लेखक परिचय

प्रणय विक्रम सिंह

प्रणय विक्रम सिंह

लेखक श्रमजीवी पत्रकार है. सामाजिक राजनैतिक, और जनसरोकार के विषयों पर लेखन कार्य पिछले कई वर्षो से चल रहा है.

Posted On by &filed under टॉप स्टोरी.


प्रणय विक्रम सिंह

देश में हर्ष की लहर है दर्जनों हिंदुस्तानियों के हत्यारे की फांसी पर सुप्रीम कोर्ट की मुहर लग गर्इ है। देश की सर्वोच्च अदालत ने समस्त गवाहों और सबूतों की रोशनी मे कसाब को हत्या, देश के खिलाफ जंग छेडने, हत्या में सहयोग करने और आतंकी गतिविधियों को अंजाम देने के आरोप में फांसी की सजा सुनायी है। कसाब को महज एक आंतकी मानने की भूल करना स्थिति और समस्या का अति सरलीकरण है। कसाब एक प्रतीक है उस विध्वंसकारी मानसिकता का जो सृजन के विरुद्ध है। विंध्वस जिसका धर्म, अराजकता जिसका उद्देश्य और कायरता उसका आधार है। ज्यादा बड़े गुनहगार उस मानसिकता का पोषण करने वाले हैं। कसाब एक गरीब परिवार का नवयुवक है उसकी महत्वाकांक्षाओं में संपन्नता प्राप्त करना हो सकता है पर दर्जनों लोगों को बेवजह मौत के घाट उतारने की ख्वाहिश होना सम्भव नहीं लगता। तो कौन हैं वह शातिर लोग जो भटके हुए नवजवानों के बेलगाम ख्वाबों की ताबीर के लिए, उनके हाथों में हथियार थमा देते हैं। यकीनन इस सवाल के जबाब को तलाशे बगैर मुम्बर्इ हमले में शहीद हुये जवानों को दी गर्इ श्रद्धांजली पूरी नहीं होगी।

मुम्बर्इ हमले के सूत्रधार आज भी गिरफ्त से बाहर हैं और नये कसाब तैयार करने में मशगूल हैं। दीगर है कसाब की स्वीकारोक्ति किे प्राथमिक साक्ष्य मानने वाले न्यायालय ने उसके बयानों के विस्तार पर क्यो गौर नहीं किया? यदि किया भी तो दिए गये निर्णय की अवधारणा में उसका जिक्र क्यो नहीं हुआ? जिस तरीके से मुम्बर्इ में मौत बरसा रहे आंतकी गिरोह को सेटेलाइट फोन के जरिये निर्देश दिये जा रहे थे, वह व्यवस्था बगैर सता प्रतिष्ठान की सहमति के संपन्न हो नहीं सकती। अबू जिंदाल की गिरफ्तारी और उसके बयान के पश्चात अब किसी प्रकार का संदेह नही रहना चाहिए । खैर अभी भी कसाब के सामने उच्चतम न्यायालय के समक्ष पुनर्रिवचार याचिका दायर करने का विकल्प खुला हुआ है। यदि यह याचिका भी खारिज हो जाती है तो वह क्यूरिटिव पिटीशन दायर कर सकता है। महामहीम के पास दया याचिका भेजने का रास्ता भी खुला है। इन सबके पश्चात भी यदि उसे क्षमा नहीं मिलती है तो उसका फांसी पर लटकना तय है। लंबी कानूनी प्रक्रिया और संविधान प्रदत्त विकल्पों के कारण फांसी की सजा को अमली जामा कब पहनाया जाएगा, कुछ कहा नहीं जा सकता है। विडंबना है कि देश में भ्रष्टïाचार मुä व्यवस्था के लिये आंदोलन करने वाले, देश के अकूत काले धन को विदेश से वापस लाने के लिए राष्टï्रवादियों को अनशन करना पड़ता है और हत्यारे कसाब के खाने-पीने, सुरक्षा व्यवस्था आदि पर करीब करोड़ रुपये व्यय किए जाते हैं। जिस जीवन की कल्पना आम पाकिस्तानी कभी नहीं कर सकता वह विलास, ऐश्वर्य उसे भारत सरकार उपलब्ध करा रही है। शायद उससे जेहाद की राह में फना होने के बाद कुछ ऐसी ही जन्नत के सुख का वायदा किया गया होगा।

कसाब ही नहीं भारत की असिमता को तार-तार करने वाले अनेक मास्टर माइंड और ‘जेहादी सरकार-ए-हिंदुस्तान के मेहमान है। संसद पर हमले का मास्टर माइंड अफजल गुरु अब भी जेल में है। उसकी दया याचिका लंबित पड़ी है। फांसी का फंदा उसका भी इंतजार कर रहा है। मुंबर्इ सीरियल बम कांड में लगभग 100 से अधिक निर्दोष लोगों की मौत और करीब 200 से अधिक व्यक्तियों को घायल करने वाले अभी भी सुप्रीम कोर्ट की लंबी न्यायिक प्रक्रिया का लुत्फ उठा रहे हैं। यही नहंी हिंदुस्तान की प्रतिष्ठा के गौरवशाली प्रतिमान लाल किले में घुसकर सेना के तीन जाबांजो की हत्या और कुछ लोगों को घायल करने वाले लश्कर-ए-तैयबा के आतंकी मुहम्मद आरिफ की फांसी की सजा पर अभी भी सुनवार्इ हो रही है। अक्षरधाम मंदिर में इंसानी खून की होली खेलने वाले हमलावरों की फांसी उच्चतम न्यायालय के निर्णय की बाट जोह रही है। दास्तां यहीं खत्म नहीं होती है। दीपावली के अवसर पर दिल्ली के बाजारों में छार्इ खुशियों को मौत के मातम में बदलने वाले जेल में मौज कर रहे हैं। मुंबर्इ की लाइफ लाइन कही जाने वाली लोकल ट्रेन में हुए विस्फोट से मरने वाले हिंदुस्तानी नागरिकों के परिजन आज भी न्याय की आस में निराश बैठे हैं। हो सकता है कि यह सब न्यायपालिका की जटिल प्रक्रिया के कारण हो किंतु सरकार और सियासतदानों को यह समझ लेना चाहिए कि यह महज मुकदमें भर नहीं है वरन, हर हिंदुस्तानी के कलेजे में धंसा हुआ खंजर है। वह जब पीछे मुडकर देखता है तो सवा अरब के मानव संसाधन के मध्य भी स्वयं को असहाय महसूस करता है।

„’ नवंबर की वह शाम कोर्इ भारतीय नहंी भूलेगा जब पाकिस्तान से आए आतंकी गिरोह ने भारत की आर्थिक नगरी मुंबर्इ की आबोहवा में मौत का खौफ फैला दिया था। अंधाधुंध गोलियों की बौछारें हर भारतीय के जिस्म की चाक कर रही थी। मकसद बस एक था। ज्यादा से ज्यादा नागरिकों को मौत के घाट उतार कर आतंकी ताकत की दहशत को समूची आबो हवा में फैलाना। आम अवाम की कानून व्यवस्था के प्रति आस्था को तोड़ कर समूची व्यवस्था को असिथर करने की कुतिसत कर्म था कसाब का हमला। एक मायनों में यह भारतीय गणराज्य की प्रभुसत्ता को खुली चुनौती थी। एक युदघ का ऐलान था दुनिया के सबसे बड़े जम्हूरी मुल्क के खिलाफ। उनको मिल रहे सीमा पार से निर्देशों को समाचार चौनलों पर सभी ने सजीव सुना था। वह रात बड़ी खूनी थी। देश ने हेमंत करकरे जैसा जाबांज अफसर खोया, तो घटनास्थल सीएसटी स्टेशन पर कुछ यात्री ऐसे भी थे जिन्हें अपनी मंजिल तक पहुंचाना नसीब नहंी हुआ। मौत और दर्द की उस चुनौतीपूर्ण घड़ी में सारा देश एक था। टीवी पर संपूर्ण राष्ट्र ने मुंबर्इ की सडकों पर मौत बांटते इन द³क्षरंदों को देखा। ताज होटल में हो रहे धमाकों की आवाजों में देश ने शत्रु राष्ट्र भी छदम युदघ की घोषणा को सुना।

लंबी वीरतापूर्ण कार्यवाही के पश्चात स्थिति पुन: नियंत्रण में आर्इ। मुंबर्इ फिर अपनी गति में लौटी। मुंबर्इ को अपने मिजाज में चलते देख कर देश खुश था, पर उसके साथ समूचे देशवासियों की आंखें डबडबार्इ हुर्इ थी, हर पलक गीली थी, हर बांशिदें की आंखों के किनारो ने उस वä बेवफार्इ की, जब एनएसजी के शहीद कमांडो मेजर उन्नी—ष्णन और अन्य रणबांकुरे जवानों का पार्थिव शरीर तिरंगें में लिपटा हुआ भारत ही जवानी को शहादत की विरासत सौंप रहा था। कलेजा मुंह को आ रहा था। सारा देश फफक रहा था। पर वह आंसू भय के नहीं थे, न ही बेचारगी के थे। वह आंसू विश्वासघात होने के थे। अपनों को खोने के थे। वह आंसू उस चुनौती को स्वीकारने का संदेश थे जो उसे बिखेरने पर आमादा थी।

ऐसे नृशंस हत्यारे और नरसंहार की कू्रर रचना करने वाले अपराधी के प्रति क्षमा का भाव रखना भी मानवमोह है, यह बात फांसी की सजा के विरोधियों और जीवन की अमूल्यता पर विश्वास करने वाले कथित मानवाधिकार कार्यकताओं को समझ लेनी चाहिए। यूं तो मौत सबसे डरावना भाव है और मौत का इंतजार उससे भी अधिक डरावनी स्थिति। लेकिन राष्ट्र के सवा अरब लोगों की सामूहिक चेतना निर्दयी और नृशंस हत्यारे कसाब को फांसी पर तड़पता देखकर ही संतुष्ट होगी। आशा है, वह दिन शीघ्र ही आएगा।

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz