लेखक परिचय

राघवेन्द्र कुमार 'राघव'

राघवेन्द्र कुमार 'राघव'

शिक्षा - बी. एससी. एल. एल. बी. (कानपुर विश्वविद्यालय) अध्ययनरत परास्नातक प्रसारण पत्रकारिता (माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय जनसंचार एवं पत्रकारिता विश्वविद्यालय) २००९ से २०११ तक मासिक पत्रिका ''थिंकिंग मैटर'' का संपादन विभिन्न पत्र/पत्रिकाओं में २००४ से लेखन सामाजिक कार्यकर्ता के रूप में २००४ में 'अखिल भारतीय मानवाधिकार संघ' के साथ कार्य, २००६ में ''ह्यूमन वेलफेयर सोसाइटी'' का गठन , अध्यक्ष के रूप में ६ वर्षों से कार्य कर रहा हूँ , पर्यावरण की दृष्टि से ''सई नदी'' पर २०१० से कार्य रहा हूँ, भ्रष्टाचार अन्वेषण उन्मूलन परिषद् के साथ नक़ल , दहेज़ ,नशाखोरी के खिलाफ कई आन्दोलन , कवि के रूप में पहचान |

Posted On by &filed under कविता.


jalaianwala राघवेन्द्र कुमार “राघव”
सोलह सौ पचास गोलियां चली हमारे सीने पर ,
पैरों में बेड़ी डाल बंदिशें लगीं हमारे जीने पर |
रक्त पात करुणाक्रंदन बस चारों ओर यही था ,
पत्नी के कंधे लाश पति की जड़ चेतन में मातम था |
इंक़लाब का ऊँचा स्वर इस पर भी यारों दबा नहीं ,
भारत माँ का जयकारा बंदूकों से डरा नहीं |
लाशें बच्चे बूढ़ों की टूटे फूलों सी बिखरी थीं ,
आज़ादी की बलिवेदी पर शोणित बूँदें उभरी थीं |
ललकार बन गयी चीत्कार गुलजार जगह शमशान हो गयी ,
तारीख बदलती रही मगर वो घड़ी वहीं पर ठहर गयी |
धूल धूसरित धरा खून में अंगारों सी दहक रही थी ,
कतरा-कतरा शोला था क्रांति शिखाएं निकल रही थी |
इसी धूल से भगत सिंह सा बलिदानी उत्पन्न हुआ ,
उधमसिंह से क्रांति दूत ने सारी दुनियां को सन्न किया |
अमृतसर की आग हिन्द में धीरे धीरे फैली थी ,
माँ भारती की हथकड़ी इसी आग में पिघली थी |
भारत आज़ाद हो गया था अपना आकाश हो गया था ,
इंक़लाब का शोर कागजों में ही दबा रह गया था |
बलिदानों की प्रथा तिरंगे झंडे में लिपटी रह गयी ,
माँ भारती बेज़ार थी बेज़ार ही वो रह गयी ||

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz