लेखक परिचय

अमित शर्मा (CA)

अमित शर्मा (CA)

पेशे से चार्टर्ड अकाउंटेंट और कंपनी सेक्रेटरी। वर्तमान में एक जर्मन एमएनसी में कार्यरत। व्यंग लिखने का शौक.....

Posted On by &filed under व्यंग्य.


हर इंसान जीवन में प्रसिद्ध होना चाहता, नाम कमाना चाहता है। नेता लोग भले ही “आम आदमी” की टोपी पहने हुए लोगो को टोपी पहनाए लेकिन आम आदमी हमेशा से आम ना रहकर, खास बनना और दिखना चाहता है और खास दिखने की ये आस सदियो से चली आ रही है क्योंकि इंसान का अहम हमेशा उसे वहम में रखता है कि उसका जन्म नहीं बल्कि अवतार हुआ और कुछ साधारण कर जीवन व्यर्थ करने का कोई अर्थ नहीं है।

पहले लोग नाम और दाम दोनों एक साथ कमाते थे। ऐसा लगता था मानो दोनो जुड़वाँ भाई हो क्योंकि जहाँ पैसा वहाँ प्रसिद्धी और जहाँ प्रसिद्धी वहाँ पैसा। लेकिन समय ने “स्लीप वेल” के मैट्रेस पर करवट ली , नाम और दाम दोनों जुड़वाँ भाई अब अपनी स्वतंत्र पहचान बनाकर, एक दूसरे पर निर्भरता समाप्त कर, अपना अलग-अलग कारोबार शुरू कर चुके है। अगर आप किस्मत के धनी है तो प्रसिद्धी को खरीद भी सकते है, खरीदी हुई वस्तु अधिक प्यारी और मूल्यवान लगती है बनिस्पत मेहनत से अर्जित की हुई वस्तु के ,क्योंकि काम बोले या ना बोले पैसा ज़रूर बोलता है।

सिद्ध के बदले प्रसिद्ध होने की माँग मार्किट में ज़्यादा है क्योंकि सिद्ध होने के लिए तप की ज़रूरत होती है और इसमें समय भी अधिक लगता है जबकि प्रसिद्ध होने के लिए ट्रिक चाहिए होती है और समय भी “औकातानुसार” ही लगता है। माँग-आपूर्ति का यूनिवर्सल रूल जीवन के हर क्षेत्र में लागू होता है। जब माँग विकराल रूप धारण कर ले तो उसकी आपूर्ति के लिए उसी अनुपात में संसाधन जुटाना ज़रूरी हो जाता है वरना माँग-आपूर्ति का गैप किसी भी ऐप से पूरा करना मुश्किल हो जाता है। सोशल मीडिया ने सूचना के क्षेत्र में क्रांति का आगाज़ तो किया ही है, साथ ही साथ प्रसिद्धी की माँग को पूरा करने के लिए एक महत्वपूर्ण “आपूर्ति स्त्रोत” की भूमिका भी निभाई है।

फेसबुक हो चाहे ट्विटर दोनों माध्यमो ने प्रसिद्धि कोे उतनी ही आसानी से उपलब्ध कराया है जितनी आसानी से प्रधानमंत्री जी मन की बात उपलब्ध करवाते है। आम आदमी जिसे अपनी सोसाइटी का चौकीदार भी होली-दीवाली की बक्शीश लेने के अलावा नहीं पहचानता वो भी फेसबुक और ट्विटर पर रोज़ लाखो फॉलोवर्स की सेना लेकर, उन पर हज़ारो लाइक/कमेंट/शेयर्स का गोला-बारूद लादकर क्रांति का शंखनाद करता है। जिन लोगो के आचरण को उनके घर में कोई फॉलो नहीं करता है वो ट्विटर पर प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री से फॉलो-बैक ले लेते है। जो लोग अपनी मर्ज़ी से घर पर रिमोट का कवर नहीं चुन पाते वो भी फेसबुक और ट्विटर पर अपने पसंद के मंत्री/मुख्यमंत्री चुनकर अपने फॉलोवर्स के दम पर उनके पक्ष में अभियान चलाते है।

वास्तविक दुनिया की तरह ही सोशल मीडिया के सेलेब्रिटीज के भी फैन होते है जो केवल ” चल बाज़ू हट, हवा आने दे” कहने के काम आते है। वास्तविक जीवन के सेलिब्रिटीज अपने प्रशंसको को ऑटोग्राफ दे कर उनके साथ फ़ोटो खिंचवाकर उनको खुश करते है जबकि सोशल मिडिया के सेलिब्रिटीज कुछ ज़्यादा व्यस्त रहने के कारण कभी कभी फेसबुक लाइव आकर या अपनी पोस्ट पर प्रशंसको के कमेंट लाइक करके उन्हें धन्य कर देते है।

सोशल मीडिया के सेलिब्रिटीज समय समय पर शक्ति प्रदर्शन भी करते रहते है ताकि बाकि लोगो को अपनी ताकत का अहसास करवाते रहे और ये शक्ति प्रदर्शन अपनी पोस्ट्स पर अधिकाधिक लाइक/कमेंट/शेयर्स का आह्वान करके किया जाता है। लाइक/कमेंट/शेयर्स वो सीढ़ी है जिस पर चढ़कर आम इंसान प्रसिद्धी की ऊँचाईयो को प्राप्त करता है और इसके लिए बीबी से छिपकर कई जीबी डेटा की आहुति देनी होती है। आपको बस किसी पार्टी या विचारधारा का झंडा उठाना होता है उसके बाद आपकी पोस्ट्स या ट्वीट्स लाइक अपने आप उठा लेती है।

ऐसे सभी प्रसिद्ध व्यक्ति जब सोशल मीडिया पर लॉग-इन करते है तो मन ही मन ऐसी फ़ीलिंग लाते है मानो कुछ ही क्षणों में प्रशंसको की भीड़ आकर इन्हें घेर लेगी और वो हाथ हिलाकर उनका अभिवादन करेंगे। ये सेलिब्रिटी वाली फ़ीलिंग इतनी जीवट होती है कि गलती से भी कभी इन्हें लॉग-आउट करने की फ़ीलिंग आ जाए तो सिहर उठते है। अगर कभी नेटवर्क प्रॉब्लम की वजह से इंटरनेट काम करना बंद कर दे तो ऑक्सीजन की कमी से इनके मुँह से झाग निकलने लगते है।

प्रसिद्धी की इतनी सहज उपलब्धता ने कई लोगो को असहज बना दिया है । प्रसिद्ध लोग जब अपनी 1000-2000 लाइक वाली किसी पोस्ट पर किसी कमेंट का रिप्लाई करते है तो अपने शब्दों से ऐसा आभामंडल रचते है मानो कमेंट नहीं कर लाखो लोगो की सभा को संबोधित कर रहे हो। हालाँकि अपनी हर पोस्ट पर 1K/2K लाइक लेने वाले इन सेलिब्रिटीज के सारे पोस्ट्स चोरी “के” होते है।

ये लोग सारा दिन फेसबुक/ट्वीटर पर ही विचरण करते है लेकिन तब तक किसी मुद्दे का संज्ञान नहीं लेते है जब तक इनके फॉलोवर्स इनको 40-50 पोस्ट्स/ट्वीट्स में इनको मेंशन/टैग करके इनके लिए ध्यानाकर्षण प्रस्ताव ना लाए।

सोशल मीडिया के इन सारे प्रसिद्ध लोगो का एक पर्यायवाची “पब्लिक फिगर” भी है। जिस गति से फेसबुक पर पब्लिक फिगर वाले पेज बन रहे है उसे देखकर लगता है की 2019 तक केवल केजरीवाल ही आम आदमी बचेंगे। आम आदमी की इतनी किल्लत होने से आम आदमी होने की ज़िल्लत अपने आप अपना अस्तित्व खो देगी।

इन पब्लिक फिगर्स को देखकर ये भी पता चलता है की पिछले कुछ समय में परिवहन के क्षेत्र काफी प्रगति हुई है क्योंकि अब आम आदमी एक सामान्य प्रोफाइल से पब्लिक फिगर बनने की दूरी द्रुत गति से तय कर लेता है।

सोशल मीडिया के आभासी जीवन ने लोगो को लोकप्रियता पाने का वैकल्पिक रास्ता दिखाया है लेकिन ये रास्ता कितने पड़ाव पार कर किस मंज़िल की और जाता है इस पर कोई भी सवाल पूछने पर सेलिब्रिटी लोग अभी कांग्रेस पार्टी की तरह ही “क्लूलेस” नज़र आते है।

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz