लेखक परिचय

शिवानंद द्विवेदी

शिवानंद द्विवेदी "सहर"

मूलत: सजाव, जिला - देवरिया (उत्तर प्रदेश) के रहनेवाले। गोरखपुर विश्वविद्यालय से राजनीति शास्त्र विषय में परास्नातक की शिक्षा प्राप्‍त की। वर्तमान में देश के तमाम प्रतिष्ठित एवं राष्ट्रीय पत्र-पत्रिकाओं में सम्पादकीय पृष्ठों के लिए समसामयिक एवं वैचारिक लेखन। राष्ट्रवादी रुझान की स्वतंत्र पत्रकारिता में सक्रिय एवं विभिन्न विषयों पर नया मीडिया पर नियमित लेखन। इनसे saharkavi111@gmail.com एवं 09716248802 पर संपर्क किया जा सकता है।

Posted On by &filed under राजनीति.


एक लाख पोस्टकार्ड प्रधानमंत्री को भेजने की अपील

विगत चौदह फरवरी को दिल्ली के आई .टी .ओ स्थित राजेन्द्र भवन में जय भोजपुरी मिलन समारोह का आयोजन किया गया। समारोह में एक सोशल भोजपुरी वेबसाइट के सदस्यों ने भाग लिया। समारोह की शुरुआत सदस्यों के आपसी मेल-जोल एवं परिचय आदान -प्रदान से हुई। कार्यक्रम को आगे बढाते हुए जय भोजपुरी के सक्रिय सदस्य श्री सुधीर कुमार ने राज ठाकरे एवं बाल ठाकरे द्वारा जारी राष्ट्र विरोधी कुकृत्यों के सार्वभौमिक विरोध से की। समारोह को संबोधित करते हुए सुधीर कुमार ने कहा कि अब वो समय आ गया है जब आम जनता को इन राष्ट्रविरोधी तत्वों के खिलाफ आवाज बुलंद करनी चाहिए। इसी क्रम में सुधीर कुमार ने यह भी कहा कि हमारा प्रथम लक्ष्य तीन माह के अन्दर लगभग एक लाख विरोध पत्र प्रधानमंत्री महोदय तक प्रेषित करना है। इस अभियान में आम जनसमुदाय का सहयोग अनिवार्य एवं अपेक्षित है। समारोह की अध्यक्षता कर रहे सत्येन्द्र जी ने भी सहयोग की अपील की।

कार्यक्रम का प्रथम चरण समाप्त होते ही श्री मोंटू सिंह जी ने सबको लिट्टी चोखा खाने के लिए निमंत्रित किया। कार्यक्रम के दूसरे चरण की शुरुआत विरोध पत्र लेखन से हुई, जिसमे कार्यक्रम में उपस्थित सभी सदस्यों ने ठाकरे परिवार के प्रति प्रधानमंत्री को पत्र लिख कर अपना विरोध प्रदर्शित किया। इसी कड़ी में तमाम सदस्यों ने अपने सुझाव एवं विचार व्यक्त किये।

समारोह का अंतिम चरण भोजपुरी संगीत के उभरते कलाकारों के गीत संगीत के नाम रहा। इस क्रम में नवोदित भोजपुरी गायक पंकज प्रवीण के आगामी एल्बम “चाहत में सनम” के बारे में सूचित किया गया। साथ ही भोजपुरी गायिका भानुश्री ने अपनी एल्बम “ए डार्लिंग” की एक एक सी.डी सबको भेंट की। कार्यक्रम के अंतिम संबोधन में सभी ने विरोध पत्र के लिए आम जन समुदाय को प्रेरित करने का संकल्प लिया। आप सभी पाठको से अनुरोध है की इस राष्ट्रहित में जारी विरोध अभियान में हिस्सा लेते हुए इस अभियान को सफल बनाए।

अगर आप खुद ही पत्र लिख कर पोस्ट करना चाहते हैं तो अपना सन्देश लिख कर (किसी भी भाषा में) उक्त पते पर भेंजे।

प्रधानमंत्री कार्यालय

साउथ ब्लाक , रायसिना हिल्स

नई दिल्ली 110101

अगर आप स्वयं पत्र लिख पाने में असमर्थ हैं तो कृपया अपना नाम , पूरा पता उक्त मेल आई डी(kumar@bhojpuria.com) पर अपने सन्देश के साथ मेल करें। और ज्यादा जानकारी के लिए सीधा संपर्क करें –9716248802

-शिवा नन्द द्विवेदी “सहर”

Leave a Reply

19 Comments on "जय भोजपुरी मिलन समारोह में बजा ठाकरे परिवार के खिलाफ बिगुल"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
पियूष द्विवेदी 'भारत'
Guest

जी सत्यप्रकाश जी अगर उन लोगों को हमसे पब्लिसिटी मिल रही है तो अच्छी बात है ! एक दिन ऐसा आयेगा की यही लोग सडकों पर उतर कर जूते मारेंगे उनके मुह पर उस दिन और पब्लिसिटी मिलेगी ! और वो पब्लिसिटी वो संभाल भी नहीं पायेंगे !

Satya Prakash
Guest

Thoughts are really good. But don’t you think that this campaing is giving these elements the thing they want most ie. the free publicity?

amulyaa ratana daas
Guest
MARATHI MANOOS This is a wonderful mail circulating in favor of RAJ Thackeray. Do have a look…. We all should support Raj Thackeray and take his initiative ahead by doing more… 1. We should teach our kids that if he is second in class,don’t study harder.. just beat up the student coming first and throw him out of the school 2. Parliament should have only Delhiites as it is located in Delhi 3. Prime-minister, president and all other leaders should only be from Delhi 4. No Hindi movie should be made in Bombay. Only Marathi. 5. At every state border,… Read more »
शिवानंद द्विवेदी
Guest
शिवा नन्द द्विवेदी “सहर

सादर धन्यवाद बहस को जारी रखिये …….इसी पूरा देश खडा हो न जाए तब तक ……………

naveen kumaar "bhojpuria"
Guest
naveen kumaar "bhojpuria"
अगर हमको देश्भक्ति की परिभाषा राज ठाकरे और बाला साहेब ठाकरे से सीखनी पडे तो यह अपमान य उन शहीदो को जिन लोगो ने कभी देश के लिये अपनी जान की बाजी न्योछावर कर दी । क्या हम ये भुल गये की गुजरात मे जन्म लिया हुवा एक इंसान बिहार के चम्पारण से आजादी का बिगुल बजाया था ? क्या कभी चन्द्रशेखर आजाद , भगत सिंह , राजगुरु , सुखदेव यह सोच कर अंग्रेजो के खिलाफ लडे की यह पंजाब है ,यह उत्तर प्रदेश है , यह महाराष्ट्र है ? क्या हम भुल गये है कि सरदार पटेल जिसने भारत… Read more »
wpDiscuz