुड़ाए होंगे। यही आज उनके बच्चे करते हैं। विरोध से इन्हें रोकना संभव नहीं है। इसके लिए तो शासन को इनका निर्माण ही रोकना होगा; पर इसके साथ ही पर्यावरणप्रेमी सभी तरह के शोर और प्रदूषण के विरुद्ध आवाज उठाएं। अन्यथा उनका यह प्रयास पाखंड समझा जाएगा। वर्तमान स्थिति यही है और यही उनकी विफलता का कारण भी है।

Leave a Reply

1 Comment on "दीपावली और पर्यावरण"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
sunil patel
Guest
बात तो श्री विजय कुमार जी बिलकुल सही कह रहे है. पुरे सहर में दिवाली के पाठको से जितना प्रदुषण नहीं फैलता है उससे ज्यादा तो एक केमिकल फैक्ट्री एक दिन में प्रदुषण फैलाती है. बच्चे दिवाली का साल भर इन्तजार करते है की कब फटके फोड़े. पुरे सहर में दिवाली के दिन फोड़े गए फटाको से जितना प्रदुषण नहीं फैलता है जितना एक दिन में स्कूटर, मोटर गाड़ी, इंजन द्वारा एक दिन में फैलता है. यह सत्य है की पटाखों उद्योग में बच्चो पर बहुत ज्यादा जुल्म होता है, उन्हें भूखे रखकर पटाखे बनवाये जाते है जो की सरकार… Read more »
wpDiscuz