लेखक परिचय

प्रवक्ता.कॉम ब्यूरो

प्रवक्ता.कॉम ब्यूरो

Posted On by &filed under दोहे.


netajiदोहा:- जय नेता गन राजनीती के तुमको करू प्रणाम //

तुम्ही विधाता अन्यायी के करो चापलूसों का काम//

चौपायी :- जय राजनीती के नेता गण //

तुम मोहे हो निर्दयी के मन///

सब चमचो की करो भलायी //

वे चाहे जितनी करे बुरायी //

उन्हें आंच नहीं आने पाये //

तुम्हरी कुर्सी भले ही जाये //

भ्रष्टाचार में तुम आगे हो///

अवगुण कारी के धागे हो///

घपला झगड़ा तुम करवाते //

सही जनों को यूं मरवाते //

राजनीति के पके पुजारी///

तुम दोषी के करो रखवारी///

जुर्म करवाने में माहिर हो///

चोर उचक्कों में सामिल हो///

धन्य धन्य भारत के बीर //

भोली जनता पे मारो तीर///

है कुर्सी का खेल निराला //

हरदम ओढ़े रहो दुशाला///

रुपयों की तुमको भूख लगी है///

बेईमानी की प्यास जगी है///

कब तक ऐसे चलेगा काम///

चले जाओगे धुरिया धाम///

हाथ जोड़ कर नहीं बचोगे///

सब देखेगे जल्द पिसोगे //

दोहा:-   भगवन ऐसी बया चला दो //

अत्याचार हो जाये कम ///

राजनीति के बेईमानो का ///

फिर भारत में हो न जन्म//

 

शम्भूनाथ

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz