लेखक परिचय

कुलदीप प्रजापति

कुलदीप प्रजापति

कुलदीप प्रजापति जन्म 10 दिसंबर 1992 , राजस्थान के कोटा जिले में धाकड़खेड़ी गॉव में हुआ | वर्ष 2011 चार्टेड अकाउंटेंट की सी.पी.टी. परीक्षा उत्तीर्ण की और अब हिंदी साहित्य मैं रूचि के चलते हिंदी विभाग हैदराबाद विश्वविद्याल में समाकलित स्नात्तकोत्तर अध्ययनरत हैं |

Posted On by &filed under कविता.


भूल गया हूँ गाॉवं को,

बड़े शहर की चकाचोंध में,

रखकर अपने पॉवं को ,

शायद अब कुछ याद नहीं ,

भूल गया हूँ गाॉवं को,

 

ए.सी. की हेर शीतलहर में

पेड़ घाना कहाँ दीखता हैं ,

ज्वर, बाजार ,मक्का नहीं

यंहा बर्गर- पिज्जा बिकता हैं ,

मिटटी के घर भूल गया

सब और बड़ी ईमारत हैं ,

शहर मेरे इस जीवन की

लिखता नई इबारत हैं ,

गम में भी हंसकर  कह जाता

अपने मन के भाओं को ,

शायद अब कुछ याद नहीं ,

भूल गया हूँ गाॉवं को,

 

धुंधली हैं तस्वीरें सारी

जो खेल घर आँगन में ,

यँहा कोई वो पेड़ नहीं

तोड़े थे फल जिन बागान मे,

दफ्फ़तर की केर भाग दौड़

थका हुआ घर आता हूँ ,

कल कलऔर कल की चिंता में

फिर जल्दी सो जाता हूँ

जो मेरे खुद के काटे

सींच रहा उन घावों को,

शायद अब कुछ याद नहीं ,

भूल गया हूँ गाॉवं को,

 

पक्की सड़को का जल यँहा

कच्ची गालियाँ सब धूल हुई,

घर आँगन सब छोड़ दिया

सोचा फिर भी क्या भूल हुई ,

नदियाँ, झरने, तालाब नहीं

पानी पैसे से बिकता हैं,

जिससे हैं पहचान हुमारी

वो अंजना लगता हैं ,

माँ की ममता को ना समझा

ना समझा पिता के भावो को,

शायद अब कुछ याद नहीं ,

भूल गया हूँ गाॉवं को,

 

 

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz