लेखक परिचय

श्‍यामल सुमन

श्‍यामल सुमन

१० जनवरी १९६० को सहरसा बिहार में जन्‍म। विद्युत अभियंत्रण मे डिप्लोमा। गीत ग़ज़ल, समसामयिक लेख व हास्य व्यंग्य लेखन। संप्रति : टाटा स्टील में प्रशासनिक अधिकारी।

Posted On by &filed under दोहे, साहित्‍य.


hospitalपैरों की तकलीफ से वो चलती बेहाल।

किसी ने पीछे से कहा क्या मतवाली चाल।।

 

बी०पी०एल० की बात कम आई०पी०एल० का शोर।

रोटी को पैसा नहीं रन से पैसा जोड़।।

 

दवा नहीं कोई मिले डाक्टर हुए फरार।

अब मरीज जाए कहाँ अस्पताल बीमार।।

 

भूल गया मैं भूल से बहुत बड़ी है भूल।

जो विवेक पढ़कर मिला वही दुखों का मूल।।

 

गला काटकर प्रेम से बन जाते हैं मित्र।

मूल्य गला है बर्फ सा यही जगत का चित्र।।

 

बातों बातों में बने तब बनती है बात।

फँसे कलह के चक्र में दिखलाये औकात।।

 

सोने की चाहत जिसे वह सोने से दूर।

भ्रमर सुमन के पास तो होगा मिलन जरूर।।

 

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz