लेखक परिचय

अमित शर्मा (CA)

अमित शर्मा (CA)

पेशे से चार्टर्ड अकाउंटेंट और कंपनी सेक्रेटरी। वर्तमान में एक जर्मन एमएनसी में कार्यरत। व्यंग लिखने का शौक.....

Posted On by &filed under व्यंग्य, साहित्‍य.


politiciansआजकल गर्मी  और आईपीएल के साथ साथ “सम-विषम” (ऑड-इवन) और पुतले लगाए जाने का भी मौसम हैं ताकि कलेजे से बीड़ी जला सकने वाले इस मौसम में चौके-छक्के , सुनी सड़के और अपने पंसदीदा पुतले देखकर आपकी रूह को बिना “रूह -अफजा” पिए ही ठंडक पहुँचे। इसी मौसम में “गतिमान एक्सप्रेस”  भी लांच  हो चुकी हैं लेकिन फिर भी सूखाग्रस्त इलाको में ट्रैन से  पानी  अपनी गति से ही पहुँच रहा हैं . सूखाग्रस्त इलाको में  पानी पहुँचाने के चक्कर में सरकार इतनी ज़्यादा व्यस्त हो गयी की सूखाग्रस्त  इलाके में सेल्फी लेती  अपनी  मंत्री की आँखों में ही पानी की सप्लाई करना भूल गई। अगर  पानी ना  पहुँचा  पाई तो  कम से कम  एक “सेल्फी स्टिक” तो  ज़रूर पहुँचानी  चाहिए थी  क्योंकि  हर कोई  तो प्रधानसेवक जी  जितना सेल्फी लेने में  कुशल नहीं  हो सकता है।  इतनी पहुँची हुई  मंत्री तक  कुछ ना पहुँच  पाना इस  (मन की ) बात  का द्योतक है की  आजकल की सरकारे महिलाओ और उनके अधिकारों के प्रति कितनी असवेंदनशील हो चुकी हैं।

इधर अतिसवदेंशील  सम -विषम वाले “फिल्म समीक्षक जी”  सीधे  ट्विटर से सूखाग्रस्त इलाको में पानी पहुँचाकर “इलाका तेरा- धमाका मेरा” करना चाहते थे लेकिन उनकी  इस  ईमानदार  और अलग तरह की राजनीती  में  हमेशा की  तरह  “4 -G ” या  “एल. जी.”  किसी ने उनका साथ नहीं दिया। इसलिए  अब “ईमानदारी”   “हम साथ -साथ हैं” कहने के बजाये “एकला चालो रे” गाते हुए  “दिल वालो की ” दिल्ली  से “जॉब रहित”   पंजाब की तरफ कूच कर चुकी हैं। जहाँ उसको सूखे की चिंता करने की ज़रूरत नहीं हैं क्योंकि वहाँ “बादल” पहले से ही उसका इंतज़ार कर रहे हैं । देश में चाहे कितना भी सूखा हो , गरीब कितना भी भूखा हो लेकिन देश की  राजधानी में  सम -विषम की सफलता की हरियाली से देश के सारे अख़बार और न्यूज़ चैनल्स विज्ञापन की  चांदी काट रहे हैं क्योंकि सोना तो अभी -अभी एक्साइज ड्यूटी कटवा कर आराम कर रहा है।

सम -विषम स्कीम  इतनी सफल हो चुकी हैं  की  बस अब तो  आसमान  से  देवताओ का इसका स्तुतिगान करके दिल्ली की सड़कों पर पुष्पवर्षा करना बाकी हैं।  कई देवता तो  सम -विषम  स्कीम की सफलता और “एयर ट्रैफिक” को देखते हुए अपना विमान भी दिल्ली की सड़कों पर चलाने का मन बना चुके हैं। दिल्ली  की सड़के अब इतनी खाली होती हैं की  सरकार चाहे वो “पुस्तक  मेला” और “ऑटो एक्सपो” भी अब प्रगति मैदान में करवाने की बजाय सड़कों पर ही करवा सकती हैं। दिल्ली सरकार की माने तो  सम -विषम स्कीम से दिल्ली में प्रदूषण इतना कम हो गया हैं की दिल्ली का हर वाशिंदा ऑक्सीजन लेने और कार्बन-डाई -ऑक्साइड छोड़ने के बजाय  ऑक्सीजन  ले रहा हैं और ऑक्सीजन  ही छोड़ रहा हैं.हालाकि दिल्ली  सरकार चाहे  तो  सम -विषम स्कीम से वायु प्रदूषण  कम करने के बाद अब थोड़ा चुप रहकर ध्वनि प्रदूषण  कम करने में भी अपना योगदान दे सकती हैं।

सम -विषम के नियम से प्रधानसेवक जी को छूट दी गयी है  ताकि वो अपनी सेवा को प्रधानता देते हुए हर दिन, हर जगह अपनी “BMW” कार में  पहुँच  कर “मेक इन इंडिया” कैंपेन  लांच कर सके और साथ साथ ही उनका पुतला भी बिना किसी “विषाद” के  “तुषाद” म्यूज़ियम तक पहुँच जाए. पुतले पहले देश चलाते थे और उनकी प्रोग्रामिंग इस तरह की थी की  आपतकालीन परिस्थितियों में भी केवल “ठीक हैं” बोलकर काम और सरकार दोनों चला लेते थे। उन पुतलों ने देश को कठपुतली बनाया और फिर पतली गली से निकल लिए। अब रोबोट की तरह काम करने वाले प्रधानसेवक देश को मिले हैं । उनका पुतला अब म्यूजियम की शोभा बढ़ाएगा और राहत की बात ये होगी की ये मित्रो -मित्रो का जाप करते हुए मन की बात  केवल  अपने मन में ही रख पाएगा।

व्यक्तित्व  की बलिहारी हैं , अभी वाले खुलकर अपने को प्रधानसेवक कहकर गुमान करते हैं  लेकिन पहले वाले ने कभी अपने आप को प्रधानसेवक  कहकर अपनी पीठ नहीं थपथपाई।  तो क्या हुआ अगर वो केवल एक परिवार के  प्रधानसेवक थे।  थे तो प्रधानसेवक  ही ना।

पुतलों से हमारा  नाता कायम चूर्ण और मार्गदर्शक मंडल के नेताओं से भी पुराना हैं। राज्यसभा से लेकर राज्यपाल भवन और राष्ट्रपति भवन तक अपने -अपने पुतले फिट करने की परंपरा पुरानी और “टाइम टेस्टेड” हैं। पुतले शांति और सहिष्णुता का सन्देश देने के लिए लगाए जाते हैं लेकिन जब पुतले वाचाल हो जाये तो हम सड़क -चौराहे पर पुतले जलाकर अपनी असहिष्णुता का प्रदर्शन करने से भी नहीं चूकते हैं। पुतले पहले अपने मालिकों के चीयर लीडर्स होते हैं जिन्हे मालिक, पुतले बनाकर मोक्ष  प्रदान करते हैं और मोक्ष मिलते ही, बिना रिवाइटल लिए ही, इनके हाथ में इतनी शक्ति आ जाती हैं की  रिमोट चलाकर किसी भी “रिमोट इलाके” में अपना शासन स्थापित कर सकते हैं।

Leave a Reply

3 Comments on "ईमानदार राजनीती पर भारी बेईमान मौसम"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
लोकेश जोशी
Guest
लोकेश जोशी

सही पकडे है भैया जी

akasotiya
Guest

Amit sharma ji bilkul sahi hisab lagaya h aapne. jab tak aapke jaise CA writer yu hi likhte rehenge.
bhaiya hamere desh ke logon ko koi ullu nahi bana sakta

अमित शर्मा (CA)
Guest

Thanks a lot Sir Ji, for the appreciation

wpDiscuz