लेखक परिचय

मयंक चतुर्वेदी

मयंक चतुर्वेदी

मयंक चतुर्वेदी मूलत: ग्वालियर, म.प्र. में जन्में ओर वहीं से इन्होंने पत्रकारिता की विधिवत शुरूआत दैनिक जागरण से की। 11 वर्षों से पत्रकारिता में सक्रिय मयंक चतुर्वेदी ने जीवाजी विश्वविद्यालय से पत्रकारिता में डिप्लोमा करने के साथ हिन्दी साहित्य में स्नातकोत्तर, एम.फिल तथा पी-एच.डी. तक अध्ययन किया है। कुछ समय शासकीय महाविद्यालय में हिन्दी विषय के सहायक प्राध्यापक भी रहे, साथ ही सिविल सेवा की तैयारी करने वाले विद्यार्थियों को भी मार्गदर्शन प्रदान किया। राष्ट्रवादी सोच रखने वाले मयंक चतुर्वेदी पांचजन्य जैसे राष्ट्रीय साप्ताहिक, दैनिक स्वदेश से भी जुड़े हुए हैं। राष्ट्रीय मुद्दों पर लिखना ही इनकी फितरत है। सम्प्रति : मयंक चतुर्वेदी हिन्दुस्थान समाचार, बहुभाषी न्यूज एजेंसी के मध्यप्रदेश ब्यूरो प्रमुख हैं।

Posted On by &filed under प्रवक्ता न्यूज़.


भोपाल, 27 फरवरी (हि.स.)। हिन्दू कहने से किसी समाज विशेष का ही चरित्र नहीं मिलता बल्कि भारत की पहचान ही हिन्दुस्थान के नाम से विश्व में सर्वत्र है। हिन्दू एक संस्कृति है, जिसमें मत-पंथ की भिन्नता के बावजूद सभी समाहित हैं। सिंधू सभ्यता से जुडा हुआ यह शब्द सम्बोधन के स्तर पर प्रत्येक भारतीय के लिए बोला जाता है।

यह बात अनौपचारिक चर्चा में सम्पादकों से बातचीत के दौरान राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक मोहन राव भागवत ने कही। उन्होंने कहा कि हिन्दू होने के तीन आधार संघ मानता है। अपनी मातृभूमि के प्रति समर्पण, भारत की महान्-संत परम्परा और पूर्वजों के प्रति श्रृध्दाा का भाव तथा यहाँ की संस्कृति से जोडकर स्वयं को देखने की ह्ष्टि का होना। एक मातृभूमि के स्तर पर भारत के प्रत्येक नागरिक में प्राय: यह तीनों ही भाव गूढतम आर्थों में समाहित हैं। इसलिए संघ मानता है कि भारत में रहने वाले सभी हिन्दू हैं और उनकी जो परस्पर गुँथी हुई सांस्कृतिक धारा है वह हिन्दुस्थान की संस्कृति है।

वर्तमान राजनीति परिह्श्य पर उन्होंने कहा कि राजनीति में आ रहे युवाओं से आशा की जा सकती है कि वह महान् और शक्तिशाली भारत का निर्माण करेंगे उनके अनुसार आज जो राजनीति में युवा आ रहे हैं उनमें अपने देश के भिन्न हालातों से उत्पन्न कमियों को देकर क्षोभ है। वह इन्हें दूर कर सशक्त और सृह्ढ भारत का स्वप्न देखते हैं। राजनीति में आ रही युवा पीढी यह मानकर चल रही हैकि भारत के र्स्वागीण विकास के मापदण्डों के बीच राजनीति को नकारा नहीं जा सकता, बल्कि इसके बलबूते वह देश को सशक्त राष्टन् बना सकते हैं।

श्री भागवत ने हिन्दू समाज का संगठित स्वरूप क्यों ? इस पर श्री विस्तार से अपनी बात कही। उनका कहना था कि सशक्त हिन्दू समाज ही शक्तिशाली भारत का निर्माण कर सकता है क्योंकि सम्पूर्ण विश्व में भारत की पहचान हिन्दू समाज के कारण है। उनके अनुसार हिन्दूसमाज के उत्थान से ही विश्व शांति और सौहार्द की ओर बढेगा वहीं जिस वैश्विक कल्याण की भावना से ओतप्रोत इस हिन्दू समाज रचना के पीछे का ताना बना है वह भी साकार होगा। इसके अलावा सरसंघचालक श्री भागवत ने यह भी बताया कि समाज जीवन से जुडा आज कोई क्षेत्र शेष नहीं है जहाँ संघ के स्वयंसेवक सेवा कार्यों में रत न हों अर्थात समाज सेवा से जुडे प्रत्येक क्षेत्र में आज संघ के स्वयंसेवक तन समर्पित, मन समर्पित और यह जीवन समर्पित की भावना और प्रेरणा से प्रेरित होकर दिन रात कार्य में लगे हुए हैं।

Leave a Reply

1 Comment on "हिन्दू एक संस्कृति है : मोहनराव भागवत"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
RTyagi
Guest

बिलकुल सही कहा है श्री भागवत ने… हिंदुत्व ही भारत राष्ट्र की संस्कृति है.. और विदेशों में हिंदुत्व के कारन ही भारत की संस्कृति की पहचान होती ही. यह जीवन शैली विदेशियों को आकर्षित करती है और इसी से परिचित होने को वो हिंदुस्तान आते हैं… भारत दर्शन का मतलब हिंदुत्व दर्शन है. बाकि तो मुगलों द्वारा मचाई लूट की कहानी के अवशेष हैं…

wpDiscuz