लेखक परिचय

विपिन किशोर सिन्हा

विपिन किशोर सिन्हा

जन्मस्थान - ग्राम-बाल बंगरा, पो.-महाराज गंज, जिला-सिवान,बिहार. वर्तमान पता - लेन नं. ८सी, प्लाट नं. ७८, महामनापुरी, वाराणसी. शिक्षा - बी.टेक इन मेकेनिकल इंजीनियरिंग, काशी हिन्दू विश्वविद्यालय. व्यवसाय - अधिशासी अभियन्ता, उ.प्र.पावर कारपोरेशन लि., वाराणसी. साहित्यिक कृतियां - कहो कौन्तेय, शेष कथित रामकथा, स्मृति, क्या खोया क्या पाया (सभी उपन्यास), फ़ैसला (कहानी संग्रह), राम ने सीता परित्याग कभी किया ही नहीं (शोध पत्र), संदर्भ, अमराई एवं अभिव्यक्ति (कविता संग्रह)

Posted On by &filed under जन-जागरण.


flood      आज का समाचार है कि कश्मीर में चार लाख लोग अभी भी बाढ़ में फ़ंसे हैं। राहत कार्य में सेना के एक लाख जवान जुटे हैं। ६० हजार लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया।

कश्मीर में अपनी जान को जोखिम में डालकर बाढ़ पीड़ितों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचानेवाले सेना के ये वही जवान हैं जिन्हें वहां के राजनेता, फ़िरकापरस्त और कट्टरपन्थी कल तक काफ़िर कहकर संबोधित करते थे। ज़िहादी उनके खून के प्यासे थे। वही सेना के जवान आज देवदूत बनकर कश्मीरियों की रक्षा के लिये अपनी जान की बाज़ी लगा रहे हैं। पिछले आम चुनाव में फ़ारुख अब्दुल्ला ने सार्वजनिक बयान दिया था कि नरेन्द्र मोदी और उनको वोट देने वालों को समुन्दर में फ़ेंक देना चाहिये। उसी नरेन्द्र मोदी ने कश्मीरियों के लिये केन्द्र का खज़ाना खोल दिया है। बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिये न तो हिज़्बुल मुज़ाहिदिन आगे आया और न तालिबान। न आई.एस.आई.एस. ने पहल की न अल-कायदा ने। न आज़म खां आगे बढ़े, न ओवैसी। उनकी मदद की है तथाकथित सांप्रदायिक सेना ने, मौत का सौदागर कहे जाने वाले नरेन्द्र मोदी ने और ज़िहाद के शिकार करोड़ों काफ़िरों ने।

कश्मीर में आई बाढ़ से लाखों लोग विस्थापित हो गये हैं। अपना घर छोड़कर शरणार्थी बनने का दर्द अब उन्हें महसूस होना चाहिये। प्रकृति ने उन्हें यह अवसर प्रदान किया है। इन बाढ़ पीड़ितों को तो सिर्फ़ अपना घर छोड़ना पड़ा है लेकिन तनिक खयाल कीजिए उन हिन्दू विस्थापितों का जिन्हें कश्मीरी आतंकवादियों और अलगाववादियों ने बम-गोले और एके-४७ की मदद से जबरन घाटी से निकाल दिया था। किसी ने अपनी जवान बेटी खोई, तो किसी ने अपनी बहू। किसी ने अपना पिता खोया, किसी ने बेटा। न फ़ारुख की आंख से आंसू का एक बूंद टपका न उमर का दिल पसीजा। न सोनिया ने एक शब्द कहा, न राहुल ने बांहें चढ़ाई। इसके उलट ओवैसी के हैदराबाद और आज़म के रामपुर में मिठाइयां बांटी गईं।

यह वक्त है स्थिर चित्त से चिन्तन करने का। क्या धारा ३७० की उपयोगिता अभी भी है?

Leave a Reply

4 Comments on "फ़िरकापरस्त और कश्मीर की बाढ़"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
कौशलेन्द्रम
Guest

सब ऊपर वाले की व्यवस्था है । हम उम्मीद करते हैं कि मुसलमान इस आपदा से कुछ सीखेंगे ।

mahendra gupta
Guest
कोई विकल्प नहीं ,उन्हें आज भी वे लश्कर, तालिबान, और ओवेशी पसंद हैं,यदि राज्य सरकार से नाराजगी थी तो सहायता के लिए भरे सामन के ट्रकों पर व हेलीकॉप्टरों पत्थर फेंकने की क्या जरुरत थी?अलगाववादी तो अब घरों में छिपे पड़े हैं, पाकिस्तान , आई एस आई क्यों नहीं मदद के लिए आगे आई? बेवकूफ हाफिज प्रकृति के इस प्रकोप को भारत की साजिश बता रहा है,उमर खिसकती राजनीतिक ज़मीं को बचाने अब खाने के पैकेट अपने हाथ से बाँट रहें हैं , पर इतनी सहायता के बाद उनके फूटे मुहं से एक शब्द भी केंद्र के लिए नहीं निकला… Read more »
इक़बाल हिंदुस्तानी
Guest
सेना कभी फिरकापरस्त नहीं रही हमारी। चुनाव से पहले मोदी जी को चाहे जो कहा गया हो लेकिन आज वो देश के PM हैं। उन्होंने संविधान की शपथ ली है। सारा देश उनके लिए एक जैसा है। कश्मीर भी देश का एक हिस्सा है। मोदी ने कश्मीर की बाढ़ को राष्ट्रीय आपदा घोषित कर 1000 करोड़ की तत्काल मदद और फ़ौज को राहत के काम में लगाकर अपना फर्ज़ अदा किया है। इससे कश्मीर के अलगाव वादियों को एक सबक दिया गया है वे सीखें या न सीखें। लेखक की इस बात में डी दम है कि विस्थापन क्या होता… Read more »
Dr Ranjeet Singh
Guest

चाहे जो भी हो जाय और कुछ भी हम कर दें; कश्मीरी मुसल्मान तो कश्मीरी मुसल्मान ही है, रहने वाला है और रहेगा। उसमें कुछ भी परिवर्तन आने वाला नहीं है। चाहे अर्बों रुपये और पम्प कर दिये जायँ, और भी लाखों सैनिक इनकी रक्षा करते करते अपने जीवन की आहुति दे दें; ये लोग तो वैसे के वैसे ही रहने वाले हैं। अभी भी पत्थर फेंकते दिखेंगे, फेंकते रहेंगे और चुन चुन कर​ गालियाँ उगलते रहेंगे।

डा० रणजीत सिंह​

wpDiscuz