लेखक परिचय

कनिष्क कश्यप

कनिष्क कश्यप

स्वतंत्र वेब लेखक व ब्लॉगर

Posted On by &filed under टॉप स्टोरी, विविधा.


गुबार भरे राहों में
खुस्क फ़िज़ा की बाहों में
कंवल के मनिन्द
खिला तेरा चेहरा देखा

गुनचों में उलझी लटें
हवा के इशारे पर
आंखो पे झुक
पलकों मे उलझ
चेहरे पर बिखर रहीं
खाक की आंधी में
इक महज़बी देखा

बलिस्ते भर थी दूरियाँ
धड़कने करीब थीं
सांसो की महक
होठों की चमक
चांदनी के रिद्ध में
चांद को संवरते देखा
gal hair face

Leave a Reply

2 Comments on "कंवल के मनिन्द खिला तेरा चेहरा देखा"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
sada
Guest

गुनचों में उलझी लटें
हवा के इशारे पर
आंखो पे झुक
पलकों मे उलझ
चेहरे पर बिखर रहीं
खाक की आंधी में
इक महज़बी देखा
बहुत ही सुन्‍दर रचना बधाई ।

समीर लाल
Guest

बहुत बेहतरीन!!

wpDiscuz