लेखक परिचय

प्रवक्‍ता ब्यूरो

प्रवक्‍ता ब्यूरो

Posted On by &filed under हिंद स्‍वराज.


hind swarajjहमें इस बात का अंदाजा नहीं था कि ‘हिंद स्‍वराज की प्रासंगिकता’ को लेकर प्रवक्‍ता डॉट कॉम द्वारा चलाए जा रहे इस अभियान को ऐसा अभूतपूर्व प्रतिसाद मिलेगा। हम अभिभूत हैं। सच में राम के बाद गांधी ही इस देश को जोडने वाली प्रमुख कडी बन गए हैं। जैसा कि हमने आपको बताया था उसी अनुसार इस अभियान के प्रथम चरण में हम कई भागों में ‘हिंद स्‍वराज’ का मूल पाठ प्रकाशित करेंगे। उसके पश्‍चात् प्रमुख चिंतकों के लेख व साक्षात्‍कार प्रकाशित करेंगे। इस कार्य में हम दुगुने उत्‍साह के साथ जुट गए हैं। महात्मा गांधी ने 1909 में दक्षिण अफ्रीका की यात्रा के दौरान ‘हिंद स्वराज’ लिखा था। इसमें गांधीजी ने रोचक शैली में पाठकों के सवालों के जवाब एक संपादक की तरह दिए। हम यहां नवजीवन ट्रस्‍ट द्वारा प्रकाशित इस महत्‍वपूर्ण कृति का पहला पाठ प्रकाशित कर रहे हैं। आशा है आप सबका रचनात्‍मक सहयोग ‘प्रवक्‍ता’ को अवश्‍य प्राप्‍त होगा-संपादक।

हिंद स्वराज : कांग्रेस और उसके कर्ता-धर्ता

पाठक: आजकल हिन्दुस्तान में स्वराज्य की हवा चल रही है। सब हिन्दुस्तानी आजाद होने के लिए तरस रहे हैं। दक्षिण अफ्रीका में भी वही जोश दिखाई दे रहा है। हिन्दुस्तानियों में अपने हक पाने की बड़ी हिम्मत आई हुई मालूम होती है। इस बारे में क्या आप अपने खयाल बतायेंगे?

संपादक: आपने सवाल ठीक पूछा है। लेकिन इसका जवाब देना आसान बात नहीं है। अखबार का एक काम तो है लोगों की भावनायें जानना और उन्हें जाहिर करना। दूसरा काम है लोगों में अमुक जरूरी भावनायें पैदा करना और तीसरा काम है लोगों में दोष हों तो चाहे जितनी मुसीबतें आने पर भी बेधड़क होकर उन्हें दिखाना। आपके सवाल का जवाब देने में ये तीनों काम साथ-साथ आ जाते हैं। लोगों की भावनायें कुछ हद तक बतानी होंगी, न हों वैसी भावनायें, उनमें पैदा करने की कोशिश करनी होगी और उनके दोषों की निंदा भी करनी होगी। फिर भी आपने सवाल किया है, इसलिए उसका जवाब देना मेरा फर्ज मालूम होता है।

पाठक: क्या स्वराज्य की भावना हिन्द में पैदा हुई, आप देखते हैं?

संपादक: वह तो जब से नेशनल कांग्रेस कायम हुई तभी से देखने में आई है। नेशनल शब्द का अर्थ ही वह विचार जाहिर करता है।

पाठक: यह तो आपने ठीक नहीं कहा। नौजवान हिन्दुस्तानी आज कांग्रेस की परवाह ही नहीं करते। वे तो उसे अंग्रेजों का राज्य निभाने का साधन मानते हैं।

संपादक: नौजवानों का ऐसा खयाल ठीक नहीं है। हिन्द के दादा ‘दादाभाई नौरोजी’ ने जमीन तैयार नहीं की होती तो नौजवान आज जो बातें कर रहे हैं वह भी कर पाते। मि. हयूम ने जो लेख लिखे, जो फटकारें हमें सुनाई जिस जोश से हमें जगाया उसे कैसे भुलाया जाय? सर विलियम वेडरबर्न ने कांग्रेस का मकसद हासिल करने के लिए अपना तन-मन और धन सब दे दिया था। उन्होंने अंग्रेजी राज्य के बारे में जो लेख लिखे हैं वे आज भी पढ़ने लायक हैं।

प्रोफेसर गोखले ने जनता को तैयार करने के लिए भिखारी के जैसी हालत में रहकर अपने बीस साल दिये हैं। आज भी वे गरीबी में रहते हैं। मरहूम जस्टिम बदरूद्दीन ने भी कांग्रेस के जरिये स्वराज्य का बीज बोया था। यों बंगाल, मद्रास, पंजाब वगैरा में कांग्रेस का और हिन्द का भला चाहने वाले कई हिन्दुस्तानी और अंग्रेज लोग हो गये हैं, यह याद रखना चाहिये।

पाठक: ठहरिये, ठहरिये आप बहुत आगे बढ़ गये, मेरा सवाल कुछ है और आप जवाब कुछ और दे रहे हैं। मैं स्वराज्य की बात करता हूं और आप परराज्य की बात करते हैं। मुझे अंग्रेजों का नाम तक नहीं चाहिये और आप तो अंग्रेजों के नाम देने लगे। इस तरह तो हमारी गाड़ी राह पर आये, ऐसा नहीं दिखता। मुझे तो स्वराज्य की ही बातें अच्छे लगती हैं। दूसरी मीठी सयानी बातों से मुझे संतोष नहीं होगा।

संपादक: आप अधीर हो गये हैं। मैं अधीरपन बरदाश्त नहीं कर सकता। आप जरा सब्र करेंगे तो आपको जो चाहिये वही मिलेगा। ‘उतावली से आम नहीं पकते दाल नहीं चुरती’ यह कहावत याद रखिये। आपने मुझे रोका और आपको हिन्द पर उपकार करने वालों की बात भी सुननी अच्छी नहीं लगती, यह बताता है कि अभी आपके लिए स्वराज्य दूर है। आपके जैसे बहुत से हिन्दुस्तानी हों तो हम स्वराज्य से दूर हट कर पिछड़ जायेंगे। यह बात जरा सोचने लायक है।

पाठक: मुझे तो लगता है कि ये गोल-मोल बातें बनाकर आप मेरे सवाल का जवाब उड़ा देना चाहते हैं। आप जिन्हें हिन्दुस्तान पर उपकार करनेवाले मानते हैं, उन्हें मैं ऐसा नहीं मानता। फिर मुझे किस के उपकार की बात सुननी है, आप जिन्हें हिन्द के दादा कहते हैं उन्होंने क्या उपकार किया? वे तो कहते हैं कि अंग्रेज राजकर्ता न्याय करेंगे और उनसे हमें हिलमिल कर रहना चाहिये।

संपादक : मुझे सविनय आपसे कहना चाहिये कि उस पुरुष के बारे में आपका बेअदबी से यों बोलना हमारे लिए शरम की बात है। उनके कामों की ओर देखिये उन्होंने अपना जीवन हिन्द को अर्पण कर दिया है। उनसे यह सबक हमने सीखा कि हिन्द का खून अंग्रजों ने चूस लिया है, यह सिखाने वाले माननीय दादाभाई हैं। आज उन्हें अंग्रेजों पर भरोसा है, उससे क्या हम जवानी के जोश में एक कदम आगे रखते हैं? इससे क्या दादाभाई कम पूज्य हो जाते हैं? उससे क्या हम ज्यादा ज्ञानी हो गये?

जिस सीढ़ी से हम ऊपर चढ़े उसको लात न मारने में ही बुद्धिमानी है। अगर वह सीढ़ी निकाल दें तो सारी निसैनी गिर जाय, यह हमें याद रखना चाहिये। हम बचपन से जवानी में आते हैं। तब बचपन से नफरत नहीं करते बल्कि उन दिनों को प्यार से याद करते हैं। बरसों तक अगर मुझे कोई पढ़ाता है और उससे मेरी जानकारी जरा बढ़ जाती है तो इससे मैं अपने शिक्षक से ज्यादा ज्ञानी नहीं माना जाऊंगा। अपने शिक्षक को तो मुझे मान देना ही पडेग़ा। इसी तरह हिन्द के दादा के बारे में समझना चाहिये। उनके पीछे (सारी) हिन्दुस्तानी जनता है, यह तो हमें कहना ही पड़ेगा।

पाठक: यह आपने ठीक कहा। दादाभाई नौरोजी की इज्जत करना चाहिये। यह तो समझ सकते हैं। उन्हें और उनके जैसे दूसरे पुरुषों ने जो काम किये हैं उनके बगैर हम आज का जोश महसूस नहीं कर पाते हैं। यह बात ठीक लगती है। लेकिन यही बात प्रोफेसर गोखले साहब के बारे में हम कैसे मान सकते हैं? वे तो अंग्रेजों के बड़े भाईबंद बन कर बैठे हैं, वे तो कहते हैं कि अंग्रेजों से हमें बहुत कुछ सीखना है। अंग्रेजों की राजनीति से हम वाकिफ हो जाये, तभी स्वराज्य की बातचीत की जाय। उन साहब के भाषणें से तो मैं ऊब गया हूं।

संपादक: आप ऊब गये हैं, यह दिखता है कि आपका मिजाज उतावला है। लेकिन जो नौजवान अपने मां-बाप के ठंडे मिजाज से ऊब जाते है और वे (मां-बाप) अगर अपने साथ न दौड़ें तो गुस्सा होते हैं, वे अपने मां-बाप का अनादर करते है ऐसा हम समझते हैं। प्रोफेसर गोखले के बारे में भी ऐसा ही समझना चाहिये। क्या हुआ अगर प्रोफेसर गोखले हमारे साथ नहीं दौड़ते है? स्वराज्य भुगतने की इच्छा रखनेवाली प्रजा अपने बुजुर्गो का तिरस्कार नहीं कर सकती। अगर दूसरे की इज्जत करने की आदत हम खो बैठें, तो हम निकम्मे हो जायेंगे। जो प्रौढ़ और तजुरबेकार है, वे ही स्वराज्य भुगत सकते हैं, न कि वे-लगाम लोग। और देखिये कि जब प्रोफेसर गोखले ने हिन्दुस्तान की शिक्षा के लिए त्याग किया तब ऐसे कितने हिन्दुस्तानी थे? मैं तो खास तौर पर और हिन्दुस्तान का हित मानकर करते हैं। हिन्द के लिए अगर अपनी जान भी देनी पड़े तो वे दे देंगे, ऐसी हिन्द के लिए उनकी भक्ति है। वे जो कुछ कहते हैं वह किसी की खुशामद करने के लिए नहीं, बल्कि सही मानकर कहते हैं। इसलिए हमारे मन में उनके लिए पूज्य भाव होना चाहिये।

पाठक: तो क्या वे साहब जो कहते है उसके मुताबिक हमें भी करना चाहिये?

संपादक: मैं ऐसा कुछ नहीं कहता। अगर हम शुद्ध बुद्धि से अलग राय रखते हैं, तो उस राय के मुताबिक चलने की सलाह खुद प्रोफेसर साहब हमें देंगे। हमारा मुख्य काम तो यह है कि हम उनके कामों की निन्दा न करें, हमसे वे महान हैं ऐसा माने और यकीन रखे कि उनके मुकाबिले में हमने हिन्द के लिए कुछ भी नहीं किया है। उनके बारे में कुछ अखबार जो अशिष्टतापूर्वक लिखते हैं उसकी हमें निन्दा करनी चाहिये और प्रोफेसर गोखले जैसों को हमें स्वराज्य के स्तंभ मानना चाहिये। उनके खयाल गलत और हमारे ही सही हैं या हमारे खयालों के मुताबिक न बरतने वाले देश के दुश्मन हैं, ऐसा मान लेना बुरी-बुरी भावना है।

पाठक: आप जो कुछ कहते हैं वह अब मेरी समझ में कुछ आता है। फिर भी मुझे उसके बारे में सोचना होगा। पर मि. हयूम, सर विलियम वेडरबर्न वगैरा के बारे में आपने जो कहा उसमें तो हद हो गई।

संपादक: जो नियम हिन्दुस्तानियों के बारे में हैं, वही अंग्रेजों के बारे में समझना चाहिये। सारे के सारे अंग्रेज बुरे हैं, ऐसा तो मैं नही मानूंगा। बहुत से अंग्रेज चाहते हैं कि हिन्दुस्तान को स्वराज्य मिले। उस प्रजा में स्वार्थ ज्यादा है, यह ठीक है, लेकिन उससे हर एक अंग्रेज बुरा है, ऐसा साबित नहीं होता। जो हक न्याय चाहते हैं उन्हें सबके साथ न्याय करना होगा। सर विलियम हिन्दुस्तान का बुरा चाहनेवाले नहीं है, इतना हमारे लिए काफी है। ज्यों ज्यों हम आगे बढ़ेंगे त्यों-त्यों आप देखेंगे कि अगर हम न्याय की भावना से काम लेंगे तो हिन्दुस्तान का छुटकारा जल्दी होगा। आप यह भी देखेंगे कि अगर हम तमाम अंग्रेजों से द्वेष करेंगे, तो उससे स्वराज्य दूर ही जानेवाला है लेकिन अगर उनके साथ भी न्याय करेंगे तो स्वराज्य के लिए हमें उनकी मदद मिलेगी।

पाठक: अभी तो ये सब मुझे फिजूल की बड़ी-बड़ी बातें लगती हैं। अंग्रेजों की मदद मिले और उससे स्वराज्य मिल जाय ये तो आपने दो उलटी बातें कहीं, लेकिन इस सवाल का हल अभी मुझे नहीं चाहिये। उसमें समय बिताना बेकार है। स्वराज्य कैसे मिलेगा, यह जब आप बतायेंगे तब शायद आपके विचार मैं समझ सकूं। फिलहाल तो अंग्रेजों की मदद की आपकी बात ने मुझे शंका में डाल दिया है और आपके विचारों के खिलाफ मुझे भरमा दिया है। इसलिए यह बात आप आगे न बढ़ायें तो अच्छा हो।

संपादक: मैं अंग्रेजों की बात को बढ़ाना नहीं चाहता। आप शंका में पड़ गये, इसकी कोई फिकर नहीं मुझे। जो महत्वपूर्ण बात कहनी है, उसे पहले से ही बता देना ठीक होगा। आपकी शंका को धीरज से दूर करना मेरा फर्ज है।

पाठक: आपकी यह बात मुझे पसन्द आयी। इससे मुझे जो ठीक लगे वह बात कहने की मुझ में हिम्मत आई है। अभी मेरी एक शंका रह गई है। कांग्रेस के आरंभ से स्वराज्य की नींव पड़ी, यह कैसे कहा जा सकता है?

संपादक : देखिये कांग्रेस ने अलग अलग जगहों पर हिन्दुस्तानियों को इकट्ठा करके उनमें हम एक राष्ट्र हैं, ऐसा जोश पैदा किया। कांग्रेस पर सरकार की कड़ी नजर रहती थी। महमूल का हक प्रजा को होना चाहिये, ऐसी मांग कांग्रेस ने हमेशा की है। जैसा स्वराज्य कैनेडा में है वैसा स्वराज्य कांग्रेस ने हमेशा चाहा है। वैसा स्वराज्य मिलेगा या नहीं मिलेगा, वैसा स्वराज्य हमें चाहिये या नहीं चाहिये, उससे बढ़कर दूसरा कोई स्वराज्य है या नहीं, यह सवाल अलग है।

मुझे दिखाना तो इतना ही है कि कांग्रेस ने हिन्द को स्वराज्य का रस चखाया, इसका जस कोई और लेना चाहे तो वह ठीक न होगा और हम भी ऐसा मानें तो बेकदर ठहरेंगे। इतना ही नहीं, बल्कि जो मकसद हम हासिल करना चाहते हैं, उसमें मुसीबतें पैदा होंगी। कांग्रेस को अलग समझने और स्वराज्य के खिलाफ मानने से हम उसका उपयोग नहीं कर सकते।

जारी….

अवश्‍य पढें-

‘हिंद स्वराज की प्रासंगिकता’ को लेकर ‘प्रवक्‍ता डॉट कॉम’ पर व्‍यापक बहस की शुरुआत

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz