लेखक परिचय

सत्येन्द्र गुप्ता

सत्येन्द्र गुप्ता

M-09837024900 विगत ३० वर्षों से बिजनौर में रह रहे हैं और वहीं से खांडसारी चला रहे हैं

Posted On by &filed under गजल, साहित्‍य.


man vsकिसी को उस ने कबीरा बना दिया
किसी को कृष्ण की मीरा बना दिया !
उसकी रहमतों का मै जिक्र क्या करूं
मैं कांच का टुकड़ा था हीरा बना दिया !
किसी को खुशियों की सौगात दे दी
किसी को दर्द का जज़ीरा बना दिया !
धूप और बारिश की दरकार जब हुई
आसमा को इनका ज़खीरा बना दिया !
सुलगती रह गई चरागों में हसरतें
सितारों को उस ने जंजीरा बना दिया !
समझ में नहीं आई कारीगरी उस की
धनवान किसी को फकीरा बना दिया !

Leave a Reply

1 Comment on "किसी को उस ने कबीरा बना दिया"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
​शिवेंद्र मोहन सिंह
Guest
​शिवेंद्र मोहन सिंह

गुप्ता जी महिमा कर रहे हैं या आरोप लगा रहे हैं उस पर? “कर्म का सिद्धांत” और कर्म फल की प्राप्ति का अद्ध्ययन जरूर कीजिये।

wpDiscuz