लेखक परिचय

इक़बाल हिंदुस्तानी

इक़बाल हिंदुस्तानी

लेखक 13 वर्षों से हिंदी पाक्षिक पब्लिक ऑब्ज़र्वर का संपादन और प्रकाशन कर रहे हैं। दैनिक बिजनौर टाइम्स ग्रुप में तीन साल संपादन कर चुके हैं। विभिन्न पत्र पत्रिकाओं में अब तक 1000 से अधिक रचनाओं का प्रकाशन हो चुका है। आकाशवाणी नजीबाबाद पर एक दशक से अधिक अस्थायी कम्पेयर और एनाउंसर रह चुके हैं। रेडियो जर्मनी की हिंदी सेवा में इराक युद्ध पर भारत के युवा पत्रकार के रूप में 15 मिनट के विशेष कार्यक्रम में शामिल हो चुके हैं। प्रदेश के सर्वश्रेष्ठ लेखक के रूप में जानेमाने हिंदी साहित्यकार जैनेन्द्र कुमार जी द्वारा सम्मानित हो चुके हैं। हिंदी ग़ज़लकार के रूप में दुष्यंत त्यागी एवार्ड से सम्मानित किये जा चुके हैं। स्थानीय नगरपालिका और विधानसभा चुनाव में 1991 से मतगणना पूर्व चुनावी सर्वे और संभावित परिणाम सटीक साबित होते रहे हैं। साम्प्रदायिक सद्भाव और एकता के लिये होली मिलन और ईद मिलन का 1992 से संयोजन और सफल संचालन कर रहे हैं। मोबाइल न. 09412117990

Posted On by &filed under गजल.


भेंट मज़दूरों की क्यों लेती बताओ चिमनियां…..

आये दिन गिरने लगीं जब गुलशनों में बिजलियां,

अब संभलकर उड़ रही हैं गुलशनों में तितलियां।

 

उनके कपड़ों की नुमाइश का सबब बनती हैं जो,

मुफलिसों की जान ले लेती हैं वो ही सर्दियां।

 

रहबरी जज़्बात की काबू रखो ये जुर्म है,

राख़ में तब्दील हो जाती हैं पल में बसितयां।

 

इस बदलते दौर में तुम भी बदलना सीख लो,

जुल्म ढाओगे तो इक दिन जल जायेंगी वर्दियां।

 

शीत लू बरखा के डर से हर रितु में बंद हैं,

सोचता हूं क्यों मकानों में लगी हैं खिड़कियां।

 

मौत भी छोटे बड़े में गर फ़र्क करती नहीं,

भेंट मज़दूरों की क्यों लेती बताओ चिमनियां।

 

हर कोर्इ अपने सुखों में है यहां खोया हुआ,

जश्न में दब जाती हंै अब तो पड़ौसी सिसकियां।

 

महनती क़ाबिल अदब में भी किसी से कम नहीं,

फिर भी कोर्इ बोझ समझे तो करें क्यां लड़कियां।

Leave a Reply

1 Comment on "गजल-आये दिन गिरने लगीं जब….-इकबाल हिंदुस्तानी"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
GGShaikh
Guest

ग़ज़ल पसंद आई इकबाल जी, पर ख़ास यहाँ
नीचे दी हुई पंक्तिया…

शीत लू बरखा के डर से हर रितु में बंद हैं,
सोचता हूं क्यों मकानों में लगी हैं खिड़कियां

वाह ! बढ़िया…खिड़कियां अगर बंद ही रखनी थी हर मोसम में, तो घर में क्यों लगाई खिड़कियाँ…?
सिकुड़-सिकुड़ कर जीना भी इसे ही कहें…

wpDiscuz